गुरुवार, 14 जनवरी 2010

बहुभाषी ब्लॉगवाणी

screenshot
लगता है कि ब्लॉगवाणी द्विभाषी या बहुभाषी होने की राह चल चुकी है। कृपया पार्श्व का स्क्रीनशॉट देखें।
मुफ्त सेवा प्रदान करते इस एग्रीगेटर साइट की विषयवस्तु क्या हो, कैसी हो, किस भाषा में हो - इन पर निर्णय लेने के लिए इसका प्रबन्धन स्वतंत्र है। यह उनका अधिकार है।
लेकिन अंग्रेजी चिट्ठों की बाढ़ में हिन्दी चिट्ठे दिखने बहुत कम हो जाएँगे जो कि अभी विकसित होती हिन्दी ब्लॉगरी के लिए शुभ नहीं होगा।
बहुभाषी होने की स्थिति में ब्लॉगवाणी को प्रयोक्ता के लिए भाषा चुनने का विकल्प अलग से देना चाहिए ताकि जिसे जिस भाषा का ब्लॉग देखना हो वही दिखे। इससे अपेक्षाकृत कम ब्लॉग संख्या वाली हिन्दी ब्लॉगरी को फलने फूलने में सहूलियत रहेगी।
आप अपने विचार बताइए।

  

27 टिप्‍पणियां:

  1. आप सही कह रहे हैं. ब्लागवाणी के बहुत सारे नये फीचर्स बन कर रिलीज़ का इंतज़ार कर रहे हैं. फिलहाल हम उन्हें टैस्ट कर रहे हैं.

    ब्लागवाणी में अन्य भारतीय भाषायें जल्द ही सम्मिलित होंगी. इसकी प्रक्रिया चालू हो चुकी है.

    आपके पास भाषा चुनकर सेट करने की सुविधा होगी. मतलब अगर आप चाहें कि आप सिर्फ हिन्दी-मराठी की सारी प्रविष्टियां पढ़ पायें और बाकी भाषायें न दिखें तो हो पायेगा.

    जब ब्लागवाणी में नई भाषायें आयेंगी तब यह सुविधा साथ ही मिलेगी. यही नहीं आप ब्लागवाणी का इन्टरफेस भी अपनी पसंदीदा भाषा में देख सकेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  2. चलिए, सिरिल ही बता गये...तो मसला ही समाप्त!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुझे ब्लागवाणी के बहुभाषी भारतीय एग्रीगेटर के रूप में परिवर्तित होने की सूचना थी। वैसे भी ब्लागवाणी का मराठी संस्करण पहले से चल रहा है। पर बहुभाषी होने का प्रोजेक्ट बड़ा है उस में समय लगेगा। बहुभाषी होने का लाभ ये है कि दूसरी भाषाओं के लोगों में हिन्दी के प्रति संपर्क बढ़ेगा जो हिन्दी के लिए शुभ और लाभदायक ही सिद्ध होगा। ब्लागवाणी को मकर संक्रांति पर आगे बढ़ने के लिए बहुत शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ---------विचार परक लिखा आपनें , बढ़िया पोस्ट -------

    उत्तर देंहटाएं
  5. @ cyril gupta ji - ब्लागवाणी में अन्य भारतीय भाषायें सम्मिलित होना स्‍वागत योग्‍य है परन्‍तु यह बताने की भी कृ्पा करें आप भारतीय भाषाएँ मानते किन्‍हें हैं, जो नोट पर 15 भारतीय भाषाएँ लिखी होती है वह या आपकी अलग सूची है? विशेष रूप से यह बताएँ कि भारतीय भाषा उर्दू भी शामिल होगी या नहीं?
    जवाब का इन्‍तजार रहेगा,

    ब्‍लॉगवाणी रजिस्‍ट्रड मेम्‍बर
    मुहम्‍मद उमर कैरानवी

    उत्तर देंहटाएं
  6. स्वागत है। सिरिल जी, पहले कमेंट पर क्लिक करने से ब्लाग खुल जाते थे। लेकिन अब नही खुलते कृपया इसका समाधान करें। आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. उर्दू का मसला जटिल है... हमने भी सिरिल से उर्दू शामिल करने का अनुरोध किया था पर उनकी दिक्‍कतें जानकर लगा कि फिलहाल ब्‍लॉगवाणी उनसे बचे तो बेहतर। उम्‍मीद करते हैं कि भारतीय तथा पाकिस्तानी उर्दूदां प्रोगरामर कोई विकल्‍प दे ही रहे होंगे

    उत्तर देंहटाएं
  8. मैं कर्नाटक से हूं और तुलु भाषी हूं, यह एक मरती हुई भाषा है। अगर ब्लॉगवाणी इसे शामिल करे तो मैं ब्लाग लिखूंगी। ब्लॉगवाणी से अनुरोध है कि कृ्पा करके तुलु को जरूर शामिल करे।

    इसमें कोई मदद चाहिये हो तो मैं करने को तैयार हूं प्लीज!

    उत्तर देंहटाएं
  9. कुछ और भाषायें मैं यहां सुझा रहा हूं ब्लागवानि के लिये

    1. मगधी
    2. माळवी
    3. भोजपुरी
    4. अवधी
    5. ब्रजभाषा

    बेशक यह सब भाषायें हिन्दी से मिलती जुलती हैं लेकिन इन्हें अलग स्थिति मिलनी चाहिये

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्या कोई ज्ञानी बता सकता है कि चिट्ठाचर्चा पर की इस टिप्पणी में ऐसा क्या था जो इसे रोक रखा गया है?
    http://murakhkagyan.blogspot.com/2010/01/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  11. ज्यादा से ज्यादा भारतीय भाषाओं को शामिल किया जाना चाहिये और उसके अनुवाद की सेवा भी उपलब्ध हो तो बात ही कुछ और है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. भाषाओं को एक-एक कर ही सम्मिलित कर पायेंगे. अभी यह निश्चित नहीं है कि आखिरकार कितनी और कौन-कौन सी भषायें सम्मिलित होंगी.

    जिनमें अनुवाद और काम संभव होगा करेंगे. लेकिन भाषाओं का जोड़ना एक लगातार चलने वाला प्रोसेस है. पहले फेज़ में 4-5 भाषायें ही आयें.

    उत्तर देंहटाएं
  13. अच्‍छा विषय उठाया है आपने। सिरिल गुप्‍त की टिप्‍पणी से इस पर प्रगति का पता चला। सराहनीय कार्य है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. ब्लॉग वाणी का नया outlook और फीचर्स बहुत ही अच्छा है . ब्लोगवाणी ने एक बार पुनः साबित किया है कि वो नंबर वन अग्रीगेटर है .
    http://www.janokti.com/

    उत्तर देंहटाएं
  15. अच्छी जानकारी...और अगर अनुवाद भी मिले पढने को, तब तो सोने पे सुहागा

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी मंशानुरूप और सिरिल जी की घोषणानुरूप देख रहा हूँ ब्लॉगवाणी को बदला हुआ । काफी दिनों बाद आया हूँ नेट पर । ब्लॉगवाणी लुभा गया । इंटरफेस परिवर्तन और कंटेंट परिवर्तन ने काफी समर्थ बना दिया है ब्लॉगवाणी को ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. ब्लॉगवानी बहुभाषी हो इसमें कोई बुराई नहीं है किंतु इन भाषाओं में अँग्रेज़ी नहीं होनी चाहिए. साथ ही प्रत्येक भाषा के लिए प्रथक खंड हों.

    उत्तर देंहटाएं
  18. मैं भी सहमत हूं राव साब...इन एग्रीरेटर को कुछ प्राथमिकता तो बनानी पड़ेगी- भाषाई प्राथमिकता!

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।