रविवार, 11 अप्रैल 2010

प्रसन्न होऊँ ? अपने केश नोचूँ ? निर्लज्जता जारी रखूँ ?

नौ महीनों की ज़िद्दी निर्लज्जता के बाद जब मेरे पड़ोसी खुले सीवर मैनहोल पर चैम्बर बना कर ढक्कन लगाने के कार्य का श्रीगणेश हुआ तो मैं अति प्रसन्न हुआ। अब यह टेंसन खत्म होना था कि कोई भैंस सरीखा जानवर या बच्चा उसमें फिर से गिर जाएगा ।
लेकिन अब मुझे समझ में नहीं आ रहा कि:
- प्रसन्न होऊँ ?
- अपने केश नोचूँ ?
- निर्लज्जता जारी रखूँ ?
या
उपर सुझाए तीनों काम करूँ ?
आप स्वयं देख लीजिए।
11042010   
यह वही लखनऊ है जहाँ तीन हजार करोड़ की लागत से पथरीले पार्क बनाए गए हैं लेकिन मैनहोल का ढक्कन उपलब्ध नहीं है। मुझे यह अभी तक समझ में नहीं आया कि जब ढक्कन गोल था तो फ्रेम आयताकार क्यों लगवाया गया ? अनजाने में ही जल संस्थान ने मॉडर्न शिल्पकार का काम कर दिया है।
भारत की व्यवस्था का इससे अच्छा स्कल्प्चर नहीं हो सकता - आयताकार छेद पर गोलाकार ढक्कन जो ढक कर भी न ढक पाए। अन्दर की बजबजाहट दिखती रहे और काम पूरे होने की घोषणा भी हो जाय।
राष्ट्रीय दुर्व्यवस्था को हमारा शासकीय तंत्र ऐसे ही ढके हुए है। 

35 टिप्‍पणियां:

  1. aise posts ko to media cover nahi karegi....ha.n kareen saif ke rishto ko jaroor kaid karegi...YE BHARA DESH HE MERA...LEKIN YE LOKTANTR KA MEDIA BHI HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस प्रश्न को तो कम्पटीशन औऱ IIT के सिलेबस में डालना चाहिए कि एक आयत पर ढक्कन का माप यह है, बताओ कि ढक्कन का बाकी हिस्सा कहां गया :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेन होल इस तरह से ढ्क दिया गया है कि हाथी का पांव न धंस सके, बस।
    जब हाथी नहीं गिरेगा मेन होल में, तो कोई भी नहीं गिरेगा।
    कितना तो रटा होगा आपने भी बचपन में, हाथी के पांव में सबका पांव।
    तो ये तो अंडरस्टुड है सर कि हाथी का पांव नहीं तो किसी का भी पांव नहीं।
    लगाएये नारा:- हाथी नहीं गणेश है,
    बह्र्मा, विष्णु, महेश है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Damn innovative !

    A circular lid on rectangular frame !.....wow...This is called - "Thinking out of the box".


    Muskuraiye ki aap Laucknow mein hain !

    उत्तर देंहटाएं
  5. कहाँ तो तय था चरागाँ हरेक घर के लिए
    कहाँ चिराग मयस्सर नहीं शहर के लिए!
    (साभार)

    उत्तर देंहटाएं
  6. सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा…………………।यूँ ही तो नही कहा गया ना…………………और अगर नही है तो देश के कर्णधार बना देंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  7. मित्र, यह व्यवस्था की पारदर्शिता परिलक्षित करती है. कुछ भी छुपाना नहीं चाहते. अब पूरा ढ़क देते तो आप कहते कि मैनहोल में कुछ छुपा देना चाहते हैं. फिर आप की चिंता क्या थी, मैनहोल का खुला होना या खुले होने के कारण किसी का गिर जाना. तो अब कोई गिरेगा तो नहीं. अब आपकी चिंतायें बदलती रहें तो वो क्या करें.

    उत्तर देंहटाएं

  8. नागरिक के जान की कीमत क्या होती है ?
    एक मुआवज़ा... या और भी कुछ ?
    इस मेनहोल में आदमी केवल घायल होकर रह जायेगा,
    मुआवज़ा कम देना पड़ेगा, कि नहीं ?

    क्या एक नागरिक इस कीमत पर अपँग व्यवस्था को अपनी सेवा भी न देगा ?
    यदि वह स्वयँ ही अपँग हो गया तो सरकार को मुआवज़ा बढ़ाने का एक मौका और मिलेगा, कि नहीं ?
    क्यों ऎसी समाजविरोधी पोस्ट लिखते हो, गिरिजेश बाबू ?

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह तो मेरे व्यक्तित्व सरीखा है - चौकोर पर गोल ढक्कन फिट करने की जद्दो जहद।
    गंवई कोर पर साहबी एक्स्टीरियर!

    उत्तर देंहटाएं
  10. शहर के सुन्दरीकरण में एक और आर्ट का इज़ाफा है ये......
    ये पाबलो-पिकासो के नाम से होगी...समझा कीजिये आप...
    abstract आर्ट पर मुग्ध होंगी मैडम..बहिन जी...
    हाँ नहीं तो...

    उत्तर देंहटाएं
  11. इसीमें खुश रहिये कि कम से कम ढक्कन तो है भले ही गोलाकार है....अनजाने में गिराने का तो डर नहीं..चेतनामयी पोस्ट...

    उत्तर देंहटाएं
  12. सर जी अपने मुल्क मे यह कोई बहुत अचरज की बात नही है..क्योंकि ऐसे न जाने कितने आयताकार होल्स को ऐसे वृत्तीय ढक्कनॊ से ही ढ़क दिया जाता है..क्योंकि उस होल का आयताकार ढक्कन किसी और वृत्तीय मेनहोल को ढ़क रहा होगा..ऐज ए ढक्कन हम भी कही-न-कही फ़िट हो जाना चाहते हैं..’मिसफ़िट’ ही सही...

    उत्तर देंहटाएं
  13. फिलहाल निसपृहता से काम लें ...ये देश है वीर जवानों का अलबेलों का...विषयक गीत की पैरोडी बनाकर भी कुंठायें बाहर मत निकालिये !

    उत्तर देंहटाएं
  14. मेनहोल के अन्दर रहने वाले प्राणीयो को भी तो ताज़ी हवा की आवश्यक्ता होगी . इसीलिये ........

    उत्तर देंहटाएं
  15. पहले प्रसन्न होवें > आयत पर वृत्त हेतु
    फिर केश नोचें > जब कोई फंस/ गिर जाए
    निर्लज्जता जारी रखें > पुन: पोस्ट लिख कर

    :-D

    उत्तर देंहटाएं
  16. आप भी क्या गोल व चौकोर का झमेला लेकर बैठ गए? जाइए कितने ही तो पार्क बन गए हैं, कितनी ही मूर्तियाँ बनी हैं, उन्हें बनाने के लिए शिल्पकारों को नौकरी मिली अब बचाने के लिए एक नया सुरक्षा दल बनेगा। दो चार गिर गए, मर गए तो कोई बात नहीं। यह प्रदेश का हाल है। देश भर में एक परिवार के नाम से रास्ते, सड़क, पुल, चौराहे, दोराहे, योजनाएँ व जो चाहे बन रहा है। गनीमत है कि हम सबको भी वह नाम अपने आगे लगाने को बाध्य नहीं किया जा रहा।
    आप किसी चौकोर मूर्ति लगवाने का प्रस्ताव रखिए। देखिए ढक्कन से जल्दी मूर्ति बनकर आ जाएगी और वह कहीं भी फ़िट भी हो जाती है।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  17. मिसफिट होना इस देश में सरकारी नौकरी पाने वालो के लिए अघोषित योग्यता है

    उत्तर देंहटाएं
  18. शिकायत कर दीजिये फिर कुछ दिनों में ढक्कन आयताकार और फ्रेम गोल बनवा दिए जायेंगे !

    उत्तर देंहटाएं
  19. ....लगता है ढक्कन साथ लेकर घूम रहे हैं आखिर भय जो होगा कोई पीछे से लात न मार दे !!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. भाईसाहब ढक्कन तो पहले ही बना लिये गये थे ..

    उत्तर देंहटाएं
  21. अपने देश में विकास की यही दशा और दिशा है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह रे ' शान-ए-अवध ' लखनऊ !

    न्यू योर्क के सारे मैन होल हैं ' मेड इन इंडिया ' तकनीकी परिपुष्टता के नमूने .

    हाँ अपने देश में हम परिपूर्णता की परिभाषा नहीं खोज पाते / जानते .

    और सारी टिप्पणियां पढ़ मज़ा भी आया !

    उत्तर देंहटाएं
  23. @ प्रवीण पाण्डेय
    बंधू वर्ग और वृत्त का अंतर भले न समझ आता हो बहन जी को पर ,,,,,,,,,,,

    ' वर्ग ' और ' वित्त ' का तो आता है .

    असली कुंजी तो यही आइ . बाकी जो या जिसका मन करे गिरे भहराए ,बहिन जी के ठेंगे से :) .

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही शर्मनाक स्थिति है इस प्रदेश की। शिकायत करके देखिए तितर-बितर कर दिये जायेंगे आप शायद उसी तरह जिस तरह माला प्रकरण पर कुछ प्रमुख सचिव लोग हो गये।
    अम्बेडकर जयन्ती मनाइये...। लगता है चैन से रहना पसंद नही है आपको...।

    उत्तर देंहटाएं
  25. अगर पूरा ढक जाएगा तो पानी भाप बनकर उड़ेगा कैसे :)

    उत्तर देंहटाएं
  26. - प्रसन्न होऊँ ? - निश्चित ही प्रसन्न हो सकते हैं क्योंकि अब उस गटर में कोई गिर नहीं सकेगा । पड़ोसी को साधुवाद ।

    - अपने केश नोचूँ ? -केश नोच कर क्यों ज्ञानजी के नाऊ के पेट पर लात मार रहे हैं ।

    - निर्लज्जता जारी रखूँ ? -इस बारे में मैं कुछ नहीं कहूंगा । ब्लागिंग एक निरंतर कर्म है । जारी रखें ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. har taraf pardarsita lane ki jo bate sarkar or vibhag karte hai...wahi to kiya hai....or agar aapko zyada samsya hai to paise kharch kariye or suchana ke adhikar ka istemal kariye...or wahan bhi aisi hi pardarsita mil jayegi...

    उत्तर देंहटाएं
  28. क्या इसमें कुछ दार्शनिकता भी ढूँढ़ी जा सकती है... या अध्यात्म ?

    उत्तर देंहटाएं
  29. मुख्य विषय से कुछ हट कर-- मेन होल चकोर नहीं होने चहिये क्योंकि ढक्कन उसमें गिर सकता हैं. गोल ढक्कन कभी गोल होल में नहीं गिरता.

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।