गुरुवार, 8 दिसंबर 2011

स्त्री सूक्त

अंत में ईश्वर ने मनुष्य की रचना की और उसने पहली भूल की, उसने उसे जी भर निहारा ।1।  
अपनी इस अद्भुत कृति पर वह मुग्ध हुआ ।2।
इतना मुग्ध कि मनुष्य का साथ तक असहनीय हो गया। उसने उसे पृथ्वी पर दूर भेज दिया ।3।
मनुष्य को पहली सीख मिली – प्रियता की पराकाष्ठा है निकटता का असहनीय हो जाना! दूरी 4।
वह स्वयं के निकट हुआ और बिना किसी ईश्वरीय हस्तक्षेप के एक से अनेक हुआ ।5। 
आसक्त ईश्वर ने मनुष्यों के पास अपना दूत भेजा। उन्हें सब कुछ बताने को कहा और दूत को चेताया कि उनसे आँखें न मिलाना ।6।  
 जीवन, कर्म, मित्रता, प्रेम, विवाह, संतान, धर्म, समाज, विधि, न्याय, अपराध, दंड, मृत्यु आदि सब पर उसने उन्हें सन्देश दिया। मनुष्य सिर झुकाये सुनते रहे। उनकी आत्मायें तृप्त हो गईं। उन्हों ने जीना समझ लिया ।7।  
संतुष्ट दूत प्रस्थान को मुड़ा तो पीछे से एक स्वर आया – रुको!8।  
वह मुड़ा। एक स्त्री उसके विशाल शुभ्र वस्त्र के एक कोने को पकड़े भूमि पर बैठी थी। पहली बार किसी मनुष्य ने उसके सामने सिर उठाया था। स्त्री ने प्रश्न किया – सब कुछ तो ठीक है लेकिन क्या करें यदि प्रेम की टीस सताना न छोड़े?9।  
दूत ने पहली बार किसी मनुष्य से आँख मिलाया। वह पहला अपराध था, स्वर्गीय कहलाया। स्त्री कारण थी, घृणित हुई ।10।  
चमकता सूरज मन्द हो गया,
सुगन्धित समीर बन्द हो गया,
समुद्र की लहरें शांत हो गईं,
ईश्वर की वाणी पथ भूल गई ।11।  
सम्मोहित से दूत ने उत्तर दिया – अभी जा रहा हूँ। यात्रा से लौट कर बताऊँगा ।12।  
दूत कभी नहीं लौटा। वह भटकता रहा। वह प्रेमग्रस्त हो गया था ।13।  
ईश्वर को पहली बार निराशा, क्रोध, क्षोभ और मोह ने ग्रसित किया ।14।  
उसने तय किया कि अब और किसी दूत को नहीं भेजेगा ।15।  
सदियाँ बीतती रहीं। मनुष्य भूलते गये। स्मृति सुरक्षित रखने को उन्हों ने कई कहानियाँ गढ़ डालीं लेकिन भूलना जारी रहा ।16।  
मनुष्यों के बीच से ही स्वयं को दूत कहने वाले होते रहे और अपनी बातों को ईश्वरीय कह कर प्रचारित करते रहे ।17।  
वे सभी पुरुष थे। सबने स्त्री का निषेध किया। उसके लिये आचार संहितायें गढ़ीं और दंड विधान बनाये। मनुष्य का पहला अपराध स्त्री ने किया था ।18।  
सबने माँ, एक स्त्री, की महिमा गाई। इससे उन्हें अपने होने पर गर्व होता था, उनके भीतर कुछ नरम नम होता था ।19।    
कान और आँखें बन्द करने पर भटकते दूत की आहट मिलती है ।20।
मनुष्य अपनी कहानियों और गीतों में प्रेम के उस प्रश्न को समझने सुलझाने के यत्न करता रहता है जिससे ग्रसित दूत उनके भीतर भटकता रहता है ।21।  
आहट भुलाने को गीत गाये जाते हैं। स्त्री के बिना गीत नहीं बनते ।22।
संगीत अंतिम अपराध है। मनुष्य इससे आगे अपराध नहीं कर सकता ।23।
दूत का अंतिम अपराध अभी होना है, वह प्रेम से मुक्ति देगा ।24।
उस दिन ईश्वर की अंतिम भूल घटित होगी। उस दिन प्रलय होगा ।25।
प्रलय का दोष स्त्री के ऊपर होगा। वह ईश्वर को भ्रष्ट करेगी ।26।
वह दोष धारण करेगी और सृष्टि पुन: रच जायेगी ।27।
सृष्टि में पुन: स्त्री मनुष्य से अलग कहलायेगी और ईश्वर पुरुष होगा ।28।
पुन: लिखा जायेगा - अंत में ईश्वर ने मनुष्य की रचना की और उसने पहली भूल की, उसने उसे जी भर निहारा ।29।

21 टिप्‍पणियां:

  1. सम्मोहित पढ़ती चली गयी....

    कहूँ क्या, कुछ सूझ नहीं रहा....

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरी पहली टिप्पणी लगता है ईश्वर या दूत ने उड़ा दी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वर्षों के अध्ययन, अनुभव या ध्यान का निचोड़।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी पिछली पोस्ट पर की गई टिप्पणी की पुनः-प्रस्तुति मेरी ओर से!! मुग्ध हूँ (प्रेमासक्त भी कह सकते हैं).. एक नयी व्याख्या उस चिरंतन विभेद को रेखांकित करती हुई.. एक नई दृष्टि!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. अंततः मूल पर लेखकीय वापसी का बोध कराती प्रविष्टि ! स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. सृष्टि के प्रथम सार से लेकर अंतिम सार तक .........
    सनातन दर्शन का सार ...........
    एक सम्मोहन ......एक भविष्यवाणी ......
    चक्र गाथा ........
    सत्यम-शिवम्-सुन्दरम ..........
    अभिभूत हूँ ........

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. जिस सिरे से सुक्त का सुत्र पकड़ा, उसी छोर पर समापन हुआ।

    सिद्ध हुआ कि धरती गोल है। :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. परन्तु गलती इश्वर ने नहीं की - गलती की है स्वयं को इश्वर समझें वालों ने - जो इश्वर का हवाला देकर बहुत से कथन कहते रहते हैं |

    उत्तर देंहटाएं
  10. कल रात ही मोबाइल पर पढ़ लिया था लेकिन कमेंट नहीं कर पाया। अब दुबारा पढ़ा।

    अद्भूत रहा यह लेखकीय मंथन। अद्भूत।

    उत्तर देंहटाएं
  11. वह तो हमेशा अपराधिनी रहेगी-पूछने की हिम्मत क्यों की !

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह! ओल्ड टेस्टामेण्ट तो मैत्थू/मार्क/ल्यूक/जॉन के थे। ये टेस्टामेण्ट किस संत का है?

    उत्तर देंहटाएं
  13. ईश्वर ने मनुष्य की रचना की और उसने पहली भूल की, उसने उसे जी भर निहारा ।

    jai baba banaras.....

    उत्तर देंहटाएं
  14. और एक हुए थे ब्लाग- वैदिक ऋषि गिरिजेश राव
    ऊपर जिनकी रचना तुमने पढी है......
    (धुर अतीत अंतर्जाल से रिट्रीव किया एक दुर्लभ दस्तावेज ,२३३३,प्लेमेडा,अल्फ़ा सेंटोरी सोलर सिस्टम )

    उत्तर देंहटाएं
  15. अति सुन्दर सूक्त, कोई भाष्य रचे तो काम बने

    उत्तर देंहटाएं
  16. रोचक गाथा ..एक पल को लगा कि बायबिल का कोई हिस्सा पढ़ [सुन] रही हूँ..आप का यह लेख बोलता सा है ..
    ***ईश्वर भी एक पुरुष ही है...सृष्टि का रचियता!!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. "मनुष्यों के बीच से ही स्वयं को दूत कहने वाले होते रहे" कपिलवा जिस दिन इधर आया आपका ब्लॉग नहीं छोड़ेगा. :)

    उत्तर देंहटाएं
  18. ??????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।