मंगलवार, 23 फ़रवरी 2010

दूर देश से आई फगुनी बयार

23_02_2010_001_006_001
चित्र साभार : इंडियन एक्सप्रेस

20 टिप्‍पणियां:

  1. फ़ागुन में में चितवन चंचल हो गयी है। जरा सम्हाल के...।

    उत्तर देंहटाएं
  2. देवराज गिरिजेश क्यों तप भंग करवाने पर तुले हुए हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. गोया कि ब्रज की बाला पिचकारी लेकर फ़ागुन को सार्थक कर रही है....

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या बात है, इधर ये देवी बंदूक से खेल खेल रही हैं उधर इनके बन्धु बांधव भारतीयों के खून से खेल रहे हैं. पर होली है, सो हमारा केवल इनके चटक रंग देखेगे.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया लगा. होली की ढेरों बधाइयाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप और आपके परिवार को होली की शुभकामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. गज़ब है सर जी..अपन तो परदेसी फ़गुनी बहार के कर-कमलों मे सुशोभित यंत्र को पिचकारी समझ कर खुस हो रहे थे..मगर ऊ तो राय-फल है..जो खा ले तो खुद पिचकारी बन जाय..खैर ’मातृवत्‌ परदारेषु’ के प्रिंसिपल का अक्षर-मात्राशः पालन करते हुए (और अपने अग्रजों से भी ऐसी ही अपेक्षा रखते हुए ;-) ) आपको होली की पिचकारी भर भर रंगीन शुभकामनाएँ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. ठाकरे साहब इसके लिए क्या हुक्म है ? ये आस्ट्रेलिया से आई है ?

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।