मंगलवार, 20 मार्च 2012

वेश्या


कपड़े सँभालते हुये उसने दिन के अपने अंतिम ग्राहक से पूछा - साहेब! अपनी औलाद के बारे में कुछ बताओ। ग्राहक को अचरज हुआ। वह बैठ गया।
'तुमने क्यों पूछा?'
'बस ऐसे ही। अब्बू की याद आ गई।.... हरामी! तुम्हारी छुअन वैसी ही लगी मुझे। कहाँ थे अब तक?'
नीमजाड़ा था लेकिन वह फिर से पसीने पसीने हो गया। उसमें इतनी अक्ल नहीं थी कि थोड़ी देर पहले के पसीने से  इस पसीने का फर्क कर पाता। बहुत ही कमजोर आवाज़ में उसने पूछा - गाली देनी ज़रूरी थी?
'साहेब! मेरे ग़म में अब्बू जरूर चल बसे होंगे...बिना गाली के पूछ नहीं पाती। ... आप ने बताया नहीं?'
'बेटी है एक।'
'क्या उमर होगी?'
'बारह ... क्यों?'
उसने नाक सुड़की और मुँह दूसरी ओर कर लिया - रंडीबाजी क्यों करते हो? एक बेटी के बाप हो...
उसका चेहरा लाल हो गया। वह चिल्लाया - औकात में रहो! हालाँकि भीतर कुछ जल उठा था जिसे उसने बची हुई दारू को गटक बुझाने की कोशिश की।
'हमारी औकात तो आप से है जान! ...बुरा मत मानो। चार बरस हो गये, बारह की ही थी तो यहाँ उठा लाई गई थी।... तुम्हारी जोरू ....' उसने बात अधूरी छोड़ दी।
'गुजर गई... इसीलिये तो यहाँ....' ग्राहक ने भी बात अधूरी छोड़ दी।
लेकिन दोनों पूरी तरह समझ गये।
 उसने वेश्या के जिस्म को नई नज़र से निहारा और पूछ बैठा - तुम तो बहुत सयानी लगती हो, मेरा मतलब सोलह की नहीं...
 घड़ी से ही पता चल रहा था कि शाम ढल चुकी थी। मेकअप पुता चेहरा बल्ब की पीली रोशनी में और पीला हो गया, उसने इशारे से गद्दे का एक कोना उठाने को कहा। ग्राहक के हाथ में गोलियों का एक पत्ता आ गया।
'क्या है यह?'
'वही...' वह सिसकी थी - वही गोली खा कर हम ऐसी हो जाती हैं। इसे किसान अपने जानवरों को मोटा करने के लिये खिलाते हैं। सोचो हम खायेंगी तो ....वेश्या ने उघाड़ दिया।
उसे लगा कि नज़रों में हाथ हैं जो लुंज पुंज हो गये हैं। पापा को चौंकाने को बेटी का आँख मूँद लेना कौंध गया। आँखें बन्द करते वह चिल्लाया - शर्म कर बेशरम!
दरवाजे पर ठकठक हुई। बाहर से किसी स्त्री ने पुकारा था - ओये! फारिग हो गई के? एक मोटा असामी आया है।
वेश्या ने दरवाजा खोला और फुफकारते हुये बोली - यह मेरी इबादत का वक़्त है। जबरी की तो ....
'गाहक तो अन्दर बैठ्ठा है!'
'गाहक नहीं, वह मेरा बापवाला है...अपने भँड़ुओं से कह दो आज का टैम खत्तम, कल आयें।'

कुटनी हैरान सी चली गई।     

28 टिप्‍पणियां:

  1. पढना मुश्किल हो जाता है! कैसे लिख पाते हैं आप!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहा नहीं जाता तो लिखते हैं। यह बात और है कि लिखा भी नहीं जाता ...फिर भी बात तो कहनी ही होती है, भले पन्ने सिकुड़ कर एक की संख्या भी पूरी न कर पायें।

      हटाएं
    2. ...भले ही सिकुड़ा हुआ पन्ना एक सैकड़ों का असर बिखरा जाये!
      कहाँ-कहाँ पहुँचते हो, क्या-क्या लिखते हो भैया! गज़ब!

      हटाएं
  2. फिर से एक तमाचा आचार्य जी!! सन्न हूँ!! अभी पिछले हफ्ते फिल्म "थैंक्स माँ" में और फिल्म "बोल" को देखकर सन्नाटे में था.. आपने एक तमाचा और जड़ दिया!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. उफ़.. बहुत जोर की लगी है. इतनी कि जो अपराध हमने कभी नहीं किये उनपर सिर्फ पुरुष होने को लेकर शर्मिंदा हो रहा हूँ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कहीं सुना और देखा भी है अभी अभी कोई 'पाकिस्तानी मंटो; लेखिका है ,सुन्दर भी है ....
    जोड़ी भिड़ाई लो गिरिजेश बाबू .... :)
    आपने कैसे लिखा जाता है यह गुर बता दिया नाहक ही, अब लोग नक़ल कर लेगें तो ?:)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. 3 दिन लगे मुझे यह निर्णय लेने में कि इसे ऐसी कहानी के रूप में प्रस्तुत करूँ जो स्याह को जर्रा जर्रा तार तार कर सामने रख दे! इसे 'बी' इतनी लम्बी कहानी होना था लेकिन साहस डोल गया इसलिये अति लघु कथा, फिर भी जो संकेत हैं, पर्याप्त हैं... मन की गुहा में जाने कितने सर्प सोये पड़े हैं! उन्हें छेड़ कर फुफकार सुन लेना, सुना देना अलग बात है और उन संग खेल लेना अलग। मैं आग से गुजरना नहीं चाहता था तब जब कि कोई और बीड़ा उठाये हूँ... कभी कभी सोचता हूँ कि नेट का त्याग ही कर दूँ... यह सच सामने लाना था, ले आया।
      पता था कि कहानी के रूप और ट्रीटमेंट पर मंटो का नाम सामने आयेगा। वह बहुत महान थे, इतने कि इन गलियों में स्वयं गये और नंगे सच को देखा, दुनिया को सिहरा सिहरा कर दिखाया; मैं उनके आगे कहीं नहीं ठहरता। नये युग की कौन हैं, नहीं पता...करने दीजिये नकल! इश्क़ वालों को कौन रोक पाया है?

      हटाएं
  5. 'तुमने क्यों पूछा?'
    'बस ऐसे ही। अब्बू की याद आ गई।....

    म्हाराज जी ! मेरे तो विसरा इतने में ही बाहर आ गये।

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस गोली के बारे में पहली बार सुन रहा हूँ ...कुछ और बतायेंगे क्या? हम इसके साइड इफेक्ट्स जानना चाहते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Oradexon. बंगलादेश मे लाइसेंस प्राप्त रेड लाइट क्षेत्रों में अवयस्क लड़कियों को मोटी ताजी दिखाने के लिये प्रयुक्त corticosteroid drug. करुण कहानी है यह!
      लिंक ये हैं:
      http://goo.gl/J18PT

      http://goo.gl/H0kPk

      हटाएं
    2. मेरा अनुमान सच निकला। कॉर्टिकोस्टेरोइड्स के घातक परिणाम कई बार देख चुका हूँ। इन लड़कियों की ज़िन्दगी नर्क से भी बदतर बनाये दे रहे है लोग। मुझे सिहरन हो रही है लड़कियाँ बुरी मौत मारी जायेंगीं।

      हटाएं
  7. दरकते सत्य हैं, यह समाज के। न लिखने का भार कहीं अधिक होता। लिख देने से यदि कड़ुवाहट आ भी गयी तो वह समाज को समझनी होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ठीक से समझने के लिए २ बार कहानी पढ़ी, स्तब्ध हूँ. सच में मंटो याद आ गए

    उत्तर देंहटाएं
  9. अद्भुत संयोग यह आज ही कल में यहाँ भी रहा है -
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  10. bangaladesh ki ek rapat ek do din pahale paper main padhi thee...

    uske baad aap ki ...

    jai baba banaras....

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच्चाई कडवी होती है पर सच्चाई को कहानियों का रूप देने में जो आपकी महारत है उसकी मैं कायल हूँ ... बी मेरी पसंदीदा कहानी है, वेश्या आपके मुह पर एक नहीं कई चांटे मारती है तब तक जब तक आप बेहोश ना हो जाए ..मन ग्लानी और क्षोभ से भर गया

    उत्तर देंहटाएं
  12. ह्म्म्…… कहानी के माध्यम से समाज का घिनौना पक्ष उजागर किया आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अन्तर है बहुत!
    हम जैसे पढ़ के हूक धरे, जीभ का कसैलापन घुलाये चले आत़े हैं।
    एक रात रोटी नहीं टूटती, बस!
    आप लिख ले जाते हैं।
    इस सिकुड़े पन्ने में ढेर है गिरिजेश जी!

    उत्तर देंहटाएं
  14. कंसैप्‍ट बहुत ही ज्‍वलंत है सच को सुनना वाकई में कठिन होता है यह समाज की सच्‍चाई है

    उत्तर देंहटाएं
  15. आज निगाह गयी इसपर ... सिर्फ इतना ही कह सकता हूँ ...


    प्रणाम !

    उत्तर देंहटाएं
  16. जो बच्चियां कोठों पर लाई जाती हैं उनके हाल सोचकर मन खराब हो जाता है। कितने रूप हैं समाज के।

    उत्तर देंहटाएं
  17. यह दुनिया जहां आदमी कुछ नहीं है |
    जला दो इसे, फूँक डालो यह दुनिया |

    उत्तर देंहटाएं
  18. निरुत्तर समाज की कडवी सच्चाई जिसकी बेटी होगी वो इसको पढ़ कर एक बार जरूर सिहर जाएगा

    उत्तर देंहटाएं
  19. जय मां हाटेशवरी....
    आप ने लिखा...
    कुठ लोगों ने ही पढ़ा...
    हमारा प्रयास है कि इसे सभी पढ़े...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना....
    दिनांक 26/11/2015 को रचना के महत्वपूर्ण अंश के साथ....
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की जा रही है...
    इस हलचल में आप भी सादर आमंत्रित हैं...
    टिप्पणियों के माध्यम से आप के सुझावों का स्वागत है....
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    कुलदीप ठाकुर...

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।