शुक्रवार, 9 अगस्त 2013

पाँच उदासियाँ

(1)

हाथों में झुर्री भरे हाथ लेते
झुरझुरी होती है
और माँ कहती है –
छोड़ो, जाने दो
कितनी देर से रखी है आँच पर तरकारी
जल जायेगी।
मेरी आँखों में भरता है
मणिकर्णिका का धुँआ -
एक दिन
जल जायेगी।

 

(2)

बहुत शांति रहती है घर में
बेटे के वितान तले
पिता घुटता है
माँ सहमती है
बच्चे बढ़ कर ऊँचे तो होते हैं,
पसरते नहीं!

 

(3)
बच्चे की ज़िद पर
मोल ले आई है गृहिणी
पिजरे में चिड़ियों का जोड़ा।
गृही उन्हें उड़ा नहीं पाता
उसे रह रह कोंचता है
पिता का उसके घर को
‘गोल्डेन केज’ कहना।  
छाँव की चाह स्वार्थी
समय का क्या
रीत जायेगा
पिजरा रह जायेगा
सुगना उड़ जायेगा।

 
(4)
नहीं जाना चाहते वे
घूमने पोते के साथ,
बूढ़े पाँव
छोटे पाँवों के साथ चल नहीं पाते।
 जो साथ दे सकता है
वह तो कुर्सी तोड़ता है।

(5)
कमरे के तेज प्रकाश से अलग
बिरवे का संझा दिया
टिमटिमाता है।
गमले की तुलसी तले
माँ सावन सजायी है
मन्नतें गायी है।
हाड़ हाड़ समाये हैं
गठिया के कजरी बोल
जब चलती है
चटकते हैं।

12 टिप्‍पणियां:

  1. जिनसे खुशियाँ हैं घर की वहीं छुपी हैं उदासियाँ भी। खूब अभिव्यक्त हुई हैं। अभिव्यक्ति की प्रशंसा करूँ या इन उदासियों में डूब जाऊँ!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बार बार पढ़कर भी टिप्पणी लिखी नहीं जाती। शाश्वत भावनाएं, सनातन भय, नश्वर सत्य, पैराडॉक्स - न तद्भासयाते सूर्यो न शशांको ... पावक तो है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. लगता है बनारस में माँ की ममता की छाँव और पिता का स्नेह-अमृत मिल रहा है।
    इस हाल में उदासी की कविता के नहीं हर्ष के गीत लिखिए।
    दोनो लोग काशी देखने आये हैं बेटे के पास।
    सूद में पोते का सुख।
    पोती को बाहर चली गयी पढ़ाई करने।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत शांति रहती है घर में
    बेटे के वितान तले
    पिता घुटता है
    माँ सहमती है
    बच्चे बढ़ कर ऊँचे तो होते हैं,
    पसरते नहीं!


    उफ़्फ ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सब पाया इस घर में हमने,
    जीवन लगा यहीं अब रमने।

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम भूल गए हैं रख के कहीं …


    http://bulletinofblog.blogspot.in/2013/08/blog-post_10.html

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर उदासी में कसक है...मन को गहरे कहीं छू जाती है.
    अति उत्तम!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुतियाँ ( 6 अगस्त से 10 अगस्त, 2013 तक) में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    उत्तर देंहटाएं
  9. पिछले २ सालों की तरह इस साल भी ब्लॉग बुलेटिन पर रश्मि प्रभा जी प्रस्तुत कर रही है अवलोकन २०१३ !!
    कई भागो में छपने वाली इस ख़ास बुलेटिन के अंतर्गत आपको सन २०१३ की कुछ चुनिन्दा पोस्टो को दोबारा पढने का मौका मिलेगा !
    ब्लॉग बुलेटिन के इस खास संस्करण के अंतर्गत आज की बुलेटिन प्रतिभाओं की कमी नहीं 2013 (13) मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।