सोमवार, 26 सितंबर 2011

मेरा स्वार्थ ही मेरी प्रार्थना है।

रात भर अन्धेरे से जूझता रहा 
सलवटें गवाह हैं। 
दिन चटका है, खिलखिलाती धूप है 
गाँव के गाँव 
शहर कस्बे सब तबाह हैं । 
और तुम 
पड़े हुये हो आइ सी यू के बेड पर 
न रात, न दिन, न साँझ, न अरुण 
बस एकरस दुधिया उजाला 
नियत लक्स का। 
ऐसे में प्रार्थना किससे करूँ? 
क्या करूँ? 


लहरियाँ हैं साँस की, वाद्य की और स्वर की 
कि राख से उठते हैं अँखुये
झोपड़ी फिर बनती है 
हरियाली फिर सजती है 
जोगी कहते रहे हैं 
जीवन ऐसे ही चलता है 
तो ...प्रार्थना क्यों?
किससे करूँ कि जब सब 
ऐसे ही चलता है?  


नहीं पता मुझे।  
वह मौन है जो खिंचता है जब
सब दह जाने के बाद एक गठरी काँधा ढोता है 
जिसमें होते हैं आटा, कपड़े और विवशतायें
जिसकी गाँठ को जिजीविषा कहते हैं। 


उसे आज तुम्हें देता हूँ
(सुना है बाँटने से बढ़ती है) 
आज उसे बाँटता हूँ
सिक्किम को 
जौनपुर, बनारस, आज़मगढ़ ... 
बढ़ियाये गाँवों को 
लीलावती हॉस्पिटल को 
संसार में सब ओर - 
जहाँ भी युद्ध है, मृत्यु है, विनाश है
ईति है, भीति है, ध्वंस है, उपास है -
इस प्रात मैं बाँटता हूँ  
कि आज रात मुझे नींद आये 
मेरा स्वार्थ ही मेरी प्रार्थना है। 

 

17 टिप्‍पणियां:

  1. सच है। भय ने भगवान और प्रार्थना का सृजन किया है। प्रार्थना जब सर्व जन हिताय, सर्व जन सुखाय के लिए होती है तो इसमें सभी का स्वार्थ सम्मिलत हो जाता है। जैसे यह कहना...
    संसार में सब ओर -
    जहाँ भी युद्ध है, मृत्यु है, विनाश है
    ईति है, भीति है, ध्वंस है, उपास है ..
    ....जिजिविषा की गांठ खूब खोली है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कमाल की रचना !
    असाधारण चिंता और अपना स्वार्थ ...
    गहन चिंता में शक है कि नींद आ पाएगी ! .
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कल 27/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपना स्वार्थ ही परमार्थ बन जाये तो उसे क्या कहें ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. वास्तविक अभ्यर्थना!!
    सच्ची प्रार्थना!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. मेरे गुरुदेव कहा करते हैं - समस्या स्वार्थी होने में नहीं, ’स्व’ को संकुचित कर लेने में है. आपकी कविता में उनकी ही बात सुनाई दी मुझे. धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  7. मन विचलित है मेरा भी, अपने ही स्वर सुनायी दे रहे हैं. यदि यह स्वार्थी होना है, तो अच्छा है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. .गहरी सोच लिए आपकी ये लेखनी ....ईश्वर की प्राथर्ना में हम भी शामिल है ....सिक्किम का दर्द पूरे देश का दर्द है ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. जब औरों की पीड़ा समझने की उत्कण्ठा बढ़ जाती है तो आँखें भी सहयोग करना बन्द कर देती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. मूक हूँ, और सोच रहा हूँ, प्रार्थनाएं ऐसे भी (ही?) तो उपजती होंगी।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच्ची प्रार्थना अवश्य सुनी जाती हैं, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  12. जहाँ भी युद्ध है, मृत्यु है, विनाश है
    ईति है, भीति है, ध्वंस है, उपास है ..

    उत्कृष्ट अभिव्यक्ति/प्रार्थना...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  13. संसार में सब ओर -
    जहाँ भी युद्ध है, मृत्यु है, विनाश है
    ईति है, भीति है, ध्वंस है, उपास है -
    इस प्रात मैं बाँटता हूँ ..
    अत्यंत भाव पूर्ण प्रस्तुति ...सादर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. संसार में सब ओर -
    जहाँ भी युद्ध है, मृत्यु है, विनाश है
    ईति है, भीति है, ध्वंस है, उपास है -
    इस प्रात मैं बाँटता हूँ ..
    अत्यंत भाव पूर्ण प्रस्तुति ...सादर !!!

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।