शनिवार, 15 अगस्त 2009

मेरी पचासवीं पोस्ट

चार महीने की सक्रियता के बाद आज किसी की बासठवीं वर्षगाँठ पर यह पचासवीं पोस्ट लिख रहा हूँ।

मुझे कोई ब्लॉग मिला है जिसके बारे में मैं यह कह सकता हूँ कि यदि मेरे ग्रेजुएशन के दिनों में ब्लॉगरी हो रही होती तो मैं ऐसा ही कुछ लिखता ।

वही उग्रता। वही निर्भीक पैनापन और लड़ने भिड़ने (?) को उद्यत वही जज्बा । हर बात को डिसेक्ट कर तार तार कर देने की आदत जो कभी कभी अपने पैरों पर ही कुल्हाड़ी मार लेने जैसी थी।

अधिक नहीं कहूँगा। न जाने इस युवा ने 27 जनवरी 2009 के बाद लिखना क्यों बन्द कर दिया?

17 टिप्‍पणियां:

  1. हाफ सेंचुरी की बधाई ...फुल का इन्तजार है ...और हमेशा रहेगा स्कोर बढ़ते जाने का ...शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  2. पचासवीं पोस्ट की बधाई । आपके दिये लिंक पर जा रहा हूँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बधाई हो जी बधाई। बड़ी फ़ुल इस्पीड है। इसई से चले रहिये। कार्तिकेय लगता है इंजीनियरिंग की पढ़ाई में मशगूल हो गये। उम्मीद है कि फ़िर माउस संभालेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ५०वीं पोस्ट की बधाई व इस अवसर पर कार्तिकेय के ब्लॉग की याद दिलाने हेतु आभार

    पता नहीं क्यों एक अजीब सी आशँका ने भी आ घेरा है :-(

    उत्तर देंहटाएं
  5. मगर यह अदम्य साहसी और ऊर्जा से लबरेज युवा गया कहाँ ?

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बधाई अर्ध शतक मारने के लिए। अब आलसी के चिट्ठे को श्रेष्ठतम 50 हिंदी ब्लोगों में भी ले आइए, भले ही इससे आलस का कचूमर बन जाए!

    उत्तर देंहटाएं
  7. @ अन्ना,
    "टे टें टें Sss
    टिरी टिरी टिरी ई ई "

    आप की टिप्पणी चार सौ वीं थी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. पचासवीं पोस्ट की बधाई। बंधु, याद रहे..... कभी न कभी जीवन में यू टर्न लेना पड़ता है और फिर एशस से एक फ़ोनिक्स की तरह उठना भी॥

    उत्तर देंहटाएं
  9. अर्धशतक की बधाई। इसी तरह फार्म में बने रहें। कार्तिकेय जी का लिंक देने के लिए धन्‍यवाद। आशा करता हूं कि आपकी पुकार उन्‍हें ब्‍लॉगलेखन में शायद लौटा लाए...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सर्वप्रथम अपनी किताब के चक्कर में कुछ ज्यादा ही स्वार्थी हो गया था जिससे यहाँ आने में हुई देरी के लिए माफ़ करिए।

    इस पड़ाव तक की यात्रा पूरी करने की आपको बहुत-बहुत बधाई। आप जबसे वास्तव में सक्रिय हुए हैं तबसे यहाँ तक की ‘दौड़’ खासी तेज रही है। एक आलसी की तो कतई नहीं कही जा सकती। अब आपके ब्लॉग का नाम कबीरदास की उलटबासियों की याद दिलाता है।

    जहाँ तक आपने एक नौजवान के चिठ्ठे की बात की है तो बस यहाँ चटका लगाइए, फिर बताइए कैसा है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. कार्तिकेय के ब्लॉग पर कुछ हलचल हुई है। तस्वीरें बदल गई हैं

    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  12. बधाई जी हार्दिक बधाई. बस सैकडे की बधाई देने की प्रबल इच्छा हो रही है.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  13. पचासवीं पोस्ट की बहुत बहुत बधाई.. अब नियमित लिखिएगा .. हैपी ब्लॉगिंग.

    उत्तर देंहटाएं
  14. इमानदारी से कहता हूं, आपके चिट्ठे पर यदा कदा ही आया हूं.. पर अब लगातार आता रहूंगा.. बहुत बहुत बधाई 50 पोस्ट पूरे करने के लिये..

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।