गुरुवार, 19 नवंबर 2009

पाठक मेरे !


पाठक मेरे! 
हाँ मैंने पढ़ी है तुम्हारी हर टिप्पणी
अक्षर, अक्षर , मात्रा , मात्रा
मैंने उनमें लय ढूढ़ने के जतन किए हैं
अपने लिए सम्मान प्यार तिरस्कार सब ढूढ़ा है
पाया है। 
वह बेचैनी भी ढूढ़ी है - 
काश ! थोड़ा ऐसे लिख दिया होता  
क्या बात होती ! 
कम्बख्त ने कबाड़ा कर दिया।
मैंने पाया है कई बार
स्तब्ध मौन - जब तुम बिना कुछ कहे चले गए।
वह स्पष्ट निन्दा बघार 
मेरे स्वर व्यंजन - व्यंजन स्वाद।
सब सवादा है।.... 
पाठक मेरे !
मैं मानता हूँ 
तुम भी पढ़ते होगे मुझे इसी तरह। 

31 टिप्‍पणियां:

  1. पाठक मेरे !
    मैं मानता हूँ
    तुम भी पढ़ते होगे मुझे इसी तरह....


    jee...hum to aapko bahut hi tanmayta se padhte hain...

    achchi lagi aapki yeh post.....
    ==================================
    kal aapki tippani se main abhibhoot hoon.... kaise aap bina mile ...bina samjhe ....sab kuch samajh lete hain?

    aapki tippani padh kar... aankh sach mein bhar aayi thi... aapne bilkul sahi kaha tha kal....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिल्कुल,

    ऐसे ही पढते हैं,

    और आज,

    मौन भी नही,

    स्पष्ट निंदा बघार,

    भी नही,

    ज़ाहिर है,

    पाठक हैं आपके।

    उत्तर देंहटाएं
  3. .
    .
    .
    "मैंने पाया है कई बार
    स्तब्ध मौन - जब तुम बिना कुछ कहे चले गए।
    वह स्पष्ट निन्दा बघार
    मेरे स्वर व्यंजन - व्यंजन स्वाद।
    सब सवादा है।....
    पाठक मेरे !
    मैं मानता हूँ
    तुम भी पढ़ते होगे मुझे इसी तरह। "

    लेखक मेरे!

    हाँ पढ़ता हूँ मैं तुम्हें
    बेचैन होने के लिये
    नींद खोने के लिये
    छुपकर मुस्कराने के लिये
    आंसू बहाने के लिये
    इक नई बहस शुरू करने को
    दुनिया बेहतर गढ़ने को

    मिलता है जब यह सब मुझे
    बिना कुछ कहे नहीं जाता मैं कभी

    हाँ, पढ़ता हूँ मैं तुम्हें
    एकदम तुम्हारी ही तरह...

    उत्तर देंहटाएं
  4. जरूर पढते हैं , आपको भला न पढे .. टिप्‍पणी करना न करना अलग बात है !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. पाठक जी को प्रणाम, वही है जो देता है उर्जा लिखने की और पात्र रचने का सामान भी. कामना है, मिलते रहें आपको पाठक.

    उत्तर देंहटाएं
  6. पाठक मेरे !
    मैं मानता हूँ
    तुम भी पढ़ते होगे मुझे इसी तरह....

    haN ! bilkul ! kyoNki aap bhi to ho Pathak Hamaare...

    उत्तर देंहटाएं
  7. जी फिकर ना करें पढता रहूँगा... आप पढने को मजबूर तो करते ही रहते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  8. तो लीजिये एक और पाठक की टिप्पणी :
    बेहतरीन लेखनी है आपकी और खूब चाव से पढ़े जाते हैं आप...और हाँ यह कविता भी सटीक लगी...

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह विनीत भाव ही तो उद्घोषणा करता है सृजन की विराटता की ।
    पहली ही पंक्ति, आत्मीय स्वीकार - केवल संबोधन नहीं है यह, विलयन है दो का ।

    ब्लॉग-जगत निरखे इस स्वीकृति को -
    "पाठक मेरे !
    मैं मानता हूँ
    तुम भी पढ़ते होगे मुझे इसी तरह।"


    @ "मेरे स्वर व्यंजन - व्यंजन स्वाद",
    इसे यूँ क्यों न लिख दिया भईया -
    ’मेरे स्वर-व्यंजन-व्यंजन-स्वाद’ ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जरूर पढ़ता हूँ आपको। आगे भी पढ़ूँगा। स्वर - व्यंजन की बात पर एक बात कहने से खुद को रोक नहीं पा रहा हूँ-

    शिक्षक (छात्रों से) - बच्चे बताओ स्वर और व्यंजन में क्या अन्तर है?

    एक छात्र - सर - स्वर मुँह से बाहर निकलता है और व्यंजन मुँह के अन्दर जाता है।

    हा -हा - हा-

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. भैया !!

    पाठक तो हम भी हैं आपके!!!
    बकिया तो सब माया!

    उत्तर देंहटाएं
  12. पढ़ने के बाद...पढ़ लेने के बाद...जो कुछ सोच रहा था टिप्पणी में लिखने को, वो सब प्रवीण शाह जी लिख गये।

    हर लेखक की एक अदनी सी आकांक्षा...हम पाठकगण आपके साथ हैं कविवर!

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक ऐसे समाज में जो पिछले कुछ समय से पाठक विहीन लेखकों या कवि-श्रोता की परस्पर भूमिका बदल इकाइयों में ही शेष होता जा रहा है,पाठक को पीठासीन करना आह्लादित करता है.

    इस टिप्पणी को एक अनियमित पाठक का जो कभी कभी लिखने का लोभ संवरण नहीं कर पाता,विनम्र हस्तक्षेप मान सकते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस रचना में न बोलने और चुप रहने दोनो के मायने बड़े गहरे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. kaise bhi hain paathak to hain na...tippani likhen na likhen..:)..number of hits bhi bahut bol deti hai..

    उत्तर देंहटाएं
  16. पढता हूँ मैं आपके पोस्ट में वर्णित एक पात्र बनकर !

    उत्तर देंहटाएं
  17. एक ज़माने के कवियों की याद आ रही है और इसी याद को आनंद वर्धन ओझा जी भी सजीव किये हुए हैं इन दिनों. फटकार के साहित्यिक तरीके भी देखिये कैसे कैसे होते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  18. हाँ पढ़ता हूँ मैं तुम्हें
    बेचैन होने के लिये
    नींद खोने के लिये
    छुपकर मुस्कराने के लिये
    आंसू बहाने के लिये
    इक नई बहस शुरू करने को
    दुनिया बेहतर गढ़ने को

    tiPpadi karne ko jhakjhorti kavita.
    Leejiye Sahab, hamari bhi ek tippadi sahej leejiye.
    Pathakon par likhi Tippadi ke liye
    Tippadi Khenchu kavita ke liye Badhaiyan.

    उत्तर देंहटाएं
  19. काश ! थोड़ा ऐसे लिख दिया होता
    क्या बात होती !
    कम्बख्त ने कबाड़ा कर दिया।

    इसीलिए तो हमारे जैसे कई पाठक
    स्तब्ध मौन - बिना कुछ कहे चले गए।...

    उत्तर देंहटाएं
  20. जरूर पढते हैं , आपको भला न पढे .. टिप्‍पणी करना न करना अलग बात है !!
    sheekha - http://www.helloraipur.com/

    उत्तर देंहटाएं
  21. स्वप्न अनेकों.....

    कुछ अर्ध-निद्रा के,
    कुछ अतृप्त इच्छाएँ....प्रसवरत!
    दिवास्वप्न तैरते हुए.....

    स्वप्न समुद्र
    आलोडित,
    ज्वार-
    बिखरते हुए!
    फेन बनती हुई-
    गाज बैठ्ती हुई!
    सर्प-गुंजलक
    विष-वमन!
    अंधकार-सर्वत्र
    स्वप्न समुद्र
    पुन: आलोडित!
    और मैं-
    अर्ध-निद्रित
    अर्ध-जागृत!

    उत्तर देंहटाएं
  22. किसी पाठक को सम्बोधित यह पहली कविता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. अपनी टिप्पणी दोहरा रहा हूं। कुछ जोड़ भी दूं।

    आपका कवि अधिक सजग और ईमानदार है। संवेदनाएं अपने आप में ईमानदार ही होती हैं।

    और यही वह चीज़ है, जो आपका पाठक बनाए हुए है। लेखक मेरे।

    उत्तर देंहटाएं
  24. खाली पाठक मेरे......
    झाजी मेरे काहे नहीं कहे ...हमहूं तो पढते हैं न ...
    जाईये कुट्टा ...

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।