रविवार, 15 अप्रैल 2012

अर्गलाओं के चन्द्रहार [1] - सप्तक का आठवाँ स्वर

...एक भटकता औघड़ है जिसके आधे चेहरे चाँदनी बरसती है और आधा काजल पुता  है। दुनिया जो भी कहेउसे सब स्वीकार है। वह तो रहता ही अँधेरी गुफा में है जिसकी भीतों पर भी कालिख पुती है ... वह जाने क्या क्या बकता रहता है। खुदाई कसौटी दूजों को कसता रहता है!...
कोई है जो निज परिवेश में घुल मिल रहते हुये भी एकाकी है। तरंगों के संसार में वह भटकता है - किसी अभिशप्त देवात्मा जैसा। उन प्रश्नों के उत्तर ढूँढ़ता हुआ जो सर्वदा सिर सवार रहते हैं। वह विक्रम नहीं, नहीं ढो सकता अनन्त गढ़ू प्रश्नों के भार एकाकी, वह अपने जैसों को ढूँढ़ता है।
वह ढूँढ़ता है कि उसका सिर टुकड़े टुकड़े न हो!
वह ढूँढ़ता है कि लोग मिलें जो उस जैसे ही एकाकी हैं, नहीं, जिनसे मिल कर लगे कि वे एकाकी हैं। वह मानता है कि परम सत्य होता नहीं और आभासी की सीमायें अनन्त हैं, इसलिये ढूँढ़ता है।
वह ढूँढ़ता है और जाने क्या क्या बड़बड़ाता रहता है। लोग कहते हैं कि बावरा है!
वह ढूँढ़ता है कि कोई प्रेमिका मिले तो पूरे चेहरे चाँदनी हो।
वह उन द्वारों को खटखटाता है जिनकी अर्गलायें या तो भीतर से बन्द हैं या बस द्वार विहीन यूँ ही लटक रही हैं – जैसे कि टोटके वाली अश्वनालें हों। उसे वे नहीं मिलते जिन्हें ढूँढ रहा होता है लेकिन काम की अर्गलायें मिल जाती हैं जिन्हें वह चन्द्रहारों की तरह पहन लेता है – प्रेमिका न सही, चेहरे पर चाँदनी तो छिटकेगी! परिणाम चाहिये कि साथी?
इस भटकन में वह जाने क्या क्या कहता रहा है, ढेर सारा लिखता रहा है लेकिन उसे हमेशा लगता रहा है – नहीं, यह नहीं, ऐसे नहीं, कुछ है जो नहीं कहा पा रहा, कुछ है जो शेष है।
...उस कुछ की खीझ उसे एक दिन ऐसी व्यापी कि उसने अपनी सभी कविताओं का नाम ‘-विता’ रख दिया और उसे बावरा कहते जन को यह छूट दे दी कि जो चाहे आगे लगा लें। उस दिन से वह और सिमटता गया। उसने देखना भी बन्द कर दिया कि कहीं उसकी नज़र किसी को न लग जाय! पढ़ना बन्द कर दिया कि किसी के सादे अक्षर उसकी अंगुलियों तले महाकाव्य न बन जायँ! कि कहीं उस पर चोरी का इलजाम न लग जाय!
लेकिन गले में लटकते चन्द्रहारों का क्या करे? क्या करे कि उसके गले कालकूट के धुँये उगलते ब्याल नहीं, अज्ञात अपनों के चन्द्रहार हैं, जो अयाचित ही मिल गये, उसके धूल सने पैरों से बहते रुधिर की करुणा में गले लग गये?
वह उन्हें दिखाना चाहता है। किसे? पता नहीं, उसे तो दिखा कर संतोष होगा।
उसे शीर्षक पसन्द नहीं, वे उन कन्दीलों जैसे लगते हैं जो रात में घर की स्थिति तो बता देते हैं लेकिन घर और रहवासियों के बारे में या तो गलतबयानी करते हैं या पूरी बात नहीं बताते। वह चन्द्रहारों को कड़ी कड़ी दिखाना चाहता है और साथ ही चुप भी रहना चाहता है कि चुप रहने से बेहतर कोई बात ही नहीं होती।
______________________________
उस घर का नेमप्लेट अजीब है – ‘तीन टाँग वाला बेखौफ कुत्ता। तफसील और अजीब - ' दलदल में चुम्मा-चाटी, मालगाड़ी के आखिरी डिब्बे वाला आदमी क्या सोचता रहता है?'
रहने वाले ने अपना नाम दिया है - Abyss_Garden। उलट पुलट हो गयी है शायद! पड़ोसियों ने कभी मयंक जैसा पुकारते सुना है लेकिन कोई पुष्टि नहीं। इस घर की वह सब खिड़कियाँ खुली हैं जिन्हें उस यायावर ने अपने घर में बन्द कर रखी हैं और कभी कभी कपाटों की झिर्रियों से झाँकने के कपट करता रहता है।

ये रहीं पहले चन्द्रहार की लड़ियाँ:

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2009/10/blog-post_8944.html
इस दिल की आरजू पे होती है हैरत
की ये साथ तो तुम्हारा चाहता है
मगर तुम्हारी आदत नहीं चाहता।
__________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2009/10/blog-post_7259.html
बलात्कारी खडे सारे पंक्ति में शालीनता से,
अपने मौके के इंतज़ार में -
चुपचाप।

चीत्कार युवती की बिना कृष्ण के दिशाहीन ,
दु:शासन के कान से जाँघों तक ।
_____________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2009/10/blog-post_7869.html
शायद मेरे चप्पल में सट जाती हैं
सब्जी की गलियों में
या फिर पीठ पे गिर जाती हैं
किसी पेड़ के ऊपर से

हाँ शायद ऐसा ही होता होगा
मेरी सोयी आंखों में
जब मैं अपने हाथों के सिराहने पे
सर छुपा, झाँकता हूँ अंधेरे में।
_____________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2009/10/blog-post_3364.html
पर अब आ चुकी है मुझमें
पहचान
ऐसी मकड़ियों की
जो चूस लेती हैं सारा प्यार
और देती हैं उसके बदले
बस- दर्द और सिगरेट
______________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2009/10/blog-post_4119.html
ये लोग भी नहीं हैं लोग
जो लगे हैं करने तुझे मेरी नज़रों से दूर
ये हैं समाज द्वारा प्रशिक्षित-
नैतिकता में सर्टिफाईड
उचित- अनुचित में डिप्लोमा
हासिल किए बेहुदे सूअर की फौज-
जो दूसरे सूअरों की अनुपस्थिति में
ख़ुद उस नाली में नहायें
जिसके लिए दूसरों पे किकियायें ।
जो शीघ्र ही कर देंगे अपने मनुज बच्चों
को भी नए ज़माने के समकालीन सूअर।
जो छिपा तो रखेंगे अपने परिवार की सुअरनियों को
पर ताकेंगे नाक फुला के दूसरे सुअरनी के थन को।
_______________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2009/10/blog-post_9999.html
जो बदसूरत इरादे रखता है
हर उस खूबसूरत चीज़ से जो
उसे न कभी मिला है, न कभी मिलेगा
बस जिसकी चाह दिल में मसोस के
बुढा जाएगा-
मक्खियों से घिरे, गले हुऐ एक काले केले की तरह।

हाँ प्रिये, मैं ये सब भी हूँ।
________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2009/10/blog-post_9173.html
अनगिनत कंचुकियों को चूसने वाले चमगादड़
और रण्डियों की रात गमकाने वाले पिशाच
तू कब से कलम में दवात भरने लगा ?
___________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2009/10/blog-post_3862.html
हग दिया कौऐ ने
काला-सफ़ेद, एक सड़क पर
लगा के ब्रश बना दिया एक तस्वीर
चित्रकार ने उस से

मूत दिया भैंस ने पेट की नाली से
झर-झर
नहा रहे नंगे बच्चे उसमें मचल कर
निर्वस्त्र ये- जो पोंछते अपनी चुत्तड़
केले के पत्ते से, और पोतते घर गाय
के गोबर से।

तुम्हारी तस्वीर फैला चुकी दुर्गन्ध-
उनका घर, धूप से झुलस
और जलधारा से ओत-प्रोत,
फिर भी खुशबूदार।
_____________________
अज्ञेय की 'नाच' की लय की याद दिलाती है यह लड़ी:

  http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2009/10/blog-post_3691.html
पर उससे भी रोचक लगता है उन
दूरदर्शी समाधानों को घेर देना-
बॉक्स की आकार में
और उसपर फिर से पेन चलाना ताकि
वो घेराव इतनी मजबूत हो जाए कि
उसमे से कोई भी प्लान छिटक न जाए ,
न ही लीक हो पाए।
______________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2009/10/blog-post_1399.html
हर शाम की कहानी वही-
तकिये में लिपटे बाल
ख्यालों में तुम्हारे
गानों का बदलना, चादरों का सिकुड़ना
पर तुम्हें वैसे ही देखते रहना
कुछ कहना
रुकना
फिर से कहना- इस बार कुछ बेहतर
तब तक-
की जब तक
तुम्हारी आँखों में हँसी न दिख जाए
और गालों में प्यार- मेरे लिए।
तब तक तुम क़ैद एक ही तस्वीर में-
उसी समय में, उन्हीं कपड़ों में
जिसमे की अभी मैनें तुम्हे कुछ कहा था।

तुम थक तो नहीं जाती ना ?
______________________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2009/10/blog-post_30.html
वो है अब भी वाकिफ़-
हर एक बीते लफ्ज़ से तुम्हारी,
जिसके हर पेचीदे फैसले को
था आसां बनाया बस सदा ने तुम्हारी
कि उसने चुनी तो सिर्फ़ वोही मँजिल चुनी
जिसकी हर राह में
बसती सदा थी तुम्हारी

...और फिर तुम आ जाओ
एका-एक एक दिन
सामने मेरे,
लेकर मेरे सारे ख़त-
थूक से सटाए
३ रुपैये की स्टैंप वाले
लिफाफे के साथ,
ये बताने
कि तुम्हें भी था इंतज़ार
उधर मेरे अगले ख़त का।
___________________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post.html
पहन कर क्यूँ आ जाती हो ये
रसीले, मनमोहक पोशाक
और जमा डालती हो
घेरा अपने झुरमुट का
फालतू में,
जबकि कल से फिर खो जाओगी
उसी दुनिया में
अपनी उन्ही पुरानी आदतों के साथ,
जो हैं ठीक विपरीत उन शेरों के बोल से -
पर जिनपर लुटा रही हो अभी तुम वाह-वाही
और बजा रही हो जोरों से ताली
______________________ ___

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_24.html
नभ-मंडप है सुसज्जित
किरणों के चमकीले डाल से,
यहीं बैठा मन मेरा बजा रहा है बंसी
भले ही है
गोपियों की कमी

बैठा के जो ले चलतीं
मटमैला पानी को अपने सफ़र में-
सुन्दर है ये गंगा की लहरें
अपने आप में
भले ही हो कोई भी मौसम

अपने आप में ही पलती है अनुभूति
निःशब्दता के कमरे में
और विचारों के छत पे
एक अतल कारण से
भले ही न हो सके कोई इसका सहभागी।
_______________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_7485.html
क्या मैने तुम्हें कभी ये बताया
कि तुम्हारी आँखें मुझे प्रिय हैं?
बासमती चावल और गोबर की बनी
ये स्वच्छ आँखें मुझे वैसे ही बहा ले जाती हैं
जैसे की गंगा बूढ़ी औरतों के दीये

ये तुम्हारी आँखें ही हैं
जो पिघलाती है सूरज को समन्दर में
और वो उढ़ेल जाता है
अपना लाल स्याह हर तरफ-
जिसे देखना तुम्हें बहुत भाता है,
देखती ही रहती तुम ये नज़ारा देर तक
अपनी ही करायी इन आँखों से।
______________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_8188.html
अक्सर घटाएँ आस दिखाकर भी
चूक जाती इस काले कुएँ को।

देती हरियाली
पहले से ही हरे-भरे खेत
और हँसती कलियों को।
और य॓ छोटा सा परिवार बना रहता
मूक और उदास।

पर फिर भी मैने महसूस किया है कि
इसी कुएँ का पानी
बाल्टी से निकाल
डाल लूँ अपने ऊपर
तो छा जाती है ख़ुशमिज़ाजी
झुलसती धूप में भी।
_____________________________________
एक गुल्लक ऐसी भी!

 http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_6685.html
देखो इसमें ही है बसा
मेरे बचपन का खज़ाना-

एक रोज़ पोछाती साईकिल,
पत्थल मार तोड़ी अमरुद,
फ़्रिज से चुरायी मिठाइयाँ,
टिल्लू भैया से ली कॉमिक्स,
दुर्गा पूजा के मेले में जीती
एक साबुन,
एक बैट -
दो विकेट,
एक कोयले वाली ट्रेन,
न जाने और कितनी अशर्फ़ी...
और उनसे भी अमीर वो कितने सारे पल
__________________________
यह लड़ी यायावर के दिल के पास है। 

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_2306.html
दे दो वो अफ़साना
जो मेरी अनकही बातें मांगती है तुमसे,
जिसकी आती है चाह दिल के दो ऊँगली अन्दर से,
जिसका मंज़र है आबाद रहता पलकों के पीछे,
जो कभी इशारा भी कर देती होंगी शायद
अपने उम्मीद का, मन के कसे चाबुक के बावजूद।
बोलो ये इतने दिनों का उधार मुझे कब सौंपोगी?

अगर ऐसा हो गया कि तुम न दे पाओ इसे कभी
एक उपहार की तरह,
तो उपहार समझ कर ही रख लेना
ये आधी कहानी मेरी तरफ से।

जो सालों बाद भी कभी चाहो तो फुर्सत के वक़्त में
खोल कर देख लेना, टटोल लेना इसे
शायद तुम्हारा मन बहल जायेगा।
दे देंगे ढील ये गाल तुम्हारे होंठों को
शायद भर जाए काजल का भार अपने आप
पर अगर ऐसा न हुआ
तो इतने वर्षों बाद भी
मुझे होगा अफ़सोस
कि मेरी एक पुरानी भेंट तुम्हे इतनी पसंद न आ सकी।
__________________________________
यायावर उवाच - बस  यूँ ही, हर बेवकूफी के पीछे तर्क का होना जरूरी नहीं

________________________________
http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_3779.html
सँड़सी से उखाड़ फेंको
इन औरतों कि मूँछें
एक के बाद एक-
चुरा लेती ये अँगूठियाँ शकुंतला की,
मछली के पेट को फाड़ के।
ये ही हैं वो सारी जो
सताती थीं अशोक वाटिका में
सीता को,
कसती थीं तानें
और फिर सोती थीं पड़ोसी के साथ
खटमल लदे खटिया में।

टपकाती लार विभीषण पे,
कुरूप गण ये,
डूबा नाख़ून को अपने मासिक खून में।
हर लेती मासूमियत
नन्हे बालक की
गोदों में खेलाते-खेलाते।

पत्थर की बायीं आँखें इन डायनों की
गाड़ दो मिट्टी में
उन्हीं नन्हे बच्चों के
टूटे दूध के दांतों के साथ।

काले कनस्तर की बनी,
चूल्हे की कालिख लदी, चूहों की चहेती, ये,
एक सलाई की ललकार से थर्रा उठती हैं।
किरासन का वो डब्बा लाओ
नहलाओ इन्हें नंगे
और खड़ा कर दो इस चिलचिलाती धूप में।

जब ये झुलस के राख बन जायें तो
अर्पित कर देना इन्हें
अगली गली के यतीम शिवलिंग पे।
________________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_4281.html
शायद वो प्यार नहीं था
कामोत्तेजना था-
उदाहरण के लिए:
मैं उसके साथ बैठ कर
कपटी में चाय पीते-पीते
काफ़्का काका की कथाएँ
नहीं बतिया सकता

न ही अंग्रेजी की कुछ
बेहद रोमांटिक गानों का
मज़ा ले पाता साथ-साथ,
फिल्में तो छोड़ ही दें...

पर ये गलत होगा की मैं
अपने प्यार को
कामोत्तेजना कहकर पुकारूँ

पर इसका उपाय भी क्या हो?
जो लोग एक दूसरे से प्यार करते हैं,
यही सब चीज़ें तो साथ में करते हैं ।

पर मैं भी अगर एक महतो होता-
तब तो फिर ये प्यार ही होता
हाँ, तब ये निश्चित रूप से प्यार ही होता।

अब ठीक है।
________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_2747.html
तैर रही तुम गंगा में निर्वस्त्र
हवा के धीमे झोंकों के साथ
दूर मछुवारे मार रहे मछली अपनी धुन में
चाँदनी छिंटी हलकी चारों ओर
योगियों के हल्के गेरुवे परिधान
लटके रस्सी पर इस पार
ठंडा बालू टिमटिमाता उस पार

निकल कर आ रही तुम
इस बैंगनी पानी से
लालटेन की हलकी आँच में
बचाते अपने पावों को
सीढ़ियों में टर्र-टर्राते मेढ़क के बच्चों से
इन झींगुरों के पावन पर्व के
मंत्र उच्चारण के बीच
लपेटते अपने उड़न-खटोले बाल
केंचुए जैसी ऊँगली से
पीछे छोड़ते धार पानी का
अपनी नाज़ुक एड़ियों से

और फिर टंगे कपड़ों के पीछे
कपड़ों में धीरे-धीरे लिपट
तुम आ गयी अब मेरे समीप

स्वर्ग तो ये ही है
तुम्हारा वाला कुछ और होगा
_____________________  ___________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_9011.html
दूह गया धामिन
जरसी गायों को
ग्वाले के सन्नाटे में।
मोह लिया गेहूँमन की आँखों को
सँपेरे की बीन ने।
पकड़ा गया विधुर बाप अकास्मात
करता हस्तमैथुन अपनी दासी की लोभ में
उसकी काली वीर्य की फुँकार ने
तुम्हें बदसूरत बना दिया
बन गयी हो तुम एक सस्ती लाश
और ये हैं तुम्हारे खरीदार।

जाकर पकड़ लाओ तुम भी एक दुर्दांत सँपेरा
और मत घुमा करो अकेले ऐसे सन्नाटे में।
_________________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_7423.html
स्कूल की मेज में,
मिनी बस की सीट पे,
बस स्टॉप की दीवारों पे ,
लोकल ट्रेन के दरवाज़े पे,
पुरुष शौचालय में पहुँच सकती
मूत्र धार से काफ़ी ऊपर,
और पिकनिक स्थल के बड़े-बड़े
चट्टानों में भी
उतनी ही बड़ी अक्षरों से-

हर तरफ है बसा तुम्हारा ही प्रेम
रमेश।

चिंता की कोई ज़रूरत नहीं
प्रिया को भी है तुमसे उतनी ही मोहब्बत-
दो-तीन बार नस काटी होगी तुमने
एक-आध बार चूहे का विष भी
नीलकंठ जैसा साहसी हो
किया गया होगा तुमने धारण

इसलिए आज तुम्हे सजाना अच्छा लगता है दुनिया को-
अपने प्यार के इकरार से,
इसलिए ही दिखाना अच्छा लगता है दुनिया को
फल अपनी तपस्या का-
.... 

पर ये तो बताओ कहाँ से लाया
उतना चूना
उस बड़ी चट्टान की पुताई के लिए ?
_____________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_5941.html
काले कढ़ाई की कोख से जन्मे
तेल स्नानित पूड़ियों के लुटेरे
लाइन से हैं बैठे बेंच में शांतिपूर्वक
जो खुला इनका मुँह तो निकला
गोलियों का गुह

कामी उत्पीड़कों का समूह
भीड़ गया अपने आप में
लंगड़ी मार पटक रहा
एक दूसरे को कादो में

भागी रही बचा-खुचा दबोच
बालायें जंगलों की ओर
हाँफ गयी दौड़ते - दौड़ते
शिकारी आ सकता पीछे से कभी भी

काट रही बुढ़िया कुकुरमुत्ता हँसुआ से
जला हलकी ढिबरी
हो गयी है याद्दाश्त कम-
अब खेलते ईंट की बुकनी
उसकी जुओं से आँख मिचौली

गिर रहे हैं धावक
एक के बाद एक
शब्द रह गए क़ैद सीने की पिंजड़ों में
अब मत पिलाओ ग्लुकोज़-
कराओ इनका ब्लड टेस्ट

हो रहा पागलखाने के बाहर
बनबिलाड़ और झबरे कुत्ते में लड़ाई
ढेला है पड़ा काफी आस पास यहाँ


जब गीदड़ की मौत आती है तो
वो शहर की तरफ भागता है
_______________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_9163.html
पूरा नाम : बजरंग प्रसाद सिंह
पिता का नाम: बनवारी प्रसाद सिंह
गाँव: सतौल
थाना: हिरोडीह
जिला: लखनपुरा

जंघिया : जॉकी, कम्फर्ट स्ट्रेच, साइज़- मीडियम
___________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_2549.html
ये कुछ एहसास हैं तुम्हारे ही लिए
डरते थे ये तुम्हारी परिधि में प्रत्यक्ष होने से
बाँध के लाया हूँ बड़ी मुश्किल से इन्हें एक साथ

संभाल के रखना इन्हें
अगर न हो ठीक से देखभाल इनका
तो ये दिखने लगते हैं अलग-
पर ऐसा भी न करना कि
इन्हें सर पर ही चढ़ा दिया
और अत्यधिक खिला-पिला के कर दिया
इतना चौड़ा
कि देनी पड़ जाए इनकी बलि
हमारे रिश्ते की चौखट में

____________________________
http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_27.html
ज़िन्दगी जीता है बस वही भरपूर
जो समय नदी में
वर्तमान के लोटे से
है नहाता निश्चिंत।

भविष्य की बाल्टी
तो होती है कितनी भारी
और भूत के बर्तन का पानी
तो हो चला कितना बासी

बस रखो अपने साथ
ये वर्तमान का लोटा

घबराने की बात नहीं
इस लोटे में है खुर्ची
तुम्हारी अतीत की यादें
रहेंगी साथ जो सदा इस लोटे के साथ-
बस चमकाते रहना
बीच-बीच में
इसे
अपने सुंदर सपनों से

बस और कुछ नहीं
कुछ भी नहीं।

चलो
लगाओ अब
बस एक लोटा एक बार में

हर हर महादेव
______________________________
उस घर के आँगन के धूमकेतु कुछ ऐसे दिखते हैं: 

 http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_5257.html
रहो तीव्रता से ऐसे ही गतिमान तुम
कि हो दृष्टिगत जिसे भी
हो जाए उनकी सोती जीवन अवगत
एक खुले विशाल आह्वान से,
...
...
जो देख ले कोई बच्चा
तो माँगे पापा से
तुम्हारे जैसा ही रॉकेट
अगली दिवाली
__________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_28.html
मेढक तुमसे बड़ा ढक
शायद की कोई जंतु मैने देखा है

टेंके रहते हो घुटना हरदम
किसी हीन भावना से ग्रस्त
रंगवाये हो अपनी पीठ सबसे
नालायक चित्रकार से
शायद इसलिए ही नहीं हो
किसी भी देवता की सवारी-
पर माँग बहुत है तुम्हारी साँपों के बीच
लगती है बोली पे बोली और
लुटाते हो प्रसाद बनकर
जब हपकने आती तुम्हे साँपों की टोली

यही सब देखकर
चुना है तुम्हें
एन. सी. ई. आर. टी. वालों ने
चीराने के लिए
दसवीं कक्षा के
बायोलॉजी लैब में-

और मज़ा कितना आता है
छात्रों को
तुम्हें प्लास्टिक बैग में
धर दबोच,
उल्टा लेटा,
चाकू चलाने में

अपने
पाठ्यक्रम के अनुसार
________________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_1331.html
एक पहुँचा संत
उठा के पत्थर
अगर फोड़ दे मेरा सर
तो इसे क्या समझूँ ?

मेरी बात का विषैलापन
या उसके साधना की विफलता ?

क्यूँ हो जाती है फाँसी माफ़
उस जघन्य अपराधी की
जब वो कर लेता है ख़ुदकुशी ?


मेरे चिट्ठे को लौटा देती
गुस्से से, बिन दिए जवाब
पर आकर बैठती मेरे ही बगल
दोनों सेक्शन की संयुक्त क्लास में

ये हमारी समीपता है या समापन ?
______________________________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_29.html
कैसा है ये कुबड़ा पहाड़
दुबका हुआ चुपचाप ?
और देखो इस सूरज को-
जिसे कान खींच
ले जाया जाता वापस
हर शाम
तारें कर रहे हैं उठक-बैठक
चाँद है बाहर मुर्गा बना
आसमान का छाता है छिदा हुआ
जिससे चू जाती बासी बारिश
बादल हैं बिखरे रुवें
जिस बिस्तर पे अभी शाम को पड़ी छड़ी
ये ओस हैं रात के आँसू
जो रोता कमरे में बंद पड़ा
देखने जो नहीं मिलता
दुनिया की टी वी
भोर को रोज़ पड़ती है डाँट
संवारता नहीं है चादर अपना समय से
दोपहर का है खाना बंद
मोटा गया है सो-सो के
__________________

http://teen-taang-waala-bekhauff-kutta.blogspot.in/2010/09/blog-post_3714.html
इतनी कड़वी दवाईयाँ पी चुका
कि अब मीठी गोली बे ईमान लगती है

थक गयी सबको खुश करते करते
अब समझा वो क्यूँ परेशान लगती है

बनो खुद में ही कुछ, बनो अपने जैसे
ये मशहूर अदाएँ एक समान लगती हैं

साथ चलने दो कदम की भी हैं अपनी मुश्किलें
भले ही दिखने में ये तुम्हें आसान लगती है

बह मत जा इस ख़ुशनसीबी की रवानगी पे
हो न हो, ये कुछ ही दिन की मेहमान लगती है
_______________________________


यायावर को विदा दीजिये। दूसरे चन्द्रहार की बातें फिर कभी!

5 टिप्‍पणियां:

  1. कैसे कैसे लिंक कैसे कैसे बिम्ब -और विकृत काव्य प्रस्तुतियां !

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक साधारण पाठक का कन्फ़ेशन:
    पोस्ट लम्बी है, हम जैसे आलसी एक बार में कैसे पढेंगे, और आलसी जब व्यस्त हो तब तो करेला और नीम चढा। -विता के बारे में यह दिव्यदृष्टि अभी हाल ही में मिली, "जिसको जितना समझ आये वह, वही अक्षर लगाये"। कवि का काम है लिखना, समझाना तो विशेषज्ञों का "बिज़नेस" है। वैसे स्टाइन के शब्दों में "Rose is a rose is a rose is a rose." रोज़ कौन थी, कहाँ रहती थी यह जानने के लिये शायद कवि का इतिहास खंगालना पड़ॆ। आज के ज़माने में किस के पास इतना वक़्त है। मतलब यह कि "हे कविराज, क्रांति के लिये हमारे भरोसे मत बैठना" हाँ इतना ज़रूर है कि सभ्यता का पालने भी भी खिलखिलायेगा ज़रूर एक दिन (रामजी की कृपा से), ऐसा अपना यक़ीन है। [जन्मस्थल बचेगा तो पालना भी झुलेगा]

    स्वस्ति! [यहाँ कोई उलटबांसी नहीं है]!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. :) यह कंफेशन किसी और ने चैट पर भी किया। मैंने कहा यह धैर्यधन जन के लिये है, मन भर चर्चायें मन भर जन के लिये तो मन भर हैं।
      स्टाइन का अता पता बताइये।

      आप की g+ टिप्पणी से:
      :) बावरा मन देखने चला एक सपना

      बावरी सी धुन हो कोई बावरा इक राग हो
      बावरे से पैर चाहें बावरे तरानों के
      बावरे से बोल पे थिरकना

      हटाएं
  3. ऊपर वाला गद्य पढ़ कर ही अघा गया! मुक्त-लड़ियाँ सहेजूँगा अब।
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।