शनिवार, 1 जनवरी 2011

शुभकामनायें चवन्नी छाप नहीं

 ...कल रात जहाँ भी शुभकामना सन्देश देने के लिए ट्राई किया, या तो बी एस एन एल साहब ने इनकार कर दिया या मोबाइल उठा भी तो शोर शराबा और हेलो, हेलो ...कट। बन्दों ने पलट कर काल करने की जहमत नहीं उठाई। एस एम एस से मेरी बनती नहीं। बाद में खयाल आया कि उनके मौजा ही मौजा में मैं मूर्ख बेफिजूल ही खलल डाल रहा था। आलसी महराज! तुम्हें रात की पार्टी सार्टी के समय ही सूझी? ग़लत समय पर नेक इरादे!
... मैं तो आज के दिन याद ही करता रह जाता हूँ कि यार! लास्ट टैम इसे कब सेलीब्रेट किया था? याद ही नहीं आता। Such a dull, insipid, bore man!
हाँ, कुछ ग्रीटिंग कार्ड, कुछ फूल, कुछ मुस्कुराहटें अवश्य याद आती हैं। 
अपनी जमा पूँजी वही हैं, चक्रवृद्धि क्या साधारण ब्याज भी नहीं लगता और मूलधन की क्रय क्षमता घटती ही जा रही है।... दो दिन पहले पढ़ा था कि अब चवन्नी इतिहास की वस्तु होने जा रही है।
 कहीं क्रय क्षमता घटते घटते मेरी जमा पूँजी भी चवन्नी तो नहीं हो जाएगी? 
छड़ यार! अल्लसुबह क्या बकबक करने लगे?...

यादों में मगन रहिये, वर्तमान नववर्ष मनाइये और भविष्य के उजले सपने देखिए।
मेरी शुभकामनायें हमेशा आप के साथ हैं, कभी चवन्नी नहीं होंगी।

24 टिप्‍पणियां:

  1. aadrniy bhaaijaan nye andaz men nyi umng or nye vaayde ke sath chvnni chhap kuchh nhin hogaaa ke drd snklp ke sath aapne nye saal ki jo mubark bad di he khuda kre pure desh men or khaskr bloginh duniya amen aesaa hi sb kuchh h jaaye jnaab is naachiz ki to chvnni bhi nhin chlti isliyen iskki trf se nye saal ki mubarkbad svikar kren . akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके लिए हमारी सवाई (रूपये पर चवन्नी) शुभकामनाएँ!!

    नववर्ष क्या हमारी तो सदैव ही आपके लिये मंगलभावनाएँ रहती है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. @यादों में मगन रहिये, वर्तमान नववर्ष मनाइये और भविष्य के उजले सपने देखिए।

    कहने का तात्पर्य ये है की तुरंत रजाई में घुसा जाए.... और गरमा गर्म गाज़र का हलवा खा कर सोचा जाए...... तभी तो भविष्य के कुछ उजले सपने दिखेंगे|

    येही न आचार्य|

    उत्तर देंहटाएं
  4. यादों में मगन रहिये, वर्तमान नववर्ष मनाइये और भविष्य के उजले सपने देखिए।
    मेरी शुभकामनायें हमेशा आप के साथ हैं, कभी चवन्नी नहीं होंगी...........
    यही असली बात है,आपकी शुभकामनायें कभी चवन्नी में नहीं ढल सकती.
    शुभ नव वर्ष.

    उत्तर देंहटाएं
  5. देखो भाई, पहली बात तो बी एस एन एल वाले चाहते हैं कि लोगों के बीच आपसी प्रेम ज्यादा बढ़े।

    इसलिये बातचीत या तो होने नहीं देते या फिर कट कुट कर देते हैं। ऐसे में अधूरी बातचीत या इंतजार ए गुफ्तगू कुछ ज्यादा ही आकर्षित कर देता है। कहा भी गया है कि जिस चीज के लिये मना करो उसे लोग और अदबदाकर करते हैं।

    तो इस बात को इस नजरिये से समझो कि इंतजार का भान और लोगों में एक दूसरे के प्रति बातचीत की कशिश हेतु ही बीएसएनएल ने इस तरह की कवायद करवाई।

    वरना तो यदि बातचीत हो जाती या एसएमएस कर बैठते तो वहीं पर कशिश खत्म. तब भला यह पोस्ट निकल कर आती क्या :)

    नववर्ष की हचक कर शुभकामना :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. आँख बन्द कर मगन रहिये, नव वर्ष में आनन्द उठाइये।

    उत्तर देंहटाएं
  7. भैया जी,
    बी एस एन एल का हमारे बिहार -यु पी में एक और नाम दिया गया है--भाई साहब नहीं लगेगा. :)
    चाहें चवन्नी छाप हो या सवाई छाप शुभकामना तो शुभकामना होती है और उसकी ना तो क्रय शक्ति घटती है और ना ही उस पर चक्रवृद्धि अथवा साधारण ब्याज हीं चढ़ता है.
    अतः यादों में मगन रहते हुए नव वर्ष मनाइए. अपना तो फंडा कुछ यूँ है कि,
    राहों पे रहते हैं, यादों में बसर करते हैं...
    खुश रहो अहले वतन अब हम तो सफ़र करते हैं........

    उत्तर देंहटाएं
  8. नववर्ष तो हम भी कमरे के अंदर ही बिता रहे हैं.. पर शुभकामनाओं के लें-दें में कोइ कमी नहीं है... आप भी आनंदित रहें नए साल में... और चवन्नी छाप तो पुराना है अब अठन्नी छाप भी बोल सकते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  9. अपनी अम्मा तो अबहुँ शुभकामना के नाम पर वही सवा रुपये का परसाद गछ लेती हैं मंदिर में... तो जब तक यह सवा रुपये के परसाद वाली अम्मा हमारे बीच है आपकी यह चवन्नी बड़े काम आएगी!
    आचार्य जी!शुभकामनाएँ हमारी भी आपके लिये और उनके लिये जिनकी झलक आपके प्रोफ़ाइल फोटू में दिख जाती है!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. नव वर्ष की आप सभी को शुभकामनाऎं
    अरे हमे फ़ोन कर लेते, हम तो खाली बेठे थे जी, ओर हमारे यहां शोर भी नही था, बीयर भी स्वाद नही लगी हमे तो कल, क्योकि पहले शेंपेन पी ली थी तीन गिलास,

    उत्तर देंहटाएं
  11. चवन्नी धरोहर है :)
    आपको, आपके परिवार-प्रियजनों और आपके सभी पाठकों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. भूत को गुनकर, वर्तमान को सुनकर और भविष्य को चुनकर रहिये जी, जो होगा देखा जायेगा।
    जिस दिन लगे कि शुभकामनायें चवन्नी बराबर रह गई हैं, इधर भेज दीजियेगा। यारों की चवन्नी अपने लिये गैरों की गिन्नी से बढ़कर है।
    मंगलकामनायें, आपको व आपके सभी निकटस्थ मित्रों, परिचितों, रिश्त्दारों को।

    उत्तर देंहटाएं
  13. याद रखें जो आप को एस.एम्.एस.करते हैं उनके पास आपसे बात करने का समय नहीं है...कारण कुछ भी हो...याने आप उनके लिए महत्वपूर्ण हैं लेकिन जो काम वो कर रहे हैं उस से कम...:-)

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  14. .
    .
    .
    यादों में मगन रहिये, वर्तमान नववर्ष मनाइये और भविष्य के उजले सपने देखिए।

    आप भी ऐसेइच्च करना... तभी लेंगे हम आपकी शुभकामनाओं को!


    ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक अजय ब्रह्मात्मज का फिल्म समीक्षा का ब्लॉग है नाम है चवन्नी चैप-ये चवनी छाप क्यों नहीं ?
    वो आपने चवनी की बात उठाई न तो सहसा यह असंगत बात भी याद हो आयी -बहरहाल नए वर्ष की शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  16. हमारी शुभकामनाएं भी आपके लिए कलदार रुपइया बनी रहेंगी.

    उत्तर देंहटाएं
  17. चवन्नी के साथ नारा भी इतिहास हो गया -
    एक चवन्नी चान्दी की

    जय बोल महात्मा गान्धी की!
    ----------

    अब तो जय 1,700,000,000,000 की!
    (शून्य में गलती सम्भव है।)

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।