सोमवार, 11 मार्च 2013

हाशिये पर पाँच रफ


(1) 
और जब मैं अन्धा हो जाऊँ
तब तुम मुझे स्पर्श देना
वह मेरा प्रकाश होगा।

(2)   
चश्मिस! 
जहाँ भी हो, सुनो! 
किशोर भोरों में जो 
टप टप टपकता 
ऊषा का आह्वान करता
अभिशप्त विश्वामित्र
देख लेता था तुम्हें 
तम के पार भी; 
आज जान गया है प्रकाश को 
अन्धा होने के बाद, 
उसका चश्मा उतर गया है।

(3)
कहो कि जब वही प्रकाश, वही पुतलियाँ, वही आकाश होगा 
कहो कि जब उनके संघनन का रेटिना से नहीं साथ होगा 
तुम उतरोगी हर साँझ उस उदास दिये सी मेरी आँखों में 
जिसकी कालिख है जमा घर के इंतजारी ताखों में!

(4)
अन्धेरों ने कहा है हाथ बढ़ाने को 
रोशनदानी हवा बही है पाँव उठाने को 
मौन है कि कानों के लिये कुछ भी नहीं
छील गयी है याद खाल जलती भी नहीं 
बस नथुने हैं कि काम जारी है 
स्वेद वही भूमा की गन्ध वही
सूखे फागुन बस धूल भरी आँधी है।

(5)
अबीर लिये बैठा हूँ मैं 
तुम सेनुर थोड़ी ले आना।

13 टिप्‍पणियां:

  1. अब लगता है कि अधूरे प्रेम पत्र को पूरा होने का समय आ गया है

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्वेद वही भूमा की गन्ध वही
    सूखे फागुन बस धूल भरी आँधी है।
    बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  3. "अबीर लिये बैठा हूँ मैं
    तुम सेनुर थोड़ी ले आना।"...यह और खुले भईया!
    नहीं तो इन दो पंक्तियों में अपना पूरा माधुर्य, अपनी पूरी कसक, अपना पूरा शृंगार समेटने की क्या जिद!
    बेहतरीन।

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह तो मुख्य धारा के भाव हैं, जीवन को रफ में न जियें, फेयर कर लें...

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुम उतरोगी हर साँझ उस उदास दिये सी मेरी आँखों में
    जिसकी कालिख है जमा घर के इंतजारी ताखों में!
    ...अति सुन्दर!
    किसी खास मौसम के साथ चली आती हैं यादें...

    उत्तर देंहटाएं
  6. गज़ब कर दिया. अपने मज़ा आ गया

    अबीर लिये बैठा हूँ मैं
    तुम सेनुर थोड़ी ले आना

    उत्तर देंहटाएं
  7. आंखें टैस्ट कराते ही एेसे एेसे विचार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आँखों की समस्या से जूझते मेरे बाबा को ही ऐसी पंक्तियाँ सूझ सकती हैं. हे ईश्वर (अगर तू कहीं है तो) सुन, ऐसे लोगों को इतनी प्रतिभा मत दे दिया कर, जिन्हें खुद उस प्रतिभा का मोल न मालूम हो.....:)
    बंधु हिमांशु से सहमत हूँ-
    "अबीर लिये बैठा हूँ मैं
    तुम सेनुर थोड़ी ले आना।". इसे थोड़ा और विस्तार दिया जाय.

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।