गुरुवार, 14 जून 2018

संस्कृत सौन्‍दर्य - 1

बोल कर संस्कृत पढ़ने से जिह्वा, मुख एवं स्वर तंत्र का व्यायाम भी होता है। किसी एक ही मन्‍त्र के पाठ या जप का यह परोक्ष लाभ है। पुरुष सूक्त के प्रथम मन्‍त्र को देखें, अथर्वण सहस्रबाहु के स्थान पर ऋग्वैदिक सहस्रशीर्षा।
स॒हस्र॑शीर्षा॒ पुरु॑षः सहस्रा॒क्षः स॒हस्र॑पात् । स भूमिं॑ वि॒श्वतो॑ वृ॒त्वात्य॑तिष्ठद्दशाङ्गु॒लम् ॥ य, र, ल, व, श, ष, स, ह, क्ष, अक्षमाला का अंतिम य वर्ग समस्त ऊष्म संघर्षी ध्वनियों के साथ उपस्थित है। पहले शब्द में ही र एवं ह के सम्पुट के साथ तीनों ध्वनियाँ - स, श, ष उपस्थित हैं, सम्पूर्ण ऊष्म परास। हममें से कितने इसका शुद्ध उच्चारण कर सकते हैं? स+ह+स्+र+श+ई+र्+ष+आ - सहस्रशीर्षा। ई कुण्डलिनी स्वरूपा मानी जाती है, आ अर्थात अन्त में स्वाहा! स्वाहा की गढ़न भी देखें - ऊष्म ध्वनियों का संयोजन है।

रविवार, 27 मई 2018

जातवेद या जावेद ?

या॑वन्तो देवास्त्व॑यि जातवेदः .... आत्मन्नग्निं गृह्णीते चेष्यन्नात्मनो ... 
समस्त जीव जगत उस अनुशासन में बँधा है जिसे ऋत कहा गया। कर्मकाण्ड सृष्टि रूपी यज्ञ की अनुकृति होते हैं, अग्नि से समझ सकते हैं। अग्नि जातवेद हैं, समस्त जीवन को जानने वाले या जिन्हें समस्त जीवधारी जानते हैं, समोये हुये हैं। जीवन के लिये ऊष्मा आवश्यक है, हिमक्षेत्रों में भी। मानव द्वारा प्रयुक्त अग्नि पहले द्विज हैं – जिसका दो बार जन्म हुआ हो। पहली बार अरणि मन्थन से, दूसरी बार जब गार्हपत्य अग्नि के रूप में स्थापना हुई या किसी अन्य याज्ञिक रूप में। प्रकृति की विराट लीला तो पूर्णत: गम्य नहीं है किन्‍तु देखें तो जीवन में यादृच्छ विनाशी दावानल का अनुकरण नहीं किया गया है, सायास उपजाई हुई नियन्‍त्रित अग्नि का किया गया है जो जन्म से ले कर मृत्यु तक समस्त जीवधारियों को चलायमान रखती है। मैथुन द्वारा गर्भ स्थापन पश्चात माँ के उदर से बाहर आना प्रथम जन्म है। संस्कार होने पर दूसरा जन्म है, द्विज, अनुशासन बद्ध, ऋत से स्वयं को जोड़े हुये। पात्रता सुनिश्चित करने के लिये प्रथम जन्म से पूर्व भी गर्भाधान संस्कार की व्यवस्था है, पुंसवन है।
 द्विज से अपेक्षा है, अद्विज से नहीं। संस्कारी से अपेक्षा है, असंस्कारी से नहीं। समाज के मेधावियों से अपेक्षा है, जन सामान्य से नहीं।
अग्नि का गुण है – दोष भस्म करना। अग्नि का गुण है जोड़ना। कृषि पहला यज्ञ है। भास्वित, प्रकाशित 'भ' के साथ शक्तिमान पहली 'र' अग्नि को ले कर भ+र+तों ने अभियान किये। वन प्रान्‍तर जले, कृषि आश्रम व्यवस्था स्थापित हुई, पूर्णत: प्रकृति पर आश्रित वनवासी समाज ने आहार उगाना स्वयं सीखा – आर्य हुये। 
इन्‍द्रम् वर्धन्तो अप्तुर: कृण्वन्तो विश्वमार्यम् । 
अपघ्नन्तो अराव्ण: ॥ 
इस ऋचा के पीछे मानव सभ्यता का इतिहास बोलता है। 
द्विज भ्रष्ट हुआ, जीवन भ्रष्ट हुआ, समाज भ्रष्ट हुआ। आधुनिक वैश्विक चेतना प्रचार के नेपथ्य में देखें तो आप को यही सनातन प्रज्ञा परिवर्तित प्रस्तुति के साथ मिलेगी। नदी को प्रदूषित करना अद्विज कर्म है, सार्वजनिक सम्पत्ति को नष्ट करना, प्रदूषण प्रसारित करना, अनियन्‍त्रित भोग, भ्रष्ट धन संग्रह, अ-दान इत्यादि इत्यादि समस्त के पीछे द्विजत्व का क्षीण होना ही है। 
इस क्षीणता से ही भ्रम की स्थिति है जोकि जातवेद की तुलना में जावेद को प्रतिष्ठित करती है, त लुप्त है। भास्वित या प्रकाशित 'भ' को ऊष्म वह्नि 'र' के साथ धारण कर सकने वाला ‘त’ न हो तो न भरत होने, न भारत, अन्य देशों की नियति मैं नहीं जानता।
भ्रम इतना व्यापक है कि हमें पता ही नहीं चलता ! मैट्रिक्स फिल्म की भाँति, अत्यल्प को वास्तविकता का आभास या ज्ञान होता है। हम अंधे हुये भागे जा रहे हैं। भग देवता की एक आँख फूटी थी, हमारी दोनों हैं। 
द्विजत्व के क्षीण होने के कुछ उदाहरण देखें। मुस्लिम राजपूत। वीडियो चलते हैं, साक्षात्कार होते हैं कि हम मुस्लिम राजपूत हैं जी, भगवान राम हमारे पुरखे हैं। कई पीढ़ियों पहले हमारे पूर्वज मियाँ बन गये थे किन्‍तु हैं हम राजपूत ही ! लोग चरमानंद की प्राप्ति के साथ प्रसारित करने लगते हैं। भाई! जब ज्ञान हो ही गया है तो मरुस्थल के लुटेरे को तज लौट क्यों नहीं आते? 
न जी, हमें तो हुजूर प्यारे हैं उनकी शान में उल्टा सीधा न बोलो, तुम्हारे गले पर सल्ला फेर देंगे। आयेंगे तो तुम्हारी बिरादरी में ही, बोलो बेटी दोगे? 
भारी समस्या। पतित हुये, मल पीढ़ियों तक ढोते रहे, लौटना है तो उनकी बेटियों के लिये ही, जिनके पुरखों ने, जिन्होंने सब कुछ सह कर भी अपना सत्व न छोड़ा, धर्म नहीं छोड़ा ! 
जावेद खान राजपूत भाई! आर्यसमाज है, नित्यानन्‍द हैं, अनेक विकल्प उपलब्ध हैं। लौट आओ। 
न जी, रहेंगे तो मुसलमान ही, लौटे तो हमें वही चाहिये। 
... इन्हें आप सिर पर उठाये हुये हैं ! इनकी शान में नातिया कलाम रचे गाये जा रहे हैं। 
यही पतित होना है, भ्रष्ट होना है। 
पढ़ना लिखना कुछ नहीं, शस्त्र के साथ शास्त्र नहीं, समाज को क्षत से बचाने वाले ये क्षत्रिय हैं। जो मार देंगे, काट देंगे का दिन रात जप करते हैं, आवश्यकता पड़े तो लाठी भी न उठे! जीन्स सरकने लगेगी !!  
दूसरा पक्ष है इसाइयत का, पढ़े लिखे हिंदुओं को बहुत सहानुभूति है उनसे जिनमें द्विज श्रेष्ठ ब्राह्मण सबसे आगे हैं। ब्राह्मण? चौंक गये न?? 
अरे! ब्राह्मणों का मतान्‍तरण तो सबसे अल्प है, क्या बक बक कर रहे हो? 
भैया जी‍ ! मैं बपतिस्मा पढ़ कर क्रॉस लटकाये की बात नहीं कर रहा, तिलक लगाये मानसिक इसाई की बात कर रहा हूँ। शिक्षा दीक्षा में परम्परा से ब्राह्मण को आगे रहना है। आजकल भी हैं। आजकल की शिक्षा पद्धति की वास्तविकता क्या है? इसाइयत का प्रसार। पढ़ाई जाने वाली करुणा भी इसाई करुणा है, बचपन से मस्तिष्क प्रक्षालन। प्रक्षालितों में सबसे आगे ब्राह्मण। भारत का वर्तमान तन्‍त्र नीचे से शीर्ष तक बैठे इन मानसिक इसाइयों से लड़ रहा है। इनके कारण ही वह हाजी अली, हाजी अली जपना तज नहीं पा रहा क्योंकि उसे पता है कि चाँद मियाँ उर्फ साईं बाबा को प्रतिष्ठित भी इन्हीं मानसिक इसाइयों ने किया। अब्राहमी भाईचारा ‘त’ विहीन, अग्नि च्युत, संस्कार मुक्त, sterile भारत की समस्त विश्व को देन है। उसके साथ कम्युनिज्म को भी जोड़ दें तो परशु परशु जपते, साथ में मुसलमान पिता की संतान कैथोलिक इसाई को जनेऊ पहना ‘पण्डित’ घोषित करने वाले कौन हैं? कम्युनिज्म के शीर्ष पर सबसे अधिक कौन मिलेंगे? हाँ, ठीक समझे। 
द्विजों, द्विजबंधुओं ! क्षमा करना, इस देश को संस्कारहीन अद्विजों ने नहीं, संस्कार’च्युत’ विप्रों ने, मूँछ मरोड़ते राजन्य वर्ग ने, स्वार्थी तोंदुल वैश्य ने गर्त में पहुँचाया। सोशल मीडिया पर इनके सबसे अधिक जातिवादी 'गोपनीय' समूह हैं, राम जाने वहाँ क्या करते रहते हैं!  
विचित्र विभ्रम की स्थिति है। अनेक युवा तेजस्वी ब्राह्मण भी मूर्खता नहीं तज पा रहे। वे सम्मिलन की बातें करते हैं किन्‍तु यह स्थूल सच देख ही नहीं पाते कि अब्राहमियों ने तुम्हारा कितना अपनाया? कई पूजा घरों में साँई बाबा के साथ इसा मसीह भी मिलेगा, किसी अब्राहमी के घर में राम, कृष्ण, शङ्कर मिलेंगे? सब कचरा करने का ठीका तुमने ही क्यों ले रखा है भाई?
पाश्चात्य फैशन प्रचार जैसे फेमिनिज्म से ये बहुत प्रभावित हैं। मेधावी हैं ही, भारत के संदर्भ में परिवर्तित कर प्रस्तुत करते हैं – आह, उह, वाह तीनों एक साथ पाने के लिये। दर्शायेंगे कि कैसे तंत्र साधना पद्धति स्त्रियों के नेतृत्व में एक अनजान से गाँव में आज भी प्रचलित है, स्थापित है। श्रेय किसे? विदेशों में बसे वहाँ के भारतीयों को। 
लगे हाथ यह भी बताते चलेंगे कि वे स्त्रियाँ इसाई हैं, बपतिस्मा भी लिया हुआ है, चर्च जाती हैं किन्‍तु अपना तंत्र मार्ग नहीं छोड़ा। 
अरे भोंदू! 
इसी प्रवृत्ति का लाभ तो इसाई मतांतरण करने वाले उठा रहे हैं! तुम्हारी अनुकृतियाँ लगा कर मूर्ख बनाते हैं किन्तु अपना मूल कभी नहीं छोड़ते। चर्च में योनिपीठम् की स्थापना करा कर देखो तो ! इसा को तज रुद्र की प्रतिमा लगाने की बात करो तो !! 
वे लोग तंत्रमार्गी नहीं, तुम्हारे ही समान भ्रष्ट शिक्षा व्यवस्था के जने हैं जिन्हें मूल सच ही नहीं दिखता कि जड़ों में दीमक लगे हैं। जिन्हें गले लगाये हैं, वे कर्कोटक नाग से भी अधिक घातक हैं।   
ऐसे विप्रों के साथ सबसे बड़ी समस्या धूर्तता है जोकि कभी कभी बहुत ही भोलेपन के साथ ‘भी’ दिख जाती है। धूर्तता भोलेपन के साथ? इस कारण कि वह अब सहज स्वभाव बन चुकी है, पता ही नहीं चलता रे कि क्या कर रहे हैं! हजार शब्दों का लेख लिखेंगे, एक वाक्य, केवल एक वाक्य दस से बीस शब्दों का, प्रवाह के साथ ही डाल देंगे। 
वह वाक्य ही जामन का, नींबू के रस का काम करता है – अवचेतन के स्तर पर। सारा दूध जम कर, फट कर व्यर्थ ! भ्रष्ट विप्र सबसे घातक होता है क्यों कि वह आप के अवचेतन से खेलता है। कहते हैं न, मन्‍त्र की शक्ति शस्त्र से कई गुनी? आधुनिक समय का मन्‍त्र है – अवचेतन के स्तर पर प्रदूषण एवं प्रहार। ऐसे विप्रों से सावधान रहें, जातिवाद की माला जपते शूरवीरों से सावधान रहें, भ्रष्ट द्विजों से सावधान रहें, सतर्क रहें। 
.... 
बतकूचन बहुत हो गई, वास्तविक काम का समय आ गया है। नीचे लिखे संदेश को ट्विटर पर लगायें ताकि सोई हुई भारत सरकार के जगने की प्रायिकता में वृद्धि हो।

लोकतंत्र में जन दबाव काम करता है। सोती हुई सरकार को जगायें एवं स्वयं भी जागृत हों। समाज एवं परिवेश पर सजग दृष्टि रखें। जो हिंदू भाई वास्तव में संकट में हैं, उनकी सहायता करें। इसाई भेंड़िये ऐसों की ही सहायता कर मतांतरण कराते हैं। 

twitter.com एक माइक्रोब्लॉगिंग साइट है जो विविध सरकारी संगठनों के ध्यानाकर्षण हेतु बहुत प्रभावी है। 
अनुरोध है कि यदि वहाँ खाता न हो तो बनायें एवं नीचे लिखे संदेश को कॉपी कर के पोस्ट करें ताकि प्रधानमंत्री, उनके कार्यालय एवं गृहमंत्री तक संदेश पहुँचे। इसे अधिकाधिक साझा करें तथा अपने मित्रों एवं परिचितों को भी करने के लिये प्रेरित करें। हिंदू धर्म एवं भारत वास्तव में संकट में हैं। 
मैं दक्षिण में देख रहा हूँ, जिसकी पुनरावृत्ति उत्तर में होने वाली है। 

विश्वास करें कि न तो इससे आप की पवित्रता पर आँच आयेगी, न उदारता पर, न आप पर धर्मांधता की चिप्पी लगेगी। आप के आराध्य भी रुष्ट भी नहीं होंगे। मोहनदास वास्तव में प्रसन्न होंगे क्यों कि ‘सामान्य हिंदू कायर होते हैं’, उनकी यह सत्य की खोज असत्य सिद्ध हो जायेगी। आप को कोई घातक रोग भी नहीं पकड़ेगा। भारत सरकार आप के विरुद्ध कोई कार्रवाई भी नहीं करेगी। 

... कहने का अर्थ यह है कि आप को कोई हानि नहीं पहुँचनी, हाँ एक बहुत बड़ी आसन्न आपदा को बाधित करने में आप का यह एक अति लघु योगदान अवश्य होगा। 
Choice is yours! 
________________________

@narendramodi @PMOIndia @rajnathsingh इसाई संगठन जोशुआ प्रोजेक्ट भारत में मतान्‍तरण में लिप्त है।इसके विशाल तन्‍त्र,डाटाबेस से स्पष्ट है कि इसे अकूत अमेरिकी फंडिंग है।राष्ट्रहित में कृपया इसे एवं इसके ये वेबसाइट भी प्रतिबंधित करें https://joshuaproject.net/countries/IN , https://godlovesyadav.org
______________________


गुरुवार, 24 मई 2018

नारद पुराण में राम उपासना

नारद पुराण में विविध आराध्यों की उपासना विधियाँ बीज मन्‍त्रों, न्यासादि के साथ दी हुई हैं। फेसबुक पर श्री विशाल वर्मा ने 'र' अक्षर की महत्ता पर लिखा तो सहज ही ध्यान में आया कि तन्‍त्र में शारदा लिपि की अक्षर-मात्रायें देवी विग्रह के रूप में भी जानी जाती हैं।

वैदिक शब्द 'भरत' अग्नि अर्थ में भी प्रयुक्त है, 'र' वर्ण को अग्नि से सम्बद्ध बताने के संदर्भ उपलब्ध हैं। मैंने सोचा कि पुराण अध्ययन क्रम में नारद पुराण में ढूढ़ूँ तो सम्भवत: कुछ मिल जाये। क्या संयोग है! मिल ही गया। 
रामोपासना का मन्‍त्र 'रामाय नम:' वैष्णव मन्‍त्रों में सर्वाधिक फलदाता है, गाणपत्यादि मंत्रों से कोटि कोटि गुना प्रभावी।... 
वैष्णवेष्वपि मन्त्रेषु राममन्त्राः फलाधिकाः ।

गाणपत्यादिमन्त्रेभ्यः कोटिकोटिगुणाधिकाः ॥ १,७३.३ ॥

विष्णुशय्यास्थितो वह्निरिन्दुभूषितमस्तकः ।

रामाय हृदयान्तोऽयं महाघौधविनाशनः ॥ १,७३.४ ॥

...
दूसरे श्लोक में 'र' वर्ण की विवेचना स्पष्ट होती है।वह्नि अर्थात अग्नि रूपी अक्षर 'र' विष्णु शय्या पर अवस्थित है। 'म' रूपी सोम (चन्द्र) इसके मस्तक पर विराजमान है तथा यह 'आय' से अंत होता है -
रामाय नम:।

बीज रूप में राम को वर्णन अनुसार 'राँ' लिखा जाना चाहिये। एकाक्षर रघुपति मन्त्र, मानों दूजा कल्पवृक्ष। 
...
वह्निः शेषान्वितश्चैव चन्द्रभूषितमस्तकः 

एकाक्षरो रघुपतेर्मन्त्रः कल्पद्रुमोऽपरः

...
वह्नि: - अग्नि स्वरूप 'र'
शेषान्‍वित - शेष अर्थात 'आ' की मात्रा [लक्ष्मण को शेष का अवतार भी कहा जाता है]
चन्द्रभूषित मस्तक: - सिर पर चन्द्रबिन्दु
(ँ चिह्न तन्‍त्र में विविध अर्थ रखता है, शक्ति से भी सम्बंधित, जाने क्यों चंद्रवदनी सीता देवी ध्यान में आने लगती हैं, 'राँ' अरण्य में रमते राम, सीता एवं लक्ष्मण का प्रतीक तो नहीं?)

मुझसे बहुत पहले किसी ने पूछा था कि सूर्यवंशी राम 'रामचंद्र' क्यों कहे जाते हैं। प्रतीत होता है कि आज उत्तर मिल गया।
यह मंत्र महापापों का विनाश करने वाला है। राम बीज है, नम: शक्ति। इसकी महत्ता ऐसे लिखी गयी है:
सर्वेषु राममन्त्रषु ह्यतिश्रेष्ठः षडक्षरः ।
ब्रह्महत्यासहस्राणि ज्ञाताज्ञातकृतानि च ॥ १,७३.५ ॥

स्वर्णस्तेय सुरापानगुरुतल्पायुतानि च ।

कोटिकोटिसहस्राणि ह्युपपापानि यानि वै ॥ १,७३.६ ॥
मन्त्रस्योञ्चारणात्सद्यो लयं यान्ति न संशयः ।
ब्रह्मा मुनिः स्याद्गायत्री छन्दो रामश्च देवता ॥ १,७३.७ ॥
आद्यं बीजं च हृच्छक्तिर्विनियोगोऽखिलाप्तये ।
षड्दीर्घभाजा बीजेन षडङ्गानि समाचरेत् ॥ १,७३.८ ॥


श्रीराम राजसभा में हनुमान जी का ध्यान प्रभु के आगे पुस्तक बाँचते हुये करना चाहिये - वाचयन्तं हनूमन्तग्रतो धृतपुस्तकम्। 

लोक में र एवं म के इन स्वरूपों की स्मृति भी है। पं. छन्नूलाल मिश्र के गायन में सुनिये : 





'  

गुरुवार, 17 मई 2018

राम से बड़ा राम का नाम : भीम को बुद्ध से कुछ नहीं लेना देना !

भीम को गौतम बुद्ध से कुछ नहीं लेना देना था। बुद्ध का अनुयायी होता तो मनुस्मृति जलाने का आयोजन ही नहीं करता ! तो उसने बौद्ध धम्म क्यों अपनाया? रहस्य उसके पिता के नाम में है तथा गंगा-यमुना क्षेत्र के समतल भाग से सह्याद्रि तक पसरे विराट भू भाग में चतुर्थ वर्ण द्वारा सबसे अधिक प्रयुक्त नाम/उपनाम 'राम' में है। वह राम से उनके जुड़ाव को समझता था। एक भगवान की काट दूसरे भिन्न वैचारिक भगवान में ही थी, न तो मूर्ति भञ्जक इस्लाम में, न सलीबधारी ख्रिस्तान में। प्रतीक वास्तविकता से कई गुना शक्तिशाली होते हैं। बुद्ध एक आकर्षक प्रतीक हैं - सङ्कीर्ण मानसिकता वालों की घृणा के कारण भी एवं अपने चमत्कृत कर देने वाले व्यक्तित्व के कारण भी। कर्मकाण्डों के विरुद्ध तो हैं ही, यह बात दूजी है कि स्वयं अनुष्ठान भी करवाते थे! अहिंसा के आवरण में चरम द्वेषी हिंसक प्रचार एवं पीढ़ियों तक चलने वाले मस्तिष्क प्रक्षालन को छिपाना बहुत सरल था। भावी सत्ता तंत्र भी बुद्ध के प्रति सहानुभूति का भाव रखता था। ऐसे में नवजात पंथ को पालना, पोसना एवं भविष्य हेतु तत्पर संघर्षियों को बौद्ध धर्म से इतर किसी आड़ में ढालना असम्भव था। मोहनदास एवं भीम, दोनों प्रतीकों की शक्ति जानते थे एवं दुर्लभ यशलिप्सा की मानसिकता के कारण एक दूसरे को प्रतिद्वंद्वी पाते थे। इसी कारण उनकी टकराहटें भी हुईं। कभी विचार करें कि उसने जलाने को मनुस्मृति ही क्यों चुनी जब कि उसके अनुसार तो न कोई शासन तंत्र चलता था, न ही कोई समाज तंत्र? मिताक्षरा याज्ञवल्क्य स्मृति की टीका थी एवं दायभाग विविध स्मृतियों से चुन कर संग्रहीत संकलन की भाँति। इन दो से ही हिंदू विधि का बहुत महत्वपूर्ण अंश चालित था। भीम ने दहन के लिये इन्हें नहीं चुना। इस चयन में भी उसकी धूर्त मेधा के दर्शन होते हैं। मनु को सबने प्रमाण माना है, वे सबसे प्राचीन धर्मशास्त्री हैं। मनु सनातनी जीवन शक्ति के शीर्ष पितर हैं। तत्कालीन हिंदू जीवन पद्धति पर स्मृतियों का गहरा प्रभाव था, मुख्य केंद्रीय क्षेत्र के अधिकांश हिंदू स्मार्त कहलाते थे, विशुद्ध एवं कट्टर शैव, वैष्णवादि उनकी तुलना में अल्प थे। उसने मनु एवं उनकी स्मृति पर प्रहार को एक बहुत ही सशक्त प्रतीक के रूप में चुना। आज जो कतिपय गाँवों के घरों से हिन्‍दू देवी देवताओं के चित्र एकत्र कर जलाये जाते हैं, उनके मूल में बुद्ध का आश्रय एवं मनु का विरोध, ये दो संरक्षक पोषक तत्व हैं। इन हिंसकों को न तो बौद्ध धर्म से कोई लेना देना है, न बुद्ध से। बुद्ध प्रतीक अस्त्र के रूप में प्रयुक्त हो रहे हैं। ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार परशुवादियों को न तो जमदग्नि से कुछ लेना देना, न पुत्र राम के साथ उनके द्वारा शोधित संवर्धित आर्ष विद्याओं से। राम जामदग्नेय का विकृत परशुधारी रूप बहुत ही प्रभावी एवं आकर्षक प्रतीक है जिसकी ओट ले कल्मष छिपा कर उसका संवर्धन किया जा सकता है। प्रतीकों से सावधान रहें। उनके स्थान पर उन व्यक्तित्वों का अवगाहन करें जिनके आधार पर प्रतीक गढ़े गये हैं। ढेर सारे मिथ ध्वस्त होंगे, प्रकाश मिलेगा। वैसे आज कल प्रतीकों का सबसे सफलता पूर्वक नवोन्मेषी प्रयोग इसाई कर रहे हैं। ... आ च॒ वह॑ मित्रमहश्चिकि॒त्वान्त्वं दू॒तः क॒विर॑सि॒ प्रचे॑ताः ॥ - पिता जमदग्नि के साथ राम द्वारा दर्शित ऋचा। हे मित्रों का सत्कार करने वाले! ज्ञानवान हो कर तू देवों को हमारे इस यज्ञ में ले आ। क्रांतदर्शी एवं उत्तम चित्त वाला तू उनका हितकर्ता दूत है। ... अन्‍धभूतो अयं लोको तनुकेत्थ विपस्सति। - बुद्ध यह लोक अन्‍धे के सदृश है, यहाँ देखने वालों की संख्या अल्प है।

रविवार, 6 मई 2018

महाभारत : द्रौपदी स्वयम्वर एवं विवाह - 1

[हिडिम्बा प्रकरण से आगे] 
__________________________________________

बहुधा आख्यानों में विचित्र यौन सम्‍बंधों के वर्णन मिलते हैं। मनुष्य का पक्षी से, किसी मृग से आदि आदि। ऐसे प्रकरणों को गल्प कह कर निरस्त भी कर दिया जाता है किन्‍तु ऐसा करना भूसे के साथ साथ चावल फेंक देने भाँति ही होता है। इन प्रकरणों में आप बहुधा या तो किसी ऋषि को पायेंगे या प्रतापी राजा को। कृषि सभ्यता स्थापित होने पर भी समान्‍तर समाज बने रहे। दुर्गम वन एवं पर्वत प्रान्‍तरों के कारण एक दूसरे से कटे अपने आप में विकसित पल्लवित होते रहे। वेदों में नवग्व एवं दशग्व के उल्लेख मिलते हैं। एक अनुमान यह भी है कि ये वे ऋषि थे जो वर्षा के दो या तीन कठिन माह तज शेष समय भौतिक उपादानों, नयी सम्भावनाओं, समाजों इत्यादि के अनुसन्‍धान में निरन्‍तर भ्रमणशील रहते थे। प्रतापी राजा भी कृषि योग्य भूमि विस्तार एवं राज्य में कराधान की वृद्धि के उद्देश्य से जन विस्तार हेतु दुर्गम क्षेत्रों में कभी नितान्‍त अकेले, कभी सेना के साथ अभियान के दुस्साहस किया करते थे। ऐसे में नये समाजों के साथ उनके साक्षात्कार होते रहते थे। समायोजन हेतु किये गये अनूठे उद्योग कवियों की वाणी में अद्भुत रससिक्त हो अतिशयोक्तियों के माध्यम से जन सामान्य तक पहुँचते थे।
स्त्री पुरुष आकर्षण, विवाह एवं संयोग भी होते। विविध टोटेम (गण चिह्न) यथा पक्षी, मृगशिर मुकुट, नागचिह्न आदि धारण करने वाले समूहों को कौतुक वश पक्षी, मृग आदि कहा गया। कभी समय की मार के कारण अपने समाज में स्त्री न मिली तो इन समाजों में सम्बन्‍ध कर लिये। ये लोग अनूठे थे क्योंकि नितान्‍त अपरिचित समूह से मैत्री स्थापित करना सरल नहीं होता। अस्तु। 

द्रौपदी स्वयम्वर के पूर्व गंधर्व चित्ररथ से युद्ध का प्रकरण आता है। उसने एक अनूठी बात कही कि आप लोग अग्नि से रहित हैं, आहुति नहीं देते एवं आप के आगे कोई विप्र (पुरोहित) भी नहीं है।मैंने इस कारण ही आप पर आक्रमण किया। 
अनग्नयोऽनाहुतयो न च विप्रपुरस्कृताः
यूयं ततो धर्षिताः स्थ मया पाण्डवनन्दन
पाण्डव स्नातक हो चुके थे अत: वटुक अपेक्षित अग्नि अनुष्ठान नहीं करते थे, अविवाहित थे अत: त्रिविध अग्नि आहुति नहीं करते थे, पुरोहित नहीं थे अत: अन्य कर्म भी नहीं होते थे जोकि राजन्य वर्ग से अपेक्षित थे। यह हिडिम्बा प्रकरण हो जाने के पश्चात की घटना है। यह द्वितीयक प्रमाण है कि भीम एवं हिडिम्‍बा का संयोग विवाह संस्कार के बिना हुआ था। 
गंधर्व ने ही उन्हें अच्छा पुरोहित कैसा हो, यह बताने के लिये वसिष्ठ की कथा सुनाई। उसी की प्रेरणा से पाण्डवों ने धौम्य को पुरोहित बनाने के पश्चात ही पाञ्चाल देश स्वयम्वर में भाग लेने को प्रस्थान किया। 
गंधर्व ने अर्जुन को तपतीनंदन, तापत्य आदि सम्‍बोधनों से पुकारा था। अर्जुन के पूछने पर उसने बताया कि आप के कुल में राजा ऋक्ष के पुत्र संवरण का सूर्यपुत्री तपती से विवाह वसिष्ठ की सहायता से हुआ था, इस कारण आप लोग तापत्य हुये। देखें तो यहाँ ऋषि एवं राजा का सम्मिलित उद्योग सूर्यपूजक समाज की अद्भुत तेजस्विनी रूपवती कन्या के साथ संवरण के विवाह के रूप में फलीभूत होता है। संवरण तो आसक्त थे ही, तपती भी उन पर आसक्त थी किन्‍तु राजा द्वारा गन्‍धर्व विवाह के अनुरोध पर उसने स्पष्ट कहा था कि मेरे पिता जीवित हैं। यह देह मेरी नहीं, उनकी है, आप मुझे उनसे माँग लें। आप जैसे को कौन पिता अपनी पुत्री नहीं देना चाहेगा? 
गंधर्व ने अर्जुन को उनके कुल के विविध नाम बताये - तपती से तापत्य, कुरु से कौरव, पुरु से पौरव, अजमीढ से आजमीढ, भरत से भारत; इतने नामों से आप लोग प्रसिद्ध हैं। 
गन्‍धर्व द्वारा तपती के नाम को महत्व दिये जाने से स्पष्ट है कि कभी वह प्रभावशाली समाज रहा होगा जिसकी स्मृति गंधर्व को थी, गंधर्व भी तो मनुष्य समाज से भिन्न ही माने जाते थे। 

द्रुपद का एक नाम यज्ञसेन था, उनकी पुत्री होने के कारण द्रौपदी याज्ञसेनी भी कहलाई। स्वयंवर में पहुँचने से पूर्व पाण्डवों ने वेदार्थ तत्वज्ञ धौम्य को अपना पुरोहित बनाया जिन्होंने प्रस्थान से पूर्व उनके लिये स्वस्तिवाचन किया। नीलोत्पलसम देह गंध वाली याज्ञसेनी के स्वयंवर में आये विविध राजाओं से दान प्राप्त करने, उत्सव एवं स्वयंवर देखने के लिये ब्राह्मणों का एक दल दक्षिणपञ्चाल जा रहा था, पाण्डव उसके साथ हो लिये। मार्ग में उन्हें कृष्ण द्वैपायन व्यास भी मिले जिनकी आवभगत कर एवं आवश्यक वार्त्तालाप कर पाण्डव उनसे अनुमति ले कर आगे बढ़ गये।
द्रुपद की इच्छा कृष्णा का हाथ किरीटी अर्जुन के हाथ देने की थी। अर्जुन के अन्‍वेषण के उद्देश्य से उन्होंने ऐसा दृढ़ धनुष बनवाया था जिसे कोई अन्य नवा न सके। 
यज्ञसेनस्य कामस्तु पाण्डवाय किरीटिने
कृष्णां दद्यामिति सदा न चैतद्विवृणोति सः
सोऽन्वेषमाणः कौन्तेयान्पाञ्चाल्यो जनमेजय
दृढं धनुरनायम्यं कारयामास भारत
एक कृत्रिम आकाश यंत्र भी बनवाया। उस धनुष एवं दिये गये 5 बाणों के प्रयोग से यंत्र के छिद्र से हो कर लक्ष्यभेद करने वाला विजयी कृष्णा को प्राप्त करने वाला था। स्वयंवर में कौरवों के साथ कर्ण एवं अश्वत्थामा भी पहुँचे थे। कृष्ण समस्त वृष्णि वंश के साथ दर्शक के रूप में पहुँचे थे। कृष्ण ने भस्म से सम्पूर्ण शरीर छिपाये पाण्डवों को बलराम को दिखाया: 
भस्मावृताङ्गानिव हव्यवाहा;न्पार्थान्प्रदध्यौ स यदुप्रवीरः
शशंस रामाय युधिष्ठिरं च; भीमं च जिष्णुं च यमौ च वीरौ
शनैः शनैस्तांश्च निरीक्ष्य रामो; जनार्दनं प्रीतमना ददर्श
राजा लोग धनुष चढ़ाने के प्रयास किये, असफल हो अपने अपने स्थान बैठ गये। 
... 
यहाँ वह क्षेपक प्रसङ्ग है जिसमें कर्ण द्वारा लक्ष्यभेदन हेतु प्रत्यञ्चा चढ़ाना एवं द्रौपदी का यह कहना कि सूतपुत्र का वरण नहीं करूँगी वर्णित है। 
दाक्षिणात्य पाठ में यह प्रसंग नहीं है, नीलकण्ठी पाठ में भी नहीं है एवं निम्नतर आलोचना द्वारा शोधित भण्डारकर पाठ में भी नहीं है। नीलकण्ठी पाठ में उल्लेख है कि कर्ण धनुष पर प्रत्यञ्चा एवं बाण नहीं चढ़ा पाया था।
इस तथ्य की पुष्टि तब हो जाती है जब ब्राह्मणों के दल से अर्जुन संधान को उठते हैं। उस समय ब्राह्मण हर्ष एवं शङ्का से भर परस्पर बात करते हैं कि जिसे कर्ण शल्य समेत लोकप्रसिद्ध बड़े बड़े धनुर्धर नहीं नवा पाये उसे यह दुर्बल दिखता बटुक कैसे साध पायेगा? 
यत्कर्णशल्यप्रमुखैः पार्थिवैर्लोकविश्रुतैः
नानतं बलवद्भिर्हि धनुर्वेदपरायणैः
तत्कथं त्वकृतास्त्रेण प्राणतो दुर्बलीयसा
बटुमात्रेण शक्यं हि सज्यं कर्तुं धनुर्द्विजाः
क्षेपक ने सम्पूर्ण प्रकरण को अंतर्विरोधी बना दिया है। 
आन्तरिक प्रमाणों से ही स्पष्ट है कि न तो कर्ण धनुष पर प्रत्यञ्चा चढ़ा पाया था, न ही द्रौपदी ने ऐसा कुछ कहा था कि सूतपुत्र से विवाह नहीं करेगी।
... 
अर्जुन आये, धनुष के पास अचल पर्वत की भाँति खड़े हो गये। उन्होंने धनुष की दक्षिणावर्त परिक्रमा की। उसे प्रणाम किया एवं पलक झपकते ही प्रत्यञ्चा चढ़ा दी। बाण हाथ में लिये एवं बात ही बात में लक्ष्य को भेद दिया।
अर्जुनो धनुषोऽभ्याशे तस्थौ गिरिरिवाचलः
स तद्धनुः परिक्रम्य प्रदक्षिणमथाकरोत्
प्रणम्य शिरसा हृष्टो जगृहे च परंतपः
सज्यं च चक्रे निमिषान्तरेण; शरांश्च जग्राह दशार्धसंख्यान्
विव्याध लक्ष्यं निपपात तच्च; छिद्रेण भूमौ सहसातिविद्धम्
अन्तरिक्ष में निनाद हुआ, उपस्थित समाज में महान आनंद कोलाहल छा गया। 
ततोऽन्तरिक्षे च बभूव नादः; समाजमध्ये च महान्निनादः
कोलाहल बढ़ने लगा तो वरिष्ठ युधिष्ठिर नकुल एवं सहदेव के साथ आवास पर चले गये: 
तस्मिंस्तु शब्दे महति प्रवृत्ते; युधिष्ठिरो धर्मभृतां वरिष्ठः
आवासमेवोपजगाम शीघ्रं; सार्धं यमाभ्यां पुरुषोत्तमाभ्याम्
द्रुपद ने (उपद्रव की स्थिति में) अर्जुन को अपनी सेना द्वारा सहायता का निश्चय किया।
लक्ष्य को भेदा हुआ जान इन्‍द्र समान अर्जुन को देखती श्वेत वरमाला हाथ में लिये कृष्णा मंद मंद मुस्कुराती उनके पास पहुँची। 
अद्भुत कर्म कर स्वयंवर में विजयी हुये अर्जुन पत्नी को साथ ले बाहर निकले जो उनका अनुसरण कर रही थी। ब्राह्मणों ने उनका बड़ा सत्कार किया। 
विद्धं तु लक्ष्यं प्रसमीक्ष्य कृष्णा; पार्थं च शक्रप्रतिमं निरीक्ष्य
आदाय शुक्लं वरमाल्यदाम; जगाम कुन्तीसुतमुत्स्मयन्ती
स तामुपादाय विजित्य रङ्गे; द्विजातिभिस्तैरभिपूज्यमानः
रङ्गान्निरक्रामदचिन्त्यकर्मा; पत्न्या तया चाप्यनुगम्यमानः

स्वयम्‍वर विजयी अर्जुन को राजाओं ने ब्राह्मण समझा, ब्राह्मणों ने हर्षध्वनि एवं उत्साह वर्धन किया ही था। ईर्ष्या एवं अमर्ष से भरे पराजित राजाओं ने स्वयम्वर में कन्या प्राप्त करने का अधिकार ब्राह्मणों को नहीं है, यह मर्यादा उल्लंघन है, ऐसा कहते हुये द्रुपद एवं द्रौपदी का वध करने के उद्देश्य से आक्रमण किया ताकि दण्ड मिले एवं भविष्य में स्वयम्वर की मर्यादा न भङ्ग हो, धर्म की रक्षा हो: 
न च विप्रेष्वधीकारो विद्यते वरणं प्रति
स्वयंवरः क्षत्रियाणामितीयं प्रथिता श्रुतिः
... 
अवमानभयादेतत्स्वधर्मस्य च रक्षणात्
स्वयंवराणां चान्येषां मा भूदेवंविधा गतिः

ब्राह्मण अवध्य होता है, इस कारण अर्जुन के प्रति कोई ऐसा भाव नहीं आया - विप्रियं पार्थिवेन्द्राणां नैष वध्यः कथंचन। द्रुपद ब्राह्मणों की शरण में गये, भीम अर्जुन उनकी रक्षा को आगे आ गये। दोनों की ओर सङ्केत कर कृष्ण ने बलराम से कहा - ये निश्चित ही भीम अर्जुन हैं तथा जो गौरवर्ण ज्येष्ठ दो अश्विनीकुमारों सम भाइयों के साथ कुछ समय पहले बाहर गये, वे युधिष्ठिर थे। मैंने सुना है कि लाक्षागृह की आग से कुन्‍ती सहित पाण्डव बच गये थे - मुक्ता हि तस्माज्जतुवेश्मदाहा;न्मया श्रुताः पाण्डुसुताः पृथा च। बुआ पृथा सहित कुरुकुल के इन वीरों को सुरक्षित देख मुझे बहुत प्रसन्नता हुई है - प्रीतोऽस्मि दिष्ट्या हि पितृष्वसा नः; पृथा विमुक्ता सह कौरवाग्र्यैः। 
कर्ण अर्जुन से युद्ध करने लगा। अर्जुन के लाघव से विस्मित हुआ - आप या तो साक्षात धनुर्वेद हैं, या भार्गव राम - किं त्वं साक्षाद्धनुर्वेदो रामो वा विप्रसत्तम। साक्षात विष्णु हैं या इंद्र - अथ साक्षाद्धरिहयः साक्षाद्वा विष्णुरच्युतः। 
युद्ध में मेरे कुपित होने पर सामना या तो साक्षात इंद्र कर सकते हैं या किरीटी अर्जुन: 
न हि मामाहवे क्रुद्धमन्यः साक्षाच्छचीपतेः
पुमान्योधयितुं शक्तः पाण्डवाद्वा किरीटिनः
अर्जुन ने कहा कि मैं ब्राह्मण ही हूँ, युद्धकला में श्रेष्ठ, सर्वशस्त्र ज्ञाता हूँ। गुरुकृपा से ब्रह्मास्त्र एवं ऐंद्रास्त्र भी मुझे सिद्ध हैं। वीर! रण में तुमसे जीतने के लिये यहाँ खड़ा हूँ। तुम भी स्थिरतापूर्वक खड़े रहो। 
ब्राह्मणोऽस्मि युधां श्रेष्ठः सर्वशस्त्रभृतां वरः
ब्राह्मे पौरंदरे चास्त्रे निष्ठितो गुरुशासनात्
स्थितोऽस्म्यद्य रणे जेतुं त्वां वीराविचलो भव
अर्जुन के मुँह से यह बात सुन कर यह मानते हुये कि ब्रह्मतेज अजेय होता है, कर्ण पीछे हट गया। 
एवमुक्तस्तु राधेयो युद्धात्कर्णो न्यवर्तत
ब्राह्मं तेजस्तदाजय्यं मन्यमानो महारथः
भीम ने शल्य को पटक कर रगड़ दिया। उन दोनों को घेरे सभी आश्चर्यचकित हो अनुमान लगाने लगे। कृष्ण को पक्का विश्वास हो गया कि ये दोनों भीम एवं अर्जुन ही हैं। उन्होंने यह कहते हुये कि इन ब्राह्मणों ने द्रौपदी को धर्मानुसार ही प्राप्त किया है, सबको लड़ाई समाप्त करने को समझाया। सभी मान गये। 
तत्कर्म भीमस्य समीक्ष्य कृष्णः; कुन्तीसुतौ तौ परिशङ्कमानः
निवारयामास महीपतींस्ता;न्धर्मेण लब्धेत्यनुनीय सर्वान्
दोनों वीर द्रौपदी को लेकर चल दिये। 
उधर भिक्षाकाल हो जाने पर भी पुत्रों के न लौटने से माता कुंती के मन में विविध विनाश आशंकायें उठने लगीं। मेरे कुरुवीरों को पहचान कर धृतराष्ट्र के पुत्रों ने मार तो नहीं डाला? कहीं मायावी राक्षसों ने तो वैर नहीं निकाल लिया! 
तेषां माता बहुविधं विनाशं पर्यचिन्तयत्
अनागच्छत्सु पुत्रेषु भैक्षकालेऽतिगच्छति
धार्तराष्ट्रैर्हता न स्युर्विज्ञाय कुरुपुंगवाः
मायान्वितैर्वा रक्षोभिः सुघोरैर्दृढवैरिभिः
क्या महात्मा व्यास की वाणी असत्य हो जायेगी? विपरीतं मतं जातं व्यासस्यापि महात्मनः। 
कुंती का मन विविध चिन्ताओं में डूबने उतराने लगा। तभी अपराह्न में मेघों से घिरे सूर्य की भाँति ब्राह्मणों से घिरे अर्जुन ने उन्हें आगे कर घर में प्रवेश किया: 
महत्यथापराह्णे तु घनैः सूर्य इवावृतः
ब्राह्मणैः प्राविशत्तत्र जिष्णुर्ब्रह्मपुरस्कृतः
कुम्हार के कर्मशाला में प्रवेश कर उन दो महानुभावों भीम एवं अर्जुन ने माता को जोकि कुटी में भीतर थीं, पुकारा:
गत्वा तु तां भार्गवकर्मशालां; पार्थौ पृथां प्राप्य महानुभावौ
.... 
[कुम्हार के लिये भार्गव शब्द का प्रयोग चिह्नित कर लें, आगे कभी काम आ सकता है।] 
___________________________
(क्रमश:) 

महाभारत : हिडिम्बा विवाह एवं लिव-इन पर कुछ स्फुट

(क) 
महाभारत आख्यान है। आख्यान उसे कहते हैं जो बीते घटित का वर्णन करता है। ऐतरेय ब्राह्मण में अश्वमेध एवं राजसूय यज्ञों के समय आख्यान सुनाने वाले अख्यानविदों का उल्लेख है। अश्व के भ्रमण करते समय यज्ञ स्थल पर जो आख्यानों की शृंखलायें यजमान को सुनाई जाती थीं, उन्हें परिप्लव कहते थे। यास्क ने ऐतिहासिकों के अर्थ में भी इस शब्द का प्रयोग किया है जो ऋग्वेद की 'व्याख्या', विवेचन आदि करते थे। बुद्ध ने अख्खानम नाम की कथाओं का उल्लेख किया है। 
महाभारत काव्य भी है। सूतों द्वारा सहस्राब्दियों में गाया जाने वाला, मञ्चित महाकाव्य जिसमें काव्य के विविध अङ्गों, नायक नायिका भेद, रसादि के निरूपण, विविध विद्याओं के सुग्राह्य उद्धरण एवं लोकरञ्जन हेतु भी अपनी कल्पनाशीलता का समावेश लोकगायकों ने किया। स्पष्ट है कि जनश्रुतियों एवं जनप्रचलित बातों के पीछे यही प्रवृत्ति रही। महाभारत को पढ़ते समय यह ध्यान रखना चाहिये कि यह प्रवृत्ति आज भी है तथा आख्यान एवं काव्य में भेद है। काव्य का अर्थ छंद बद्ध कृति मात्र नहीं, विविध उद्भावनाओं से परिपूर्ण रञ्जक कृति। शिवाजी सावंत का मृत्युञ्जय काव्य है, इतिहास नहीं। रश्मिरथी काव्य है, आख्यान नहीं। नरेंद्र कोहली का उपन्यास है, इतिहास नहीं। पुराण कथायें काव्य एवं इतिहास दोनों से पगी हैं। 
इतिहास महाभारत को जानने के लिये लोकोक्तियों, जनश्रुतियों, आप की अवधारणा को जो भाये उस काव्य, द्वितीयक सोतों आदि को तज मूल उद्गम को देखना होगा जोकि स्वयं जय, भारत, महाभारत, शतसहस्री संहिता इत्यादि नामों से प्रसिद्ध कृष्ण द्वैपायन व्यास की कृति है। वही प्रमाण है, कुछ बच जाये तो उन्हीं द्वारा रचित खिल भाग हरिवंश है। पुराण द्वितीयक कृतियाँ हैं, महाभारत से विरोध होने पर या उससे अतिरिक्त मिलने पर उन्हें संदिग्ध माना जाना चाहिये क्योंकि उनकी रचना बहुत आगे के काल तक ऊपर बतायी प्रवृत्तियों के अनुकरण में होती रही है।
(ख) 

वारणावत की आग से बच कर भटकते हुये पाण्डव एक वन में पहुँचे। प्यास से विकल माता कुंती हेतु भीम पानी के अनुसंधान में दो कोस की दूरी तक गये, स्वयं पानी पिये एवं अपने उत्तरीय में पानी ले कर शीघ्रता से पहुँचे तब तक थके हुये शेष पाण्डव एवं कुंती सो गये थे। भीम ने उन्हें जगाने के स्थान पर प्रतीक्षा करना उचित समझा। निकट ही एक नगरी दिखाई दे रही थी। 

भीम सावधान थे। वहीं, बहुत दूर नहीं, शाल वृक्ष का आश्रय ले मनुष्य मांस भोजी राक्षस हिडिम्ब रहता था। उसके कहने पर हिडिम्बा नाम की उसकी बहन सोते हुये पाण्डवों को मार कर उनका मांस लाने हेतु पहुँची। साँवले एवं सिंह समान बलिष्ठ कंधों वाले महाबाहू भीम को देख कर कामपीड़ित हो गयी - अयं श्यामो महाबाहुः सिंहस्कन्धो महाद्युतिः। मार कर खाने से तो मुहूर्त भर मात्र आनंद होगा, जीवित रख कर इसे भतार बना लूँ तो अनंत काल तक सुख भोगूँगी। भाई की बात क्रूरता भरी है, नहीं मानूँगी। भाई के सौहार्द्र से पतिका स्नेह बहुत बड़ा होता है। पतिस्नेहोऽतिबलवान्न तथा भ्रातृसौहृदम् ... हतैरेतैरहत्वा तु मोदिष्ये शाश्वतीः समाः। 

लम्बे समय के लिये शाश्वती समा शब्द युग्म का प्रयोग देखिये। यह रामायण में वाल्मीकि द्वारा उच्चरित प्रथम श्लोक में भी है।

उसने मानुषी सुंदर रूप धारण किया एवं भीम से कहा कि मेरा भाई तुम सबको मारना चाहता है किंतु मैं तुम पर अनुरक्त हूँ, मेरा चित्त एवं मेरे अङ्ग कामपीड़ित हो गये हैं, मुझे स्वीकार कर मेरे साथ भोग करें। मैं अपने राक्षस भाई से तुम सबकी रक्षा करूँगी। मैं अंतरिक्षचरी हूँ, मेरे साथ भ्रमण करते हुये अतुल्य प्रसन्नता प्राप्त करें। 
भीम ने उत्तर दिया कि ज्येष्ठ भ्राता एवं माता को सोता हुआ तज तुम्हारे साथ आनंद विहार को चल दूँ? मुझ जैसा पुरुष कामार्त हो भाइयों एवं माता को राक्षस का भोजन बना विहार को जायेगा? 
हिडिम्बा ने कहा कि आप इन सबको जगा दें, मैं उस राक्षस से सबको छुड़ा लूँगी। भीम को लग गई, बोले कि तुम्हारे भाई के भय से इन थके सोये बंधुओं को नहीं जगाऊँगा। मैं अपना बल जानता हूँ। तुम रहो या जाओ, जैसी इच्छा हो करो, चाहो तो अपने भाई को ही भेज दे (देख लेता हूँ) - गच्छ वा तिष्ठ वा भद्रे यद्वापीच्छसि तत्कुरु। तं वा प्रेषय तन्वङ्गि भ्रातरं पुरुषादकम्॥ 
... 
[यहाँ बड़े भाई के अविवाहित रहते हुये कनिष्ठ के विवाह की समस्या का सङ्केत दाक्षिणात्य पाठ में मिलता है जोकि न तो उत्तरी पाठ में है, न ही निम्नतर आलोचना पद्धति द्वारा शोधित भण्डारकर मानक पाठ में। वह श्लोक इस प्रकार है: 
एष ज्येष्ठो मम भ्राता मान्य: परमको गुरु:। 
अनिविष्टश्च तन्माहं परिविद्यां कथञ्चन॥ 
ये मेरे ज्येष्ठ भ्राता हैं जो परम सम्माननीय गुरु हैं। इनका अभी विवाह नहीं हुआ है, ऐसे में तुमसे विवाह कर मैं परिवेत्ता क्यों बनूँ? 
बड़े भाई में ऐसा कोई दोष नहीं हो जिसके कारण उसका विवाह करना अनुमन्य न हो तो उसके अविवाहित रहते हुये विवाह करने वाला कनिष्ठ भाई परिवेत्ता कहलाता है। शास्त्रों के अनुसार यह निंदनीय है।] 

(ग) 
हिडिम्ब पाण्डवों के साथ हिडिम्बा को भी मारने को झपटा। भीम ने रोका - मुझे मार! हिडिम्बा स्त्री है, अवध्य, विशेषत: तब जब कि उसने कोई अपराध नहीं किया है। तेरा अपराधी तो मैं हूँ। यह तो कामपीड़ित हो अपने वश में नहीं, मुझे पति बनाना चाहती है। मेरे रहते हुये तुम इस स्त्री को नहीं मार सकते। 
स्वर से सोते हुये बंधु जाग न जायें, यह सोच भीम उसे दूर खींच ले गये किंतु युद्ध के स्वर से पाण्डव एवं माता जाग ही गये। मानुषी वेश बनायी हिडिम्बा का अद्भुत रूप देख कर चकित हो गये प्रबुद्धास्ते हिडिम्बाया रूपं दृष्ट्वातिमानुषम्। 
कुंती ने हिडिम्बा से जो पूछा, उससे भी उसके रूप का पता चलता है: 
कस्य त्वं सुरगर्भाभे का चासि वरवर्णिनि
केन कार्येण सुश्रोणि कुतश्चागमनं तव 
यदि वास्य वनस्यासि देवता यदि वाप्सराः

सुर कन्याओं के समान आभा वाली, वरवर्णिनी, उत्तम जघनस्थल वाली, देवता हो या अप्सरा? यहाँ क्या कर रही हो? 
हिडिम्बा ने सब कुछ सुनाया तथा यह भी कहा कि आप के जो वे पुत्र दूर मेरे भाई से लड़ रहे हैं, काम के वश में हो मैंने उन महाबली का वरण कर लिया है - 
चोदिता तव पुत्रस्य मन्मथेन वशानुगा
ततो वृतो मया भर्ता तव पुत्रो महाबलः

सभी भाई वहाँ भाग कर पहुँचे। भीम ने उनसे उदासीन रहने को कहा। अर्जुन ने कहा कि शीघ्र इसका वध करो, पूरब दिशा में लाली का आभास हो रहा है, संध्याकाल का रौद्र मुहूर्त है जिसमें राक्षस बली हो जाते हैं। 
पुरा संरज्यते प्राची पुरा संध्या प्रवर्तते
रौद्रे मुहूर्ते रक्षांसि प्रबलानि भवन्ति च

अर्थात हिडिम्ब वध काण्ड रात्रि के अंतिम प्रहर में आरम्भ हो प्रात:काल के पूर्व सम्पन्न हुआ। 
भाई के मारे जाने पर हिडिम्बा ने भीम से अनुरोध किया, तुम्हारा पराक्रम भी देख लिया, मैं तुम्हारी हो तुम्हारे बली गात्र की शुश्रूषा करना चाहती हूँ। 
भीम ने कहा - राक्षस मोहिनी माया का आश्रय ले बहुत दिनों तक वैर भाव का स्मरण रखते हैं। तू भी अपने भाई की दशा को प्राप्त हो!
युधिष्ठिर ने हिडिम्बा के वध को तत्पर भाई को रोका - क्रोध में भर कर स्त्री का वध न करो - मा स्म स्त्रियं वधी:। शरीर की रक्षा की अपेक्षा अधिक तत्परता से धर्म की रक्षा करो - शरीरगुप्त्याभ्यधिकं धर्मं गोपय पाण्डव। 
रक्षा के लिये 'गोपय' शब्द का प्रयोग देखें। रक्षा गोपनीयता है। गुप्तांग शब्द में मात्र सभ्य व्यवहार की अपेक्षा नहीं, प्रजनन सम्बंधित कोमल अंगों की सुरक्षा का भी भाव है। 
हिडिम्बा ने कुंती के आगे हाथ जोड़ लिये - आर्ये! स्त्री होने के कारण एक स्त्री की कामजनित पीड़ा आप जानती ही हैं - आर्ये जानासि यद्दुःखमिह स्त्रीणामनङ्गजम्। मैंने आप के पुत्र का वरण अपने भाई का परित्याग करके किया है। मुझ पर कृपा करें। यदि आप या भीमसेन मेरी प्रार्थना ठुकरा देंगे तो मैं प्राण त्याग दूँगी। सत्य कहती हूँ। 
मैंने जिन्हें चुना है, आप के उन पुत्र के साथ मेरा संयोग हो, ऐसा अवसर प्रदान करें - भर्त्रानेन महाभागे संयोजय सुतेन ते। मैं इन्हें ले कर अभीष्ट स्थान पर जाऊँगी, उद्देश्य पूरा होने (गर्भ धारण कर लेने) पर पुन: आप के समीप ले आऊँगी। शुभे! मेरा विश्वास करें - पुनश्चैवागमिष्यामि विश्रम्भं कुरु मे शुभे। 
आप सब लोग मुझ पर कृपा करें ताकि भीमसेन मुझे स्वीकार कर लें - यूयं प्रसादं कुरुत भीमसेनो भजेत माम्। 
आपदस्तरणे प्राणान्धारयेद्येन येन हि
सर्वमादृत्य कर्तव्यं तद्धर्ममनुवर्तता
आपत्सु यो धारयति धर्मं धर्मविदुत्तमः
व्यसनं ह्येव धर्मस्य धर्मिणामापदुच्यते
पुण्यं प्राणान्धारयति पुण्यं प्राणदमुच्यते
येन येनाचरेद्धर्मं तस्मिन्गर्हा न विद्यते

जिस उपाय से भी आपदा से छुटकारा मिले, प्राणों की रक्षा हो सके, धर्मानुसरण करने वालों को वह सब स्वीकार कर वैसा करना चाहिये। जो आपदाकाल में धर्म को धारण करता है वही धर्मात्माओं में श्रेष्ठ है। धर्मपालन में सङ्कट उपस्थित होना ही धर्मात्माओं के लिये आपदा कही जाती है। पुण्य ही प्राणों को धारण करता है, इस कारण पुण्य प्राणदाता कहलाता है, अत: जिस उपाय से धर्म का आचरण हो सके, उसे करने में कोई निंदा की बात नहीं है। 
... 
बड़े भाई के अविवाहित रहते हुये छोटे के विवाह से होने वाले लोकापवाद का यह समाधान हिडिम्बा ने दिया। 
दाक्षिणात्य पाठ में उसने अपना नाम सालकटङ्कटी बताया है, साथ ही यह भी कि मैं राक्षस जाति की सुशीला कन्या हूँ, न तो यातुधानी हूँ, न ही निशाचरी। मेरी देह देवोपम है। 
दाक्षिणात्य पाठ में ही कुंती युधिष्ठिर से अनुमति लेती हैं कि यह अपनी वाणी से उत्तम धर्म का प्रतिपादन करती है। यदि दूषित भाव भी रखती हो तो भीम का क्या बिगाड़ सकती है? यदि तुम्हारी इच्छा हो तो यह वीर पाण्डव भीम के साथ सन्तान प्राप्ति हेतु भोग करे - भजतां पाण्डवं वीरमपत्यार्थे यदीच्छसि
... 
युधिष्ठिर ने अनुमति दी कि प्रतिदिन भीम जब नित्यकर्म, संध्यादि से निवृत्त हो माङ्गलिक वेश धारण कर लें तब से दिन डूबने तक उनके साथ भोग करो किंतु रात को सदा ही भीमसेन को हमारे पास पहुँचा देना - अयं त्वानयितव्यस्ते भीमसेन: सदा निशि।
हिडिम्बा ने कहा कि ऐसा ही हो एवं भीमसेन को साथ ले कर उड़ चली! 
तथेति तत्प्रतिज्ञाय हिडिम्बा राक्षसी तदा
भीमसेनमुपादाय ऊर्ध्वमाचक्रमे ततः

कुछ दिनों तक रमण के पश्चात वह गर्भवती हुई, भीम को हिडिम्बा से विकट महाबली महाकाय पुत्र की प्राप्ति हुई। माता ने कहा कि इसका घट (सिर) उत्कच अर्थात केश रहित है अत: यह घटोत्कच कहलायेगा। 
रमयन्ती तथा भीमं तत्र तत्र मनोजवा
प्रजज्ञे राक्षसी पुत्रं भीमसेनान्महाबलम्
विरूपाक्षं महावक्त्रं शङ्कुकर्णं विभीषणम्
भीमरूपं सुताम्रोष्ठं तीक्ष्णदंष्ट्रं महाबलम्
महेष्वासं महावीर्यं महासत्त्वं महाभुजम्
महाजवं महाकायं महामायमरिंदमम्
अमानुषं मानुषजं भीमवेगं महाबलम्
यः पिशाचानतीवान्यान्बभूवाति स मानुषान्
बालोऽपि यौवनं प्राप्तो मानुषेषु विशां पते
सर्वास्त्रेषु परं वीरः प्रकर्षमगमद्बली
सद्यो हि गर्भं राक्षस्यो लभन्ते प्रसवन्ति च
कामरूपधराश्चैव भवन्ति बहुरूपिणः
प्रणम्य विकचः पादावगृह्णात्स पितुस्तदा
मातुश्च परमेष्वासस्तौ च नामास्य चक्रतुः
घटभासोत्कच इति मातरं सोऽभ्यभाषत
अभवत्तेन नामास्य घटोत्कच इति स्म ह
अनुरक्तश्च तानासीत्पाण्डवान्स घटोत्कचः
तेषां च दयितो नित्यमात्मभूतो बभूव सः

.... 
हिडिम्बा एवं भीम के विधिवत विवाह का उल्लेख नहीं है।
उस संक्रमणशील समय में विवाह संस्कार के साथ साथ प्राचीन रीतियाँ भी प्रचलन में थीं। महाभारत में ही विवाह संस्था के स्थापित होने की कथा भी है। 
एक दिन श्वेतकेतु ऋषि अपने आश्रम में थे। उसी समय एक अन्य वहाँ पहुँचे एवं श्वेतकेतु की माता को रमण हेतु ले कर चले गये। श्वेतकेतु ने इसका विरोध किया। तब उद्दालक ऋषि ने अपने पुत्र को समझाते हुए कहा कि अत्यंत प्राचीन काल से यही होता चला आ रहा है। संसार में सभी स्त्रियाँ इस विषय में स्वाधीन हैं। किंतु श्वेतकेतु ने इसे स्वीकार नहीं किया। उन्होंने कहा कि यह पाशव प्रवृत्ति है। उन्होंने विवाह सम्बन्‍धी नियम बनाये। उन्होंने कहा कि जो स्त्री अपने पति को छोड़ कर अन्य पुरुष के साथ संसर्ग करेगी उसे घोर पाप लगेगा। जो पुरुष पतिव्रता स्त्री को छोड़ कर अन्य स्त्रियों के साथ रमण करेगा उसे घोर पाप लगेगा।
यहाँ कालखण्ड महत्वपूर्ण नहीं, यह महत्वपूर्ण है कि किसी सभ्यता ने इस तथ्य को सँजो कर रखा है। आदरणीय ऋषियों के नाम के साथ सँजो कर रखा है, वहाँ रखा है जिसे पञ्चम वेद तक की मान्यता है। यह भी महत्वपूर्ण है कि श्वेतकेतु के विधान को सबने स्वीकार कर लिया। क्यों कर लिया? क्योंकि समय की माँग थी, जीवन जटिल होता जा रहा था। आज भी वनवासी समाज में यौन सम्‍बन्‍धों के विधान उतने जटिल नहीं जितने नागर या ग्राम समाज के हैं किन्‍तु नागर या ग्राम समाज पश्चाभिगमन नहीं कर सकता। बहुत कुछ टूट जायेगा। 
हिडिम्बा प्रकरण को ले कर लिव-इन पर प्रश्न आया, एक मैंने भी किया था कि हिडिम्बा को अनुमति क्यों दी गई? अनुमति के साथ भीम को आदेश भी कि उसे तृप्त करो! 
आप सबने सुना होगा - when in Rome, do what Romans do! वन वन भटकते पाण्डव परिवार के पास विकल्प नहीं था, अपना धर्म भी देखना था जिसमें स्त्री की कामेच्छा पूर्ति निषेधों के साथ धर्म का अङ्ग बतायी गयी थी। राक्षस समाज में जो प्रिय लगे उसके साथ शयन कर संतान प्राप्त करना प्रचलित रीति थी। दो अपरिचित समाज टकराहटों में कैसे समाधान निकाल बन्धु हो सकते हैं, यह उदाहरण है। हिडिम्बा एवं भीम ने अग्नि प्रदक्षिणा कर विवाह नहीं किया, कुरुवंश को अंतर नहीं पड़ना था। हिडिम्बा किसी की व्याहता भी नहीं थी जो व्यभिचार का दोष लगता। हिडिम्बा की प्रार्थना उसके समाज के अनुकूल थी कि एक बली संतान हो सके जिसके लिये बली पुरुष से संसर्ग आवश्यक था। काम आकर्षण तो अपने स्थान पर था ही। जाने कितनों के प्रति हम आकर्षण का अनुभव करते हैं किंतु सबसे यौन सम्बंध ही तो नहीं बनाने लगते! विवाह कर्मकाण्ड यदि कुरुवंशी चाहते तो वह पूरी कर भी देती किन्‍तु उसका उसके लिये क्या महत्व होता? अर्जुन का उलूपी एवं चित्रांगदा से विवाह/सम्‍बंध भी ऐसे ही देखना होगा। 
आज के लिव-इन के समांतर देखें तो यह ध्यान में रखना होगा कि हिडिम्बा संतान प्राप्ति तक ही भीम को माँगती है। राक्षसी है किन्‍तु अपनी मर्यादाओं से बँधी भी है - ज्येष्ठ जन से भीम को माँगती है, अनुनय करती है। यौन सुख के साथ साथ सन्‍तान की प्राप्ति उसका उद्देश्य है। लिव-इन में ऐसा है क्या? लिव-इन किसी जोड़े का एक प्रकार से संतति के दायित्वों से स्वार्थी पलायन है जिसकी जड़ जटिल होती नागर व्यवस्था में है। ऐसे प्रकरण वृत्त की परिधि पर स्पर्शी रेखा की भाँति होते हैं, परिधि में घिरे क्षेत्र में नहीं आते। उनका उतना ही महत्व है, उतनी ही प्रासंगिकता है। यौन व्यवहार का नियमन सभ्यता की आवश्यकता है। उससे सम्‍बंधित व्यवस्थायें दोषपूर्ण हो सकती हैं किन्‍तु उनका विधायी प्रभाव, समाज को स्थिर उपद्रवहीन कर विकास की दिशा में बढ़ने हेतु समय, संसाधन इत्यादि की उपलब्धता सुनिश्चित कराना, स्थायित्त्व इत्यादि को मिला कर समग्रता में देखना होगा। विवाह संस्था का कोई उपयुक्त विकल्प इस जटिल समाज के पास सहस्राब्दियों पहले से ही नहीं रहा, आगे भी नहीं होना। अपवाद तो हर समय में रहे, परिपक्व समाज उनको सुन्‍दर ग्राह्य विधियों से स्थान भी देता रहा। यदि कोई पुरातन घटना का उदाहरण आधुनिक समय पर लगा कर माँग करे तो विकृतियाँ होनी ही हैं। बहुत पहले भाई बहन, माता पुत्र, पिता पुत्री के यौन सम्‍बन्‍ध होते रहे होंगे, पशुओं में अंत:प्रजनन अब भी होता है। उनका उदाहरण दे हम इस काल में तो वैसे नहीं चल सकते न! 
युधिष्ठिर द्वारा हिडिम्बा-भीम संसर्ग का केवल दिन में अनुमति देना तथा प्रत्येक रात भीम पर बंधुओं के पास आ जाने का अनुशासन उनकी सावधानी को दर्शाता है। राक्षसी है, रात में भीम के सोते हुये घात लगा जाने क्या कर बैठे? उसका क्या, कभी भी मानव मांस की लिप्सा सिर उठा सकती है, भीम तो उसकी दृष्टि स्वादिष्ट होंगे ही। रात में राक्षसों का बल बढ़ भी जाता है। दिन में भीम से पार पाना असम्भव है! अस्तु।

शनिवार, 21 अप्रैल 2018

अरण्यकाण्ड का एक श्लोक : कोयष्टि टिट्टिभ, टिटहरी, कठफोड़वा, कीचक, कीरक

अरण्यकाण्ड का एक श्लोक है:  
कोयष्टिभिश्चार्जुनकैः शतपत्रैश्च कीच(र)कैः। 
एतैश्चान्यैश्च विविधैर्नादितं तद्वनं महत् ॥ 

यह महत्वपूर्ण श्लोक है। पहला अर्द्धांश तोड़ते हैं: 
कोयष्टि+भि / कोयष्टिभि: 
च 
अर्जुनक+ ऐ (मात्रा बहुवचन हेतु) 
शतपत्र + ऐ (मात्रा बहुवचन हेतु) 
कीचक + ऐ (मात्रा बहुवचन हेतु)/ पाठभेद कीरक+ऐ 
... 
संदर्भ है जब पम्पा सरोवर तक पहुँचने से पूर्व राम लक्ष्मण गहन वन प्रांतर में होते हैं जोकि भाँति भाँति के वृक्षों से भरा हुआ है, विविध प्रकार के पक्षियों का कोलाहल है। 
... 
कोयष्टि का अर्थ होता है तन्वी लकड़ी की भाँति शाखा / पाँव वाला। भि: बहुवचन के लिये भी प्रयुक्त हो सकता है एवं संज्ञा का अंग भी हो सकता है। विद्वानों ने दो अर्थ किये - ऐसा वृक्ष जिसकी टहनियाँ बहुत पतली होती हैं, भोजपुरी में कहें तो छरका। 
दूसरा अर्थ टिभि से आया - टिट्टिभि - टिटहरी। इसके स्वर से तो आप परिचित ही होंगे। आजकल सुनाई दे तो कहते हैं सूखा पड़ेगा। गँवई घर की महिलायें सुनते ही आँगन में दो तीन बाल्टी पानी उड़ेल देती हैं - टोटका। 
विविधै: नादितं - विविध प्रकार के खग रव से जोड़ कर देखें तो यह अर्थ उचित लगता है किंतु प्रसंग में वानस्पतिक विविधता का ऐसा वर्णन मिलता है कि पहला अर्थ भी ठीक प्रतीत होता है। 
आगे बढ़ें अर्जुनक - पुन: समस्या, अर्जुन(क) वृक्ष भी होता है तथा अर्जुनक कठफोड़वे को भी कहते हैं, अर्जुन के वृक्ष सम्भवत: उसे अधिक प्रिय होते हों। खट खट की ध्वनि होती है जब चोंच मारता है - विविधैर्नादितं तद्वनं महत्! 
अगला शब्द - शतपत्र, पुन: समस्या। शतपर्णी वृक्ष होता है तथा मोर को भी शतपत्र कहते हैं। नाचते नर मोर के पंख ऐसे लगते हैं कि नहीं कि सैकड़ो पत्तों का घाघरा पहन नाच रहा हो! 
कीचक - एक प्रकार का पोला लम्बा छरहरा बाँस। इसके वन की विशेषता होती है कि जब इससे होकर वायु प्रवाह होता है तो कई प्रकार से सीटियों के बजने सी ध्वनियाँ उत्पन्न होती हैं। प्रसंग से तथा विविध नाद से यह शब्द उपयुक्त है - विविधैर्नादितं तद्वनं महत्। 
ठहरिये! एक पाठ कीरक भी तो है! 
कीरक कहते हैं तोते को। बहुत से तोते एक साथ हों तो जो कोलाहल करते हैं, उसे तो आप जानते ही हैं - विविधैर्नादितं तद्वनं महत्। 
... 
काव्यकर्म इसे कहते हैं जो आप को चेतना के अनेक आयामों का स्पर्श करा दे। इसे वही लिख सकता है जो वन वन का साथी रहा हो, यायावर हो, प्रेक्षक हो। 
... 
रामायण एवं महाभारत आख्यान कहे गये हैं। आख्यान अर्थात जो घटित हुआ उसका गान। सहस्राब्दियों तक कुशीलव एवं सूत गायकों ने इन्हें लोक में जीवित रखा। दिक्काल भेद से इनमें परिवर्तन भी हुये, परिवर्द्धन भी किंतु सतर्क सावधान पाठ से मूल तक अधिकांशत: पहुँचा जा सकता है जिसके लिये दो विधियाँ अपनायी जाती हैं - निम्न समीक्षा, उच्च समीक्षा - Lower Criticism, Higher Criticism. 
विशेषज्ञों का काम है। आप को मात्र यह ध्यान रखना है कि इन महाकाव्यों में प्राचीन भारत की समृद्धि को लिख कर संरक्षित कर दिया गया है, यह काम सहस्राब्दियों तक होता रहा।
रामायण काव्य एवं रामायण घटना - इन दो में अन्तर सम्भव हैं जिनके लिये लज्जित होने की आवश्यकता नहीं है अपितु गर्वित होने की आवश्यकता है कि हमारे पास ऐसा तंत्र था जिसने जाने कितनी आपदाओं के होते हुये भी समृद्धि को आगे की पीढ़ियों तक पहुँचाना सुनिश्चित किया। आप को पढ़ना है, मनन करना है, समझना है एवं आगे बढ़ना है। पुन: कह दूँ, आगे बढ़ना है। 
वैष्णवों! रामायण में मदिरा या मांस के प्रकरणों से मुँह चुराने की आवश्यकता नहीं है। उसे इतिहास कहा गया है, संदर्भ एवं प्रसंग के अनुसार पढ़ें। सातत्य का ध्यान रखें, क्षेपक होगा तो पता चल ही जायेगा। विविध प्रकार की मदिरा वही सभ्यता बना एवं उनका सभ्य अनुप्रयोग कर सकती है जो अति उन्नत हो। आसव, अरिष्ट, रस, रसायन तो आयुर्वेद के अंग हैं। यही बात विविध प्रकार के खाद्य के लिये भी सच है। 
दृष्टि ठीक रखिये, हीनता से मुक्ति मिलेगी। 
... पवित्रात्माओं! इसका अर्थ यह नहीं कि मैं दारूबाजी एवं मांस भक्षण का प्रचार कर रहा हूँ। यदि आप को ऐसा प्रतीयमान है तो मेरी असफलता। 
... 
शुभमस्तु।

रविवार, 15 अप्रैल 2018

वर्षा+शरद, हेमन्‍त+शिशिर

By Meinolf Wewel [CC BY 3.0 (https://creativecommons.org/licenses/by/3.0)], from Wikimedia Commons
जमदग्नि एवं ऋग्वैदिक ऋचा 'य॒ज्ञाय॑ज्ञा वो अ॒ग्नये॑ गि॒रागि॑रा च॒ दक्ष॑से । प्रप्र॑ व॒यम॒मृतं॑ जा॒तवे॑दसं प्रि॒यं मि॒त्रं न शं॑सिषम् ॥' पर विचरते आगे बढ़ा तो उसी सूक्त में मुझसे एक खोई हुई कड़ी मिल गयी। शिशिर के पश्चात बसंत ऋतु आती है। शिशिर में पत्ते झड़ने आरम्भ होते हैं तो बसंत तक वृक्ष वसन वस्त्र हीन हो पुन: नये धारण करने लगते हैं, संक्रमण काल होता है नवरसा का। उस सूक्त की आठवीं ऋचा रोचक है: विश्वा॑सां गृ॒हप॑तिर्वि॒शाम॑सि॒ त्वम॑ग्ने॒ मानु॑षीणाम् । श॒तं पू॒र्भिर्य॑विष्ठ पा॒ह्यंह॑सः समे॒द्धारं॑ श॒तं हिमा॑: स्तो॒तृभ्यो॒ ये च॒ दद॑ति ॥ शत शरद जीने के आशीर्वाद तो आप ने बहुत देखे होंगे। वर्षा के पश्चात शरद ऋतु आती है। वर्षा नवजीवन हेतु सृष्टि को समर्थ बनाती है किंतु उसके साथ बहुत कुछ अवांछित भी रहता है। उसका अंत देख एक और सुखदायी शरद देखने की कामना में उस आशीर्वाद का मूल है। किंतु इस ऋचा में शतं हिमा की बात की गयी है। विद्वानों ने इसे शत हेमंत बताया है। हेमंत, हिम का अंत जिसके आगे कड़ाके की ठण्ड वाला शिशिर होता है। हेमंत ऋतु वर्ष की सबसे 'स्वास्थ्यकर' ऋतु है। स्वभाव से ही क्षयी शरीर इस ऋतु में पुष्ट हो विस्तारी देह बनती है। जठराग्नि प्रदीप्त होती है त्वमग्ने मानुषीणां को शतं हिमा से मिला कर देखें तो इस आशीर्वाद में स्वस्थ जीवन बिताते हुये एक और पुष्टिकारक ऋतु तक जी लेने की कामना छिपी हुई है। नवप्रवालोद्रमसस्यरम्यः प्रफुल्लोध्रः परिपक्वशालिः। विलीनपद्म प्रपतत्तुषारोः हेमंतकालः समुपागता-यम्‌॥ (कालिदास, ऋतुसंहार) ब्राह्मण ग्रंथों को देखें तो रोचक तथ्य दिखते हैं। शतपथ में वर्षा एवं शरद को मिला कर पाँच ऋतुओं की बात की गयी है:
लोको॑वसन्त॑ऋतुर्य॑दूर्ध्व॑मस्मा॑ल्लोका॑दर्वाची॑नमन्त॑रिक्षात्त॑द्द्विती॑यम॑हस्त॑द्वस्याग्रीष्म॑ऋतु॑रन्त॑रिक्षमेवा॒स्य मध्यमम॑हरन्त॑रिक्षमस्य वर्षाशर॑दावृतू य॑दूर्ध्व॑म्न्त॑रिक्षादर्वाची॑नं दिवस्त॑च्चतुर्थम॑हस्त॑द्वस्य हेमन्त॑ऋतुर्द्यउ॑रेवा॒स्य पञ्चमम॑हर्द्यउ॑रस्य शि॑शिर ऋतुरि॑त्यधिदेवतम्।
शतपथ के पुरुषमेध का प्रारम्भ पाँव से होता है और पाँव है ऋतुओं में सर्वश्रेष्ठ बसंत! शतपथ का वर्षा और शरद को मिलाना उस ऋग्वैदिक कूट कथ्य से भी जुड़ता है जिसमें इन्द्र वृत्र को मार कर सूर्य और वर्षा दोनों को नया जीवन देते हैं। पुरुषमेध में यह देह का केन्द्रीय भाग अर्थात कटि है। ऐसा क्यों? इसमें उस समय की स्मृति है जब वर्ष का आरम्भ वर्षा से था। शरद मिला देने पर शरद विषुव जोकि वसंत विषुव से छ: महीने के अंतर पर पड़ता है, वर्षा के साथ आ जाता है, नाक्षत्रिक एवं ऋत्विक प्रेक्षणों के सम्मिलन से सुविधा हो जाती है।
ऐतरेय ब्राह्मण में हेमंत एवं शिशिर को मिला दिया गया है: हेमन्‍तशिशिरयो: समासेन तावान्‍संवत्सर: संवत्सर: प्रजापति: प्रजापत्यायतनाभिरेवाभी राध्नोति य एवं वेद। आजकल के आधे कार्त्तिक से आधे फाल्गुन तक के इस कालखण्‍ड में माघ महीना पड़ता है जो कभी संवत्सर का आरम्भ मास था, वही शीत अयनांत वाली उत्तरायण अवधि जिसे अब लोग संक्रांति के रूप में मनाते हैं। पुन: ऐतरेय ब्राह्मण वाला अंश पढ़ें तो! ... शेष पुन: कभी। कहने का तात्पर्य यह है कि हमारी मान्यताओं में जाने कितनी सहस्राब्दियों के अवशेष छिपे हुये हैं। डूबने की आवश्यकता है।

शुक्रवार, 13 अप्रैल 2018

~ बिहने सतुवानि ह ‍~ बैसाखी, सौर नववर्ष

भारत में पञ्चाङ्गों की बड़ी समृद्ध परम्परा रही। एक साथ सौर एवं सौर-चंद्र तथा शीत अयनान्त एवं बसन्‍त विषुव के साथ आरम्भ होने वाले पञ्चाङ्ग प्रचलित रहे। जन सामान्य में चंद्र आधारित महीने यथा चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ इत्यादि ही प्रचलित रहे जोकि पूर्णिमा के दिन चंद्रमा की नक्षत्र विशेष के साथ संगति पर आधारित थे, यथा चैत्र में चित्रा पर, वैशाख में विशाखा पर। चंद्र की घटती बढ़ती कलाओं से बीतते दिनों की गिनती में सुविधा रहती थी। सौर आधारित महीने मधु, माधव इत्यादि मुख्यत: श्रौत सत्र आधारित गतिविधियों में प्रचलित रहे जिनकी चंद्र आधारित महीनों से संगति जन सामान्य में भी प्रचलित थी यथा चैत्र का महीना मधु है। तुलसीदास ने लिखा - नवमी तिथि मधुमास। ग्रेगरी का प्रचलित कैलेण्डर सौर गति आधारित है जिसका चंद्र कलाओं से कोई सम्बंध नहीं। आप के यहाँ जो अब संक्रांतियाँ मनाई जाती हैं, वे भी सूर्य गति से सम्बंधित हैं जिनका चंद्र कलाओं से कोई सम्बंध नहीं। इस कारण ही मकर संक्रांति प्रति वर्ष 14/15 जनवरी को ही पड़ती है तथा मेष संक्रांति 13/14 अप्रैल को। मेषादि राशिमाला का प्रथम बिंदु होने से यह सौर नव वर्ष होता है जिसे सतुवानि के रूप में भोजपुरी क्षेत्र में मनाया जाता है तो तमिलनाडु में नववर्ष के रूप में। पञ्जाब में बैसाखी के रूप में मनाया जाता है। रबी की सस्य के अन्न से जुड़े इस पर्व में जौ, चना इत्यादि का सत्तू ग्रहण करने का पूरब में प्रचलन है। अब आप पूछेंगे कि तब युगादि वर्ष प्रतिपदा क्या थी? नाम से ही स्पष्ट है - चंद्र मास का पहला दिन अर्थात वह नववर्ष चंद्र-सौर पञ्चांग से है। दोनों में क्या समानता है या दोनों कैसे सम्बंधित हैं? उत्तर है कि दोनों वसंत विषुव के दिन के निकट हैं जब कि सूर्य ठीक पूरब में उग कर ठीक पश्चिम में अस्त होते हैं। यह 20 मार्च को पड़ता है, उसके निकट की पूर्णिमा को चंद्र चित्रा पर होते हैं तो चैत्र शुक्ल प्रतिपदा चंद्र-पञ्जाङ्ग से नववर्ष होती है। 20/21 मार्च से 13/14 अप्रैल के बीच ~ 24 दिनों का अंतर है तो शीत अयनांत 21/22 दिसम्बर से 14/15 जनवरी के बीच भी इतने ही दिनों का। ऐसा क्यों है? वास्तव में हमलोग उत्तरायण मनाते थे, उसे सूर्य के अधिकतम दक्षिणी झुकाव से उत्तर के दिन से मानने का प्रचलन था तो वासंती विषुव के सम दिन से उत्तर की ओर बढ़ने का दिनांक भी महत्त्वपूर्ण था। जब 27 नक्षत्र आधारित गणना पद्धति में 12 राशि आधारित गणना पद्धति का प्रवेश हुआ तो उस समय मकर संक्रांति एवं मेष संक्रांतियाँ क्रमश: शीत अयनांत 21/22 दिसम्बर एवं वसंत विषुव 20/21 मार्च की सम्पाती थीं अर्थात सम्बंधित संक्रांति, अयन, विषुव एक ही दिन पड़ते थे। 12 राशियों में सूर्य की आभासी गति का प्रेक्षण 27 की अपेक्षा सरल था जिसे तत्कालीन ज्योतिषियों ने बढ़ावा भी दिया। सदियों में लोकस्मृति में संक्रांतियाँ ही रह गयीं, उत्तरायण को लोग उनसे ही जानते लगे किंतु धरती की धुरी की एक विशिष्ट गति के कारण सम्पात क्रमश: हटता जा रहा है। अब अंतर ~24 दिनों का हो गया है जो आगे बढ़ता ही जायेगा। ... गणित हो गया, अब प्रेक्षण।
कल सतुवान के दिन प्रात: साढ़े चार बजे उठ कर पूर्व उत्तर दिशा में देखें। तीन चमकते तारे दिखेंगे - सबसे ऊपर अभिजित, नीचे हंस एवं गरुड़ नक्षत्र मण्डल के सबसे चमकीले तारे। इन तीनों को मिला कर जो त्रिभुज बनता है उसे 'ग्रीष्म त्रिभुज' कहते हैं। अप्रैल आधा बीत गया। मई जून की झुलसाती धूप तो आने वाली है न, बैसाख जेठ की तपन के पश्चात आषाढ़ सावन भादो की झड़ी भी आयेगी।
वर्ष को वर्षा से ही नाम मिला। किसी विश्वामित्र के पत्रे में 21 जून से नववर्ष मिल जाय तो आश्चर्य चकित न हों, उस दिन ग्रीष्म अयनांत होता है, सूर्य देव अधिकतम उत्तरी झुकाव से दक्षिण की यात्रा आरम्भ करते हैं अर्थात घनघोर बरसते पर्जन्य की भूमिका। मानसून कब प्रबल होता है? वर्षा न हो तो धरा कैसे तृप्त हो? स्थावर जङ्गम को जीवन कैसे मिले? हरियाली कैसे हो? 21 जून से नववर्ष मनाने की तुक तो है ही, देखें तो उसके निकट कौन सी संक्रांति है? कहीं मनायी जाती है क्या?

रविवार, 25 मार्च 2018

भोजपुरी -12: रामनवमी : राम जी लिहलें अवतार रे चइतवा

फागुन रेचक है। वास्तविक मधुउत्सव तो चैत्र में होता है। नौ दिन नवदुर्गा अनुष्ठान, जन जन में रमते राम का नवजन्म नये संवत्सर में।
नवान्न दे पुनः प्रवृत्त होती धरा का स्वेद सिंचन, धूप में सँवरायी गोरी का पिया को आह्वान - गहना गढ़ा दो न, बखार तो सोने से भर ही गयी है!

चैत में शृंगार का परिपाक होता है। गेहूँ कटता है, रोटी की आस बँधती है, मधुमास भिन्न भिन्न अनुभूतियाँ ला रहा होता है एवं ऐसे में उस राम का जन्म होता है जो आगे चल कर मर्यादा पुरुषोत्तम कहलाये किंतु उनके जन्मोत्सव में जो भिन्न भिन्न पृष्ठभूमियों के लोकगायकों एवं नर्तकों की हर्षाभिव्यक्ति होती है, उसमें उल्लास स्वर नागर शास्त्रीयता तथा अभिरुचि की मर्यादाओं को तोड़ता दिखता है। इसमें गाये जाने वाले चइता चइती की टेर अरे रामा, हो रामा होती है। 
चइता पुरुष गान है। सुनिये चइता विशाल गगन के स्वर में। 
(अंत तक सुनने पर ही समझ में आयेगा कि चैत क्यों फागुन से श्रेष्ठ!)  

पूरी प्रस्तावना के साथ गान होता है। प्रकृति भी आने वाले के स्वागत में है, रसाल फल गए हैं, महुवा मधुवा गए हैं, पवन कभी लहराता है तो कभी सिहराता है। 
घर में नया अन्न आ गया है, पूजन हो रहा है, मंगल गान है, क्रीड़ा है। मस्ती भरे वातावरण में राम जी जन्म लेते हैं! ढोल की ढमढम के साथ बधाई गीतों की धूम है।

सावन से न भादो दूबर, 
फागुन से ह चइत ऊपर 
गजबे महीना रंगदार रे चइतवा।

आम टिकोराइ जाला
महुवा कोचाइ जाला
रस से रसाइल रसदार रे चइतवा।

कबहू लहर लागे 
कबहू सिहर लागे 
किसिम किसिम बहेला बयार रे चइतवा।

गेंहू के कटाई होला
नवमी के पुजाई होला 
लेके आवे अजबे बहार रे चइतवा।

घरे घरे मंगल होला 
कुस्ती आ दंगल होला 
मस्ती से भरल मजदार रे चइतवा।

ढोल ढमढमाय लागे 
चइता गवाय लागे 
राम जी लिहलें अवतार रे चइतवा।

बाजे अजोधा में अनघ बधइया 
ए राम रामजी जनमलें 
दसरथ जी के अंगनइया।

बाजे चइत मास गावेला बधइया
ए राम रामजी जनमलें 
दसरथ जी के अंगनइया।


~~~~~~~~~~~~~
शृंखला के अन्य गीत 

लोक : भोजपुरी - 10: चइता के तीन रंग
लोक: भोजपुरी- 9: पराती, घरनियों का सामगायन
लोक: भोजपुरी- 8: कस कसक मसक गई चोली(निराला) और सुतलऽ न सुत्ते दिहलऽ(लोक)
लोक : भोजपुरी - 7: बोले पिजड़ा में सुगनवा बड़ऽ लहरी (अंतिम भाग)
लोक : भोजपुरी - 6: रोइहें भरि भरि ऊ... बाबा हमरो...भाग-1
लोक : भोजपुरी - 5 : घुमंतू जोगी - जइसे धधकेले हो गोपीचन्द, लोहरा घरे लोहसाई
लोक : भोजपुरी - 4 : गउरा सिव बियाह
लोक : भोजपुरी -3: लोकसुर में सूर - सिव भोला हउवें दानीऽ, बड़ऽ लहरीऽ।
लोक : भोजपुरी - 2 : कवने ठगवा - वसुन्धरा और कुमार गन्धर्व : एक गली स्मृति की
लोक:भोजपुरी-1: साहेब राउर भेदवा