मंगलवार, 16 अक्तूबर 2012

पहले दिन - उषा और आत्मा


(ऋक् संहिता, मंडल 6, सूक्त 64, परम्परा - वृहस्पति, ऋषि- भारद्वाज, छ्न्द - त्रिष्टुप)


(ऋक् संहिता, मंडल 10, सूक्त 125, परम्परा - आम्भृण, ऋषि- वाक्, छ्न्द - त्रिष्टुप 1,3-8, जगती 2 )

5 टिप्‍पणियां:

  1. प्रणाम भैया जी.

    सादर

    ललित

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज नवरात्रि की बैठकी है - सभी को बहुत बहुत सी बधाईयाँ और शुभकामनायें :) :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. अंग्रेजी भावानुवाद तो कमाल का है। आत्मा तृप्त हो गयी।
    इसे सेव करके बार-बार सुनने लायक है।
    यह खजाना कहाँ से लाये?

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये बीच वाली तस्वीर का कैलेण्डर कभी आया था घर... और तभी हमने उसे मढवा लिया था.. आज भी है घर पर.

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।