मंगलवार, 12 जून 2012

हवन

इस साँझ जब कि बाहर लू से घिरा हूँ और भीतर संतृप्ति की शीतलता है, सुख है, आनन्द है, उत्सव के सकुशल बीत जाने पर संतुष्टि है; एक प्रिय कविता 'हवन' पढ़ने का मन कर रहा है। 
श्रीकांत वर्मा  के ये शब्द तब तक मेरी टेबल के शीशे के नीचे रहे, जब तक मैं फील्ड में रहा। जाने क्यों इन्हें देखते बहुत शक्ति मिलती थी। जाने पढ़ता था या नहीं, देखता अवश्य था।

अरसे बाद आज पुन: पढ़ रहा हूँ, मन ही मन - बोल कर नहीं: 

चाहता तो बच सकता था
मगर कैसे बच सकता था
जो बचेगा
कैसे रचेगा? 

पहले मैं झुलसा, फिर धधका
चिटखने लगा
कराह सकता था
मगर कैसे कराह सकता था?
जो कराहेगा
कैसे निबाहेगा? 

न यह शहादत थी, न यह उत्सर्ग था
न यह आत्मपीड़न था
न यह सजा थी
तब क्या था यह?

किसी के मत्थे मढ़ सकता था
मगर कैसे मढ़ सकता था?
जो मढ़ेगा कैसे गढ़ेगा!
*********

*************


.... कल से कोणार्क की ओर, आप मेरे साथ रहेंगे न?  

9 टिप्‍पणियां:

  1. सही में......

    तब क्या था यह?

    नहीं समझ पाए इसे,

    कभी कहता हूँ,
    तपस्या है ये = फल मिलेगा.

    कभी
    कर्म हैं ये = भुगतने पड़ेंगे.

    नहीं के सकता
    तब क्या था यह?

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप को मेरी पिछली पोस्ट समझ में नहीं आई और मुझे आप की यह टिप्पणी।
    साता पाता बराबर! आन्ही मानी दोष... हा, हा, हा :)

    वैसे आप की 'चेष्टा की चेष्टा' बहुत पसन्द आयी। जी+ पर टिपिया आया हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वीकार तो करना ही होगा, जैसा भी है, जो भी है, वहाँ से पुनः दिशा हो, उत्तर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जो कराहेगा
    कैसे निबाहेगा?

    बेजोड़ रचना...साझा करने का शुक्रिया...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही कहा!
    जो होनी थी वह हो रहती, अब अनहोनी का होना क्या?

    उत्तर देंहटाएं
  6. हमारे 'राजा बाबू' से सुना था 'a picture in the room is the picture in the mind of a person' टेबल के शीशे के नीचे रखे कागज़ के लिए भी इसे इस्तेमाल कर ही सकते हैं| मेरे अपने कमरे में स्वामी विवेकानंद की तस्वीर हमेशा रही है, छाती पर हाथ बंधे हुए - उठो, जागो और ..|

    उत्तर देंहटाएं
  7. दिल है तो धड़कने का बहाना कोई (क्यूँ) ढूंढे?

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर कवि‍ता पढ़वाने के लि‍ए धन्‍यवाद

    उत्तर देंहटाएं

कृपया विषय से सम्बन्धित टिप्पणी करें और सभ्याचरण बनाये रखें।
साइट प्रचार के उद्देश्य से की गयी या व्यापार सम्बन्धित सामग्री वाली टिप्पणियाँ स्वत: स्पैम में चली जाती हैं, जिनका उद्धार सम्भव नहीं क्यों कि उनसे दूसरी समस्यायें भी जन्म लेती हैं। अग्रिम धन्यवाद।