गुरुवार, 12 मई 2011

बेल का रस

अभी अभी दो गिलास बेल का रस गटके हैं। 
चम्मच से ककोर ककोर गूदा खाये हैं (देखिये कितना साफ कर दिये हैं खपड़ोई को!)।

 बहुत दिनों बाद आज श्रीमती जी को हृदय से धन्यवाद दिये हैं(संडे को पार्टी पक्की - बेल के नाम!)...
बहुत दिनों बाद ईश्वर को याद कर धन्यवाद दिये हैं कि यूरोप जा बसने का प्लान ठंड से डरा कर कैंसिल करा दिया ... वहाँ बेल कहाँ मिलते? गर्मी में भारत कहाँ आ पाते? ;) ...
तृप्त हो गया आज तो! 
तृप्त होकर आदमी आँय बाँय भी बकता है। NRI साथी बुरा न मानें प्लीज!

11 टिप्‍पणियां:

  1. जय हो, हम भी ढूढ़ते हैं बेल, बंगलोर में।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सारी गर्मी पापा सुबह सुबह ये अमृत पिलाते थे ..गुडगाँव में तो बेल देखे भी नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  3. गर्मी बढ़ी गयी है ..इस कुल बेल वेल का रस पि के तनी आनंद आ जाता है..
    प्यास जग गएल बेल के रस पिने के ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बधाई ! :-)
    बड़ा मेहनत का काम है...अपने बस का नहीं इसे खा पाना !

    उत्तर देंहटाएं
  5. अजी हमारे यहां भी थोडी थोडी गर्मी पडने लगी हे,करीब २०c. के करीब, आ जाओ युरोप मै साथ मे एक अटेची बेल का फ़ल एक अटेची आम लेते आना, ओर हां बडी वाली आटॆची लाना दोनो जिस मे ५० ५० किलो बेल ओर आम आ सके, हम बुरा क्यो मानेगे, जहां हम बेठे हे आप भी आ जाओ

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम तो अभागे भारत में रहकर भी बेल का शरबत सालों से नहीं पिए हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सफाचट खपड़ोयी देख मुझे डेजी की बेल प्रियता याद आयी -इस सीजन में अभी उसे इस नायाब फल का इंतज़ार है

    उत्तर देंहटाएं
  8. देखना कहीं जमालघोटे वाला असर ना हो जाये। कभी कभी बेल का मूड बिगड जाता है। जिस तरह आपने इसके खोपडे (खपडोई) को सफाचट किया है, यह बदला भी ले लिया करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. भयंकर सफाचट!
    शुक्र है बेल से भेंट हो गई, कहीं मानुष होता तो....!

    उत्तर देंहटाएं
  10. एकदम साफ़ खपटे तो दो बेलों के लग रहे हैं - शर्बत बस दो ही गिलास बना ?
    बहुत सुगंधित-स्वादिष्ट होता है न -तृप्ति देनेवाला !

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।