सोमवार, 6 फ़रवरी 2012

बसंत की ऐसी तैसी ...


बसंत माने जिसमें संत भी बौरा जायँ। बसंतपंचमी आई और गई। अधेड़ और बूढ़ों ने गुजरे जमाने याद कर आह भरे। पीले कपड़ों में उन गालों की ललाई याद की जिन पर अब वक्त की झुर्रियाँ हैं और शाम को ब्लड प्रेशर की दवा खा खाँसते सो गये। जवानों को पता ही नहीं चला हालाँकि फेसबुक पर आहें भरते अंकल टाइप के जवान बसंत बसंत चिल्लाये भी। उधार खाते का वैलेंटाइन डे आने वाला है, जवानों को और मार्केटिंग कम्पनियों को उसका इंतज़ार है। धुँआधार तैयारियाँ चालू हैं। वैलेंटाइन बाबा भी संत थे। बौराने का भरपूर मसाला दे गये। दूरदर्शी थे। उन्हें पता था कि सुदूर इंडिया में जब जवान लाइफ के टेंशन में बसंत काल की फसंत विद्या भूलने लगेंगे तो उनका डे ही काम आयेगा। जमाना गवाह है, बड़े बौरान टाइप के संत थे।

जवानों को बसंत या किसी संत से कोई फर्क नहीं पड़ता। उन्हें तो बस फँसने फँसाने का बहाना चाहिये। सारी फसंत विद्या लिये मोबाइल जो साथ में है! भाँति भाँति के एस एम एस और टाक स्कीम – अगर आप फँसानू जोड़े हैं तो आपसी बातचीत मुफ्त और छ्त्तीस घंटे बतिया लिये तो उसे तिरसठ करने के लिये पास के कॉफी हाउस में कॉफी मुफ्त।

दाँत चियारने, आँख मारने, ताली बजाने, लजाने, रूठने, मनाने, चुम्मा लेने आदि आदि सबके तो इमोटिकॉन चैट बॉक्स में बने ही हुये हैं। कितनी सहूलियत रहती है! गॉड नोज पुराने जमाने में इनकी ऐक्टिंग करने के लिये कितनी मेहनत करनी पड़ती होगी! ओल्ड फैशन्ड यू नो! फूल तक चैट बॉक्स में बन जाते हैं, असली फूलों के फूलने का मौसम जानने, निहारने, चुनने में बड़ी ट्रबल है। शियर नॉनसेंस! आइ ऐम एलर्जिक टू पॉलेन, यू नो! वैसे भी फूल एक्जीविशन में ही अच्छे लगते हैं। देखो दूर से, छुओ मत। छूने के लिये तो ... ही ही ही।

माइ डैड इज सुपर्ब! ये देखो मस्त बाइक गिफ्ट किया, अभी तो ड्राइविंग लाइसेंस भी नहीं पास में।
यू आर ग्रेट डैड!
चिपक कर पीछे बिठा के घूमने घुमाने का मज़ा आप लोग क्या जानो? पता है इससे गल्स को गिफ्ट करने का ग्रेट तरीका भी आ जाता है। वो ढली चाँदनी आंटियाँ हैं न! चेन पहन कर शाम को सब्जी लेने जाती हैं। बस एक झटका और गिफ्ट मनी हाथ में। हाउ कूल!

हम तो हरदम बसंत के स्प्रिंग मोड में रहते हैं। उसके आने जाने को जानने से क्या होगा? घंटा!
ये देखो ये आर्टिकल भी किसी अंकल टाइप ने ही लिखा है। बोर! महाबोर!! थम्स डाउन किधर है? 

17 टिप्‍पणियां:

  1. बाबा चरस बो गये, अब इतना नशा सवार है कि १४ साल की शादी के बाद भी गिफ्ट चाहिये, क्या कीजियेगा, काटिये चरस का फसल..

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम तो हरदम बसंत के स्प्रिंग मोड में रहते हैं। उसके आने जाने को जानने से क्या हो

    jai baba banaras...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बोर करने वाले अब्कल को नमस्कार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बसंत सदियों से फसंत ही रहा है ..बचे के रहना रे बाबा !मकारों से दूर रहना इन दिनों....मतलब मीन ,मीनाक्षी ,मुद्राएँ मैथुन आदि आदि ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. .. और मक्कार मक्कारियों,मक्कारिनों से भी ....मक्का नाम ऐसे ही थोड़े पडा ... :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब का कहूँ .... पुराने चावल मे माड़ भले न हो खुदबुदाना नहीं न भूलते

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपने तो वो emoticons वाला डिब्बा भी नहीं रखा नीचे, वरना बजाते ताली :)

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।