शनिवार, 4 मई 2013

बनारस और आसपास

945490_10201053339883859_228042514_nघंटेश्वर महादेव? वाराणसी से मुगलसराय राह में।

agyat
अज्ञात हुतात्माओं के नाम - कोई तो है जिसने अपने व्यवसायिक स्थान को उनकी स्मृति में नाम दिया।

308648_10201029802535440_677361633_n
ब्रांड और जाति दोनो महत्त्वपूर्ण हैं। कैंट स्टेशन के सामने गोकुल का 'मारवाड़ी यादव' 
sathsath

'बुढ़ापे की लाठी' न सही, हम साथ साथ हैं!
________________
विश्वेश्वर गली के बाहर

yadav

गेरुआ टी शर्ट, खाकी घुट्टना, हवाई चप्पल और माथे पर गमछा बाँधे जब मैं काशी के कोतवाल के यहाँ से गली गली होते काशी के राजा के अभिषेक के लिये निकला तो रास्ते में मिल गये गलमुच्छे वाले अभयराज यादव, सुल्तानपुर वासी।
गरहन के बाद नहाने आये थे। बेटवा बेटवा कहते मुझसे खूब घुल मिल गये। उनकी मानें तो गान्धी बाबा अपने जमाने के जियता मनई थे और उनके बाद यह देश मुर्दार हो गया। अपनी मूँछों पर उनको बहुत नाज था और एक राज की बात बताये कि किसी घर चले जायें तो ठकुरानियाँ भले सिर पर पल्लू न करें लेकिन स्थान छोड़ कर आदर से खड़ी हो जाती हैं!

bikate_fool

मलिनिया कुल
____________
दशाश्वमेध घाट से बाहर आने के रास्ते पर

note
नोट बिकते भी हैं!
hindu

ऐसे स्थान देख कर मुझे उन विद्वानों पर तरस आता है जो पुरातात्विक खुदाइयों के सहारे भारत का इतिहास गढ़ने के प्रयास करते हैं।
____________
बनारस का एक घाट - सम्भवत: राजेन्द्र घाट

chalak

वाराणसी नगर बस सेवा - सेंट परसेंट सही बात
____________________
चालक के ऊपर गाड़ी तेज चलाने का दबाव न डालें।
लेट आप हैं, हम नहीं।
जियो और जीने दो।

16 टिप्‍पणियां:

  1. जय हो बड़ा ही रोचक विवरण, बनारस का रस ही कुछ और हैं

    उत्तर देंहटाएं
  2. गजब के चित्र
    घंटा ध्वनि - ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः
    बुढ़ापे की लाठी - बना रहे बनारस!
    मलिनिया कुल - शस्य स्यामलम मातरम

    बदाऊँ की टक्कर का बस एक ही शहर है ब्रह्मांड में ... किसी से कहना मत

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज की ब्लॉग बुलेटिन देश सुलग रहा है... ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. सभी चित्र बोलते लगे .
    विशेष चित्र 'हम साथ-साथ हैं ';लगा.
    दोनों नंगे पाँव हैं,बाबा की बनियान जगह-जगह से अपनी बदहाली का हाल बता रही है.
    बाबा के हाथ में लाठी है तो बाएँ पैर में कोई चोट या मोच या फिर दर्द आदि के कारण क्रेप बेंडेज बंधी हुई है.
    अपनों का साथ ऐसे समय ही तो सबसे ज़रूरी होता है और ऐसे समय एक दूसरे का हाथ थामे इस बात से बेफिक्र कि कोई उनकी तस्वीर ले सकता है या ले रहा है.
    मन में एक दूसरे के प्रति गहन अनुभूति लिए चले जा रहे हैं.
    दुर्लभ प्रेम की छवि है यह चित्र !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँ, यह दुर्लभ प्रेम है। जिसे मिल गया वह विपन्न नहीं, जिसे नहीं मिला वह सम्पन्न नहीं।

      हटाएं
  5. हरियाणा रोडवेज़ में तो एक ड्राईवर ने इस पंक्ति के अलावा एक और पंक्ति भी लिखवा रखी थी - जिन्हें जल्दी थी, वो चले गये। :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बनारस में रस है, हरयाणा में हर है

      हटाएं
  6. वाह!! सुन्दर तस्वीरों के साथ अच्छी प्रस्तुति|
    सच में तस्वीरें भी बोलती हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. baba kasinath singh bahut kuch kahe hai banaras ke bare main ...

    ...बाबा काशी नाथ जी कहते हैं की काशी पुरे दुनिया को अपने ....

    jai baba banaras....

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुझे नहीं लगता कि यह ,यही , यह सब बनारस है. इस तरह के बनारसीपन का उत्सव मनाना मुझे बकवास लगता है. जो भी में दिख रहा है वह सब अनप्लान्ड अरबन डवलप्मेन्ट का खामियाजा है.

    यह सब तो आपने वह सुना जो बनारस बोल रहा है , बोलता है . कभी वह सुनिये जो बनारस नहीं बोतला है .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. यूँ ही उड़ते रहे हैं गर्द गुबार सदियों से
      हमने चुराये कुछ धूप गन्ध गलियों से!

      हटाएं
  9. kahan hain aaj kal? Itna lamba alpviram???? .......BAU KA DEEWANA.

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।