मंगलवार, 16 मार्च 2010

नवसंवत्सर पर प्रार्थना

आ नो भद्रा: क्रतवो यंतु विश्वत:।

संगच्छध्वं संवदध्वं संवो मनांसि जानताम

देवा भागं यथा पूर्वे संजानाना उपासते

समानीव आकू पि: समाना हृदयानि व:

समानमस्तु व मनो यथा व: सुसहासति।

धूप!
आओ,अंधकार मन गहन कूप
फैला शीतल तम ।मृत्यु प्रहर
भेद आओ। किरणों के पाखी प्रखर
कलरव प्रकाश गह्वर गह्वर
भर दो विश्वास सबल ।
तिमिर प्रबल माया कुहर
हो छिन्न भिन्न। सत्त्वर सुरूप
आओ। अंधकार मन गहन कूप
भेद कर आओ धूप।

12 टिप्‍पणियां:

  1. नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें ....
    शुभ हो ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. परम परमेश्वर को स्वीकार हो यह सत चित प्रार्थना
    कविता मौलिक है भाव और भावार्थ दोनों में !

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस प्रार्थना के लिए धन्यवाद. आपको और आपके परिवार को नव संवत्सर व नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें ....
    शुभ हो ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. धन्यवाद और नव संवत्सर की व नवरात्र पर्व की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपको भी नव संवत्सर की मांगलिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  7. शुभकामनायें और विश्वशांति के लिये प्रार्थना ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. शुभकामनायें !
    वैसे ये ऋचाएं बाऊ के किस्से में भी आई थी न?

    उत्तर देंहटाएं
  9. हमारी भी शुभकामनायें ! भर लेना चाहता हूँ यही स्वर ’आ नो भद्रा क्रतवो यन्तु विश्वतः’ ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुकर्मों से ठसाठस भरी हुयी कविता

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।