रविवार, 20 अक्तूबर 2013

प्रसाद

जीवन की गति ऐसी ही है। गंगाजल वारुणी के लिये प्रयुक्त होने पर अपनी महिमा खो देता है किंतु वारुणी आराध्या देवी को समर्पित हो प्रसाद हो जाती है।   

3 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. :)
      अतिमोहनविभ्रमा तदानीं
      मदयन्ती खलु वारुणी निरागात् ।
      तमस: पदवीमदास्त्वमेना-
      मतिसम्माननया महासुरेभ्य:
      _____________
      और यह भी:
      http://pittpat.blogspot.in/2010/05/blog-post_8991.html

      हटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।