मंगलवार, 7 दिसंबर 2010

नारी और नारीवादी में अंतर

इस लेखमाला को लिखने की प्रेरणा एक लंठ ब्लॉगर से चैट के दौरान हुई। भूमिका के तौर पर जो कुछ थोड़ा सा लिखा था, कैरेक्टर एनकोडिंग के चक्कर में स्वाहा हो गया। भारतीय तंत्र, पंथ परम्पराओं और लंठई के आलोक में पश्चिमी विचारधारा को समझने और उसकी विसंगतियों से साक्षात होने का महत आयोजन होगी यह लेखमाला। 
 हर व्यक्ति के भीतर एक नर तत्व और नारी तत्व, संसार में उनकी अभिव्यक्ति, घूमती सममिति, संतुलन-असंतुलन,  तांत्रिक और पगान परम्परायें, शिवा के साथ युगनद्ध शिव, शिवा के वक्ष से दूध पीते शिव, शिवा के चरणों में शिव, शिवा को उपदेश देते शिव, अर्धनारीश्वर, काली कराली के चरणों तले रौंदे जाते शिव, शिवा के मृत शरीर को धारण कर विक्षिप्त घूमते शिव, 64 योगिनी, शक्तिपीठ, ज्योतिर्लिंग, खजुराहो के मन्दिर, स्मृतियों और परवर्ती विचारकों के पूर्वग्रह, संतति केन्द्रित स्त्री के कामभाव का जननी बनने के बाद उदात्तीकरण, पुरुष मानक, पुरुष द्वारा दमन, स्त्री का विद्रोह और पक्षपात, वादों के पूर्वग्रह और स्त्री पुरुष दोनों की विकृत व्याख्याएँ  .... ढेर सारी बाते हैं।  
आलसी के पास तीन बड़े काम हैं - बाउ, प्रेमपत्र और बोधगया की यात्रा (ओं मणि रक्तपद्मे हुं हृ:) 
अधूरे काम हैं - मार्क्सवाद पर डा. केली रॉस के लेख का अनुवाद, यौनांग उच्छेदन, लम्बी कविता 'बताओ तुम्हारा स्वागत कैसे करूँ'
तो मित्रों! प्रतीक्षा कीजिए।
 nice वाले को स्पेशल आभार ;) 
देवेन्द्र जी ने बहुत अच्छी बात कही है। ललित जी ने दूर की कौड़ी के बहाने मामले की गम्भीरता को समझा है तो राज भाटिया जी, दीपक जी और प्रवीण जी की टिप्पणियाँ मुद्दे की जटिलता की ओर संकेत करती हैं। 
इस लंठ आलसी की दृष्टि पड़ गई है तो यह मुद्दा भी विश्लेषित होगा लेकिन पहले अधूरे तो पूरे हों! 
तब तक सौन्दर्य लहरी पर सम्भवत: हिमांशु पांडेय जी कुछ ले कर आयें। 
लेंठड़े के बहाने नारीवाद पर लिखने का अनुरोध भी किसी ब्लॉगर से किया है जिसकी सैद्धांतिक सहमति मिल चुकी है लेकिन सबके पास और भी ग़म हैं ब्लॉगरी के सिवा। 
प्रतीक्षा कीजिए। 

18 टिप्‍पणियां:

  1. इत्ते भारी भारी अंग्रेजी शब्दों से इ कठमगज कैसे नारी और नारीवादी में अंतर समझेगा.

    कैसी परीक्षा है आचार्य?

    उत्तर देंहटाएं
  2. इत्ते भारी भारी अंग्रेजी शब्दों से इ कठमगज कैसे नारी और नारीवादी में अंतर समझेगा.

    कैसी परीक्षा है आचार्य?

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे बाबा क्यो इस पंगे मे फ़सांते हो....

    उत्तर देंहटाएं
  4. भैया जी,
    उसके लिए नारीवाद को समझना होगा और उससे बढ़ के, नारी को समझना होगा!!!!
    गजबे दूर की कौड़ी ले के आयें हैं आप तो......

    उत्तर देंहटाएं
  5. लोक-शास्‍त्र, परा-अपरा संदर्भों को ताजा कर फिर से आना होगा यहां.

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रतीक्षा बस इस आस में सही जा रही है कि मन को खुराक-ए-जन्नत मिलेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अरे ई कौन से भूलभुलैया में पड़ने जा रहे हैं.........

    पहिले बाऊ कथा और पिरेम पतरवा को पूरा कीजिये नहीं तो...........बूझ गए न!

    उत्तर देंहटाएं
  8. ee 'waad' t' apne aap me ekta vivad
    hoit aich....

    aa tahi par apnek klisht bhav aur bhasha.....

    jai hind-jai bloging

    उत्तर देंहटाएं
  9. अगर काम भाव तिरोहित हो जाए, तो पुरुष और नारी में क्या अंतर?

    वाद, कभी कोई भी, सही नहीं होता |

    उत्तर देंहटाएं
  10. छोटी पोस्ट लिखने को धन्यवाद। बकिया अपन को नारी/नारीवाद/अंतर से बहुत कुछ लेन-देन नहीं है! अत: स्पष्ट नहीं भी हुआ, तो कोई बात नहीं।


    मेरे ब्लॉग पर आइयेगा।

    भीगी पलकें और टपकते आंसू

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी लेखनी और विचारधारा सशक्त है, अधीरता से प्रतिक्षा रहेगी इस विषय पर!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बौद्धिक संतृप्ति के लिए मैं भी छटपटा रहा हूँ ....शुरू कीजिये !

    उत्तर देंहटाएं
  13. लानत है उस लंठ पर जो आपसे प्रेरणा लेने के बजाये आपको लिखने की प्रेरणा देने लगा !

    ब्लागिंग एक ब्लागर का लैपटाप खा गयी में नारी और नारीवाद का साम्य ज़रूर ढूंढियेगा !

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।