रविवार, 27 जनवरी 2013

साइकिल की सवारी


साइकिल की सवारी 
विधान, जनता और मदारी। 

4 टिप्‍पणियां:

  1. पाठ्य-पुस्तक में कभी इसी नाम से एक व्यंग्य हुआ करता था। ढूंढता तो रहता हूँ लेकिन अब किताबों में मिलती नहीं वैसे रचनायें - ’साईकिल की सवारी’ ’चचा छक्कन ने केले खरीदे’ ’चचा छक्कन ने तस्वीर टांगी’

    उत्तर देंहटाएं
  2. जय हो..सहज हैं दोनों..नित का ही कार्य है..

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।