सोमवार, 9 नवंबर 2009

क्षमा करिए


क्षमा करिए,सुबह मुझे आँसू भरी लग रही है।
क्षमा करिए मैं क्षोभग्रस्त हूँ।
क्षमा करिए मुझे निरपेक्ष प्रशांत बौद्धिकता से घृणा हो रही है।
क्षमा करिए अपनी सुविधाजीवी नपुंसक मनोवृत्ति के तले मैं स्यापा कर रहा हूँ।
क्षमा करिए मैं साम्प्रदायिक हूँ।
क्षमा करिए मुझे मानवाधिकार सिर्फ जुमला लग रहा है।
क्षमा करिए मैं यह मान बैठा हूँ कि आप को अंग्रेजी आती ही है।
क्षमा करिए आज अंग्रेजी ब्लॉग का यह लिंक दे रहा हूँ।
_________________________________________
Roots In Kashmir
_________________________________________

20 टिप्‍पणियां:

  1. आप जैसे भी हैं कथित मानवाधिकारवादियों और सेक्यूलर लोगों से हज़ार नही लाख,नही नही करोड़ो गुना अच्छे हैं।हम जैसे सैकड़ो लोग आपके साथ हैं और आप जैसे ही हैं।आभार कश्मीर की हक़ीक़त बयां करती रिपोर्ट पढने का मौका देने का।यासीन और उस जैसो को बुलाने और बोलने का मौका देने वालो पर सिर्फ़ तरस ही खाया जा सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इन बिचौलियों की वजह से ही बहुत सी समस्याएं सुधरने की जगह नासूर बन गई हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्षमा करिये, मुझे शर्म आती है कि कैसे हैं मेरे देश के विद्वतजन और कैसी है तुष्टीकरण की राजनीति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी नियत से किया गया कोई भी काम बुरा नहीं होता गिरिजेश जी, फिर इसमें क्षमा की क्या बात है।
    वैसे अच्छा होता कि आप क्षमा मांगने के बजाए इस पर खुले मन से अपने विचार भी रखते।
    आभार।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  5. सेक्यूलर का अर्थ हो गया है उनका समर्थन जो देश के विरोधी हैं. इसके पीछे विचारों का खोखलापन तो होता ही है, प्रचार पाने की इच्छा भी होती है. जो जितना नोटोरियस होगा उसके साथ रहने में उतना ही प्रचार होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अगर आप साम्प्रदायिक हैं तो मुझे साम्प्रदायिकता अच्छी लगती है ।

    लिंक का आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. पर्युषन दिवस की बधाई:) इस दिन ही जैन लोग क्षमा दान मांगते है॥....पर आज तो ऐसा पर्व होने की सूचना तो नहीं है!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्षमा कर देते. पर क्या अपराधी को उसी अपराध के लिए किसी और को क्षमा करने का अधिकार है?

    उत्तर देंहटाएं
  9. क्षमा योग्य सचमुच नहीं हैं हम -जो कुछ हो रहा है सभी तो आँखें मूंदे बैठे हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  10. पचास साल बाद देश की तस्वीर का खाका खीचने की कोशिश करे तो ...भय सा लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  11. हमारी हालत उस कबूतर जैसी हो गई है जो बिल्ली को आता देख अपनी आँखें मूँद लेता है.

    आज हमारी हालत वैसी ही है जैसे ईस्ट इंडिया कम्पनी एक एक कदम बढा रही थी और हमारे नवाब उन्हे तोहफ़े पर तोहफ़े बक्श रहे थे, जागीर बाँट रहे थे...नतीजा क्या हुआ?

    हालात अच्छे नही हैं.कब तक झूठी सेक्यूलरिज़्म के बहकावे में आते रहेंगे? क्या अगला पक्ष भी सेक्यूलरिज़्म को मानता है ? नही, कभी नही. तो हम क्या करें? कब तक झूठ के सहारे जिएँ? अब तो ज़रूर हमें जागना होगा. एक जुट होना होगा वर्ना एक और पाकिस्तान ?????

    आप द्वारा दिए गए लिंक पर उपलब्ध अँग्रेज़ी पोस्टर अपने ब्लॉग पर दे रही हूँ जिसे पढ कर आँसू आ गए.

    उत्तर देंहटाएं
  12. यहां पर हारने वाले की जानिब कौन देखेगा
    सिकन्दर का इलाका है यहां पोरस नहीं चलता।
    दरिन्दे ही दरिन्दे हो तो किसको कौन देखेगा
    जहां जंगल ही जंगल हो वहां सरकस नहीं चलता।

    उत्तर देंहटाएं
  13. पढ्कर आ गया हूँ और सच्चाई भी पता है । कश्मीर मे मेरे एक कवि मित्र है ..अग्निशेखर जो खुद शरणार्थी है और लगातार इन सब पर लिख रहे है .. उन्ही के संग्रह " जवाहर टनल" से उनकी एक कविता का यह अंश प्रस्तुत कर रहा हूँ ।


    .खुला था आसमान सुरंग से बाहर

    और
    हम उतरे पर्वतों से शरणार्थी कैम्पों में

    फैल गये सम्विधान के फफोले तम्बुओं मे
    बिलबिलाये कीड़ो की तरह
    जुलूसो में
    धरनो में
    हम उछले नारों में
    दब गये अत्याचारों में ...
    .

    उत्तर देंहटाएं
  14. गिरिजेश जी ,
    आज कहने को कुछ नहीं है......सोचने को बहुत कुछ है ...और करने को उससे भी ज्यादा ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. कुछ कहें इससे पहले ही हम साम्प्रदायिक होने को तैयार हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  16. गिरिजेश जी ये तो दृश्‍य है बाकि तो दर्द अभी और भी है।

    देश मे सेक्‍यूलर की परिभाषा कब तक ऐसी दी जाती रहेगी ?

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।