गुरुवार, 14 जून 2012


त्वदीयं वस्तु गोविन्दम् तुभ्यमेव समर्पये! 

6 टिप्‍पणियां:

  1. ताजा घटनाक्रम पर शुभेच्छुओं की बेचैनी समझ रहा हूँ कि मुझे कुछ करना चाहिये। मुझे इससे बेहतर कुछ नहीं सूझा :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. क्या हुआ? कोणार्क सूर्य-मंदिर की यात्रा जारी रखिए। अंधेरा भाग जाएगा।

      हटाएं
    2. आप साथ हैं तो क्या गड़बड़ हो सकता है? गुरुओं की छाँव तो वही होती है - चन्दन तरु हरि संत समीरा :)
      यात्रा जारी है, रहेगी। बस यायावर रुक रुक तसल्ली के साथ देखता दिखाता चलेगा।

      हटाएं
    3. रुके इसलिये हैं कि तोरू की विलक्षण कविता के अनुवाद का आनन्द बाँट कर आगे चलें। एक अद्बुत प्रतिभाशाली युवा भावानुवाद कर रहे हैं।

      हटाएं
    4. हम प्रतीक्षा कर रहे हैं उस भावानुवाद की!

      हटाएं
  2. काले पृष्ठों पर उजली सियाही खूब चलेगी।:)

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।