मंगलवार, 14 फ़रवरी 2012

उसके लिये जो कभी नहीं थी

अंग्रेजी कविताओं और गीतों में गोते लगाने और रचने का भी मुझे शौक रहा है। पाश्चात्य ध्वनियों में प्रवीणता न होने के कारण उन्हें प्रस्तुत करने से बचता रहा हूँ। कभी इनके लिये एक अंग्रेजी ब्लॉग भी बनाया था लेकिन ....
जोगी के गाये गीत के ऑडियो का परिष्कार करने के प्रयास में लगा हूँ तब तक एक अनाम काल्पनिक प्रेमिका के नाम रची इन अंग्रेजी कविताओं का आनन्द उठाइये:

(1) I seek your kiss

I seek your kiss!
flowers will die and leaves shall fall
this moment when dew is still falling
I seek your kiss
a little later
everything will turn to smoke
I shall die and fly high in the sky
never again to fall
this moment when dew is still falling
I seek your kiss. 


(2) I know

When you melt outside
There are sweating and tears.
But I know a melting inside
Latent heat of which
Burns us, then we are warm
And then
We freeze together
And time dies!

इसका हिन्दी भावानुवाद ऐसे किया:

गुप्त ऊष्मा
बाहर पिघलन – स्वेद।
भीतर पिघलन – हवन।
तपते हम - जमते हम
काल – दिवंगत!

13 टिप्‍पणियां:

  1. वसंत पंचमी से संत वेलेंटाइन दिवस तक आते आते ब्लॉग प्रविष्टियाँ भी भोजपुरी से अंग्रेज़ी में बदलने लगीं, अनुभवी विद्वज्जन यूँ ही इलीट ब्लॉगर नहीं कहते हैं तुम्हें। वाकई छुपे रुस्तम हो, मन आया तो दिखे वर्ना वर्षों तक अंतर्ध्यान!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @ इलीट :) - यह उनका प्यार है।
      @ भोजपुरी से अंग्रेजी - कल ही किसी ने फरमाइश की कि होली आ रही है तो 'अरे बकलोल, तनि ताक न रे' दुबारा से हो जाय ;)

      हटाएं
  2. एक चुम्बन की तुम्हारे चाह है
    फूल मुरझाएंगे, पत्ते भी झुलस जायेंगे
    इस पल गिर रही शबनम
    मुझे बस एक चुम्बन की तुम्हारे चाह है.
    कुछ समय के बाद
    सबकुछ बस धुंआता सा रहेगा
    मैं फनां हो आसमानों में चला जाउंगा
    फिर शायद, नहीं गिर पाउँगा इस भूमि पर
    जबकि यहाँ है गिर रही शबनम
    मुझे बस एक चुम्बन की तुम्हारे चाह है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाह! आप के अनुवाद के बाद कविता को कई बार पढ़ा। कुछ अंग्रेजी कंट्री गीतों को सुनने के बाद पता चला कि इसमें लय है। लगा कि Assonance और Consonance के प्रयोग द्वारा इसे गेय बना सकता हूँ। जल्दी ही प्रयास करता हूँ।

      हटाएं
  3. तो वैलंटाईन डे पर गजब फ़िरंगी कविता पढ़ने को मिली है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बै महराज! ई एकदम भोजपुरिया जमीन की कविता है, अंगरेजी में बा त का भइल? देखिये:
      पात झरे, ओस गिरे, बरसे ना तोर नेह रे निरमोहिया! ... अब इसी लय पर पूरी कविता को गीत में बदला जा सकता है।

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. :) हाँ, वो तो है।
      तुम्हारी फेवरिट रॉबर्ट बर्ंस की कविता लगा रहा हूँ:
      A Red, Red Rose

      Oh my luve is like a red, red rose,

      That's newly sprung in June:

      Oh my luve is like the melodie,

      That's sweetly play'd in tune.

      As fair art thou, my bonie lass,

      So deep in luve am I;

      And I will luve thee still, my dear,

      Till a' the seas gang dry.


      Till a' the seas gang dry, my dear,

      And the rocks melt wi' the sun;

      And I will luve thee still, my dear,

      While the sands o' life shall run.


      And fare thee weel, my only luve!

      And fare thee weel a while!

      And I will come again, my luve,

      Tho' it were ten thousand mile!

      हटाएं
  5. आदिम भावों के प्रस्फुटन में भाषा कोई ख़ास रुकावट नहीं!

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।